राजस्थान / रेलवे ट्रैक पर धरना दे रहे गुर्जर नेता बैंसला के पास आरक्षण बिल की कॉपी लेकर पहुंचे अधिकारी

Dainik Bhaskar

Feb 14, 2019, 07:53 PM IST


किरोड़ी लाल बैंसला। किरोड़ी लाल बैंसला।
सवाईमाधोपुर से धौलपुर और दौसा से आगरा मार्ग भी आंदोलन के चलते बाधित। सवाईमाधोपुर से धौलपुर और दौसा से आगरा मार्ग भी आंदोलन के चलते बाधित।
आईएएस नीरज के पवन विधेयक के बारे में किरोड़ी लाल बैंसला और उनके बेटे विजय सिंह बैंसला को बताते हुए। आईएएस नीरज के पवन विधेयक के बारे में किरोड़ी लाल बैंसला और उनके बेटे विजय सिंह बैंसला को बताते हुए।
विजय सिंह बैंसला और किरोड़ी लाल बैंसला विजय सिंह बैंसला और किरोड़ी लाल बैंसला
X
किरोड़ी लाल बैंसला।किरोड़ी लाल बैंसला।
सवाईमाधोपुर से धौलपुर और दौसा से आगरा मार्ग भी आंदोलन के चलते बाधित।सवाईमाधोपुर से धौलपुर और दौसा से आगरा मार्ग भी आंदोलन के चलते बाधित।
आईएएस नीरज के पवन विधेयक के बारे में किरोड़ी लाल बैंसला और उनके बेटे विजय सिंह बैंसला को बताते हुए।आईएएस नीरज के पवन विधेयक के बारे में किरोड़ी लाल बैंसला और उनके बेटे विजय सिंह बैंसला को बताते हुए।
विजय सिंह बैंसला और किरोड़ी लाल बैंसलाविजय सिंह बैंसला और किरोड़ी लाल बैंसला
  • comment

  • बैंसला ने कहा कि बिल का अध्ययन करने के बाद ही आंदोलन खत्म करने का होगा फैसला
  • गुर्जरों ने किशनगढ़ बास में रोड जाम की, सवाईमाधोपुर से धौलपुर और दौसा से आगरा मार्ग भी बाधित

जयपुर. राजस्थान में गुर्जर समेत पांच जातियों को पांच फीसदी आरक्षण देने संबंधी विधेयक पास होने के बाद गुर्जर आंदोलन खत्म नहीं हुआ। गुरुवार को आईएएस नीरज के.पवन विधेयक की कॉपी लेकर रेलवे ट्रैक पर धरना दे रहे गुर्जर नेता किरोड़ी लाल बैंसला के पास मालारना पहुंचे। अधिकारियों ने बिल के बारे में उन्हें जानकारी दी।

 

 

बातचीत के बाद बैंसला ने कहा, 'हम विधेयक का अध्ययन करेंगे। इसके बाद विचार करेंगे। आंदोलन को लेकर शाम तक फैसला होगा कि आगे क्या करना है। वहीं, बैसला के बेटे विजय ने कहा की अभी कागज आया है। आरक्षण नही आया है। हम इन कागजो को देखेंगे, समझेंगे, पढ़ेंगे जिसके बाद ही कोई फैसला लेंगे। विजय ने कहा कि बिल पर विचार करने के लिए हमने समाज के नेताओं को भी बुलाया है।

 

13 साल में 5वीं बार आरक्षण

गुर्जरों को 13 साल में 5वीं बार आरक्षण दिया गया है। इसके लिए 4 बार बिल लाया गया, एक बार नोटिफिकेशन जारी हुआ। पांचों ही बार यह कोर्ट में इसलिए अटक गया, क्योंकि इस 5% आरक्षण के कारण प्रदेश में कुल आरक्षण 50% से ज्यादा हो रहा था। इस कारण सरकार ने इन पांच में से दो बार 1% आरक्षण दिया। यह अब भी जारी है। 

 

आंदोलन का असर सातवें दिन भी

आरक्षण की मांग को लेकर 8 फरवरी से शुरू हुए गुर्जर आंदोलन का असर गुरुवार को भी है। प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को किशनगढ़ बास में जाम लगा दिया। साथ ही, बारां से गुना जाने वाले रास्ता भी जाम है। दिल्ली-मुंबई हाइवे पर अजमेर के पास मसुदा में भी सड़क बंद है। दौसा-आगरा मार्ग भी बाधित है। इसकी वजह से यूपी के शहरों से संपर्क टूट गया है।

 

पांच जातियों को मिला आरक्षण

बुधवार को आरक्षण संबंधी विधेयक विधानसभा में पास हो गया था। इसमें राज्य की बंजारा, गाडिया लौहार, गुर्जर, रेबारी, गड़रिया जातियों को सरकारी नौकरियों के साथ ही शैक्षणिक संस्थाओं में अलग से पांच फीसदी आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है।

 

राजस्थान में आरक्षण की मौजूदा स्थिति-

 

एससी     16%
एसटी     12%
ओबीसी     21%
स्पेशल बैकवर्ड क्लास - एसबीसी1 1%
कुल 50%

COMMENT
Astrology

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन