ग्राउंड रिपोर्ट / मोदी के नाम की नैया पर सवार बाबा के लिए कांग्रेस के भंवर से बचने की चुनौती



कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंह कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंह
भाजपा प्रत्याशी बाबा बालकनाथ भाजपा प्रत्याशी बाबा बालकनाथ
X
कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंहकांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंह
भाजपा प्रत्याशी बाबा बालकनाथभाजपा प्रत्याशी बाबा बालकनाथ

  • अलवर में एक बार फिर कांग्रेस प्रत्याशी के सामने नाथ सम्प्रदाय के बाबा को उतारा गया
  • पिछला चुनाव बाबा ने राजा को हरा दिया था। नागौर शायद अकेली सीट है जहां मुद्दों से ज्यादा प्रत्याशी चर्चा में

Dainik Bhaskar

Apr 16, 2019, 05:45 AM IST

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राहुल गांधी के खास माने जाने वाले भंवर जितेंद्र सिंह के प्रत्याशी होने से इस सीट से कांग्रेस की प्रतिष्ठा जुड़ी है। वहीं, भाजपा बाबा बालकनाथ के नाम पर मैदान में है। मैदान में कांग्रेस भंवर बनाम बाबा की लड़ाई बता रही है तो भाजपा भंवर बनाम मोदी का प्रचार कर रही है। भाजपा का दावा है कि बाबा तो प्रतिनिधि हैं। वोट मोदी के नाम और काम पर है। राठ यानि बहरोड़-मुंडावर की हवा का तेज झोंका बाबा बालकनाथ काे अागे बढ़ाता दिखता है। वहीं, मीणा वाटी व मेवात पूरी ताकत के साथ भंवर की नैया पार कराने में जुटा है। दोनों दलों को अपनों से जबरदस्त खतरा है।

 

रामगढ़ : केसरोली रोड पर सड़क किनारे परिवार के साथ फसल काट रहे गिर्राज प्रसाद कहते हैं कि मैं बीजेपी को वोट देता आया हूं लेकिन इस बार भंवर साहब के साथ हूं। भंवर हारे तो जिला पिछड़ जाएगा। नौगांवा के हरियाणा बॉर्डर पर मूर्ति बना रहे किशनलाल शर्मा कहते हैं कि हम तो मोदी के साथ हैं। 

 

राजगढ़-लक्ष्मणगढ़ : रैणी रोड पर बबेली के पास थ्रेसर से फसल निकाल रहे हरिओम मीणा कहते हैं कि यहां तो 70 प्रतिशत में भंवर साहब बाकी 30 प्रतिशत में दूसरे दल हैं। बिचगांव रोड पर चाय के होटल पर बैठे मदनलाल सैनी कहते हैं कि प्रत्याशी कोई हो हमारा वोट तो मोदी को है। गंडूरा गांव के बाहर हलवाई की दुकान पर मिले जगदीश चौधरी कहते हैं कि हमारे पास कोई प्रत्याशी नहीं आया, आने पर ही फैसला करेंगे, हमें क्या करना है।

 

तिजारा- चाय की दुकान पर दस बारह लोग बैठे है। कहरानी गांव के कासिम बोले- शेर का भाई बघेरा। किसी को भी चुन लो हमारा तो कुछ नहीं होना। यहीं बैठे शरीफ का कहना था कि सारा देश कह रहा है मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे। तो ऐसा क्यों नहीं करते कि चुनाव ही मत करवाओ और मोदी को घोषित कर दो। 

(राजेश रवि संपादक, अलवर ). बहरोड़ व मुंडावर - यहां बाबा बालकनाथ का सीधा जोर है। हालांकि यहां से निर्दलीय विधायक चुने बलजीत यादव अब कांग्रेस के साथ हैं। नीमराना की एक फैक्ट्री से निकले लोगों से चुनावी सवाल किया तो वे भाजपा और मोदी की बात करने लगे। मोतीलाल ने कहा अब तो केवल देश की बात करनी है, जुमलेबाजी की बात तो कांग्रेस करती है। हमें हर हाल में मोदी को प्रधानमंत्री बनाना है।

 

किशनगढ़बास- शहरी क्षेत्र मोदी के साथ है। गांवों में मिलाजुला माहौल है। एडवोकेट संतोष गुप्ता ने कहा- राजनीति में सबकुछ थोपा जाने लगा है। हम चिंतन करें, इसकी जगह नेता तय कर रहे हैं कि हमें क्या सोचना है। खैरथल के ओमप्रकाश गुप्ता कहते हैं-मोदी के हाथ में ही देश सुरक्षित रहेगा।

 

अलवर ग्रामीण : मालाखेड़ा बाइपास पर होटल पर मिले श्यामबीर सिंह का कहना था कि मोदी देश हित में काम कर रहे हैं। उन्हें एक मौका और मिले। मेगा हाइवे पर झारखेडा भुल्ला का बास के सपात खान कहते हैं कि हम कांग्रेस के साथ हैं, बसपा को भी थोड़े बहुत वोट मिलेंगे। मोरेड़ा गांव के रामस्वरूप बैरवा कहते हैं कि हम तो हाथी के साथ हैं। दादर टोल टैक्स के पास होटल पर बैठे सुभान खां कहते हैं कि हमारे वोट के लिए कांग्रेस के कई ठेकेदार घूम रहे हैं। वोट किसे देना है, इसका फैसला अभी नहीं किया पर बसपा को देने का भी मन है।

 

अलवर शहर : स्पेयर पार्ट्स के दुकानदार राज कुमार मित्तल कहते हैं कि विधानसभा में बीजेपी को वोट दिया था। अब मन भंवर साहब को देने का है। भंवर स्थानीय हैं, बाबा जीतने के बाद दिखाई नहीं देंगे। अंबेडकर सर्किल के पास कोचिंग से लौट रहे छात्र सर्वेश कुमार का कहना था कि मोदी ने पाकिस्तान को सबक सिखा दिया। हम मोदी के साथ हैं।

 

 

 

election

 

 

election

 

 

कांग्रेस- मंत्री रहते करवाए कामों से लोगों में अच्छी छवि :
भंवर जितेंद्र सिंह ने वर्ष 2009 में मंत्री रहते हुए जो काम करवाए, उनसे लाेगाें में अच्छी छवि है। अब भी एक ही बात कि पुराने कामों को पूरा करवाएंगे। खतरा केवल इतना है कि पार्टी में जो बड़े लोग माने जा रहे हैं, वे गाड़ी में ही साथ बैठकर चल रहे हैं या फिर मैदान में भी गाड़ी को पार लगाने का काम कर रहे हैं। कांग्रेस प्रत्याशी के लिए विकास ही मुद्दा है।

 

भाजपा- हर सभा में मोदी का जिक्र कर वोटरों को लुभा रहे :
आमजन के लिए प्रत्याशी नया है पर हर सभा में मोदी की बात करना ताकत दे रहा है। वे स्वयं विकास की बात करते हैं। नए होने का एक फायदा यह भी है कि यहां की राजनीति के किसी धड़े में नहीं हैं। खतरा केवल इतना है कि पार्टी के कथित बड़े नेता हर रोज नया विवादास्पद बयान देकर सवाल खड़े करवा देते हैं। मैदान में बाबा की ताकत मतदाता और मोदी हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना