पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गहलोत बोले- गुजरात में शराब न मिले तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा या रूपाणी छोड़ें

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सीएम अशोक गहलोत - Dainik Bhaskar
सीएम अशोक गहलोत
  • शराबबंदी पर गुजरात व राजस्थान के मुख्यमंत्रियों मेंं वाक्‌युद्ध
  • गहलोत ने कहा- आजादी के बाद से वहां शराबबंदी हैं। फिर भी आसानी से शराब मिलती है

जोधपुर. गुजरात में शराबबंदी को लेकर राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और गुजरात के सीएम विजय रूपाणी में वाक्‌युद्ध छिड़ा हुआ है। मंगलवार को जोधपुर में सीएम गहलोत ने रूपाणी पर पलटवार करते हुए कहा कि वे सिद्ध कर दें कि गुजरात में शराब आसानी से नहीं मिलती ताे मैं राजनीति छोड़ दूंगा। अगर वहां शराब आसानी से मिलने की बात साबित हो जाए तो रूपाणी को सियासत छोड़ देनी चाहिए। गहलोत ने कहा- आजादी के बाद से वहां शराबबंदी हैं। फिर भी आसानी से शराब मिलती है। ये शराब पीने वाले और नहीं पीने वाले दोनों जानते हैं।
 
 
गहलोत ने रूपाणी के बयान पर सफाई भी दी। 
बोले- गुजरात में घर-घर शराब मिलने के मेरे बयान का यह मतलब ये नहीं कि गुजरात के 100% लोग शराब पीते हैं। गुजरात के सीएम ने बयान देकर मेरा काम हल्का कर दिया। इसकी घर-घर चर्चा होगी। गुजरात में शराब तस्करी रोकने के लिए उन्हें पड़ोसी राज्यों राजस्थान, मध्यप्रदेश व महाराष्ट्र की सरकारों से मदद मांगनी चाहिए करनी चाहिए। इस बारे में वे बात कर कार्ययोजना तैयार करें।
 
मेयर के सीधे चुनाव को लेकर जल्द निर्णय लेंेगे : गहलोत
निकाय अध्यक्ष का चुनाव सीधे जनता करेगी या पार्षद, इस बारे में यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल जल्दी ही जनता की भावना के अनुरूप निर्णय करेंगे। इस बारे में जनता से फीडबैक लिया गया है। जल्दी ही इस बारे में निर्णय किया जाएगा। 
 
वैभव की अलग राजनीति :
हाल ही में वैभव गहलोत के आरसीए का अध्यक्ष बनने के सवाल पर गहलोत ने कहा कि आजकल वैभव गहलोत अलग रहते हैं, अलग राजनीति करते हैं। वे जयपुर में किराए के मकान में रहते हैं। वे अपनी मर्जी से राजनीति में आए हैं। लोकसभा चुनाव में भी पार्टी व जनता की पसंद पर उन्हें टिकट मिला था। अब वे आगे राजनीति में कितना सक्रिय रहते है ये उन पर ही निर्भर करेगा। बार बार सीएम का पुत्र कहना अच्छा नहीं हैं। जोधपुर में क्रिकेट मैच के सवाल पर गहलोत ने कहा कि क्रिकेट युवाओं की पसंद है तो वैभव इसे प्रमोट करेंगे। पूर्व प्रतिपक्ष नेता रामेश्वर डूडी के पुत्र मोह में फंसने व सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग के आरोप का गहलोत ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि वे मेरे नेता रहे हैं। उनके बयान का मैं बुरा नहीं मानता हूं। उनकी गलती नहीं थी, भड़काने वाले आगे होंगे। वैसे मैं आरसीए के झगड़े में नहीं पड़ता।
 
राज्यपाल सक्रिय रहेंगे तो खुशी होगी :
राज्यपाल कलराज मिश्र के बाढ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करने और जनता को राहत देने के बारे में सीएम गहलोत ने कहा कि राज्यपाल सक्रिय रहेंगे तो मुझे खुशी होगी। वे प्रदेश में घूमेंगे, जनता की बात सुनेंगे तो अच्छा है, उन्हें यहां इलेक्शन तो लड़ना नहीं हैं।

खबरें और भी हैं...