राजस्थान / हाड़ौती में बारिश से बाढ़ के हालात, बारां में सेना बुलाई तो उदयपुर में मकान गिरने से दंपती की मौत



Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
X
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi
Heavy rains and flood create havoc in Harodi

  • बारां में 33 यात्रियों को ले जारी बस रातभर पानी में फंसी रही, सुबह किया रेस्क्यू
  • झालावाड़, बारां में शुक्रवार को स्कूल्स में किया अवकाश
     

Dainik Bhaskar

Aug 16, 2019, 06:15 PM IST

जयपुर। राजस्‍थान के कोटा, बारां और पाली व उदयपुर जिलों में बारिश का कहर जारी है। कोटा, बारां व पाली जिलों में बाढ़ के हालात हैँ। उदयपुर के कोटड़ा में शुक्रवार को बारिश से एक कच्चा मकान ढह जाने से पति-पत्नी की मौत हो गई। बारां व झालावाड़ जिलों में जिला कलेक्टर ने शुक्रवार को स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी। बारां जिले के केलवाड़ा में गुरुवार को बहे व्यक्ति का शव शुक्रवार को मिल गया। यहां के कवाई में 33 यात्रियों से भरी एक बस पानी में फंस गई। यात्रियों को शुक्रवार सुबह रेस्क्यू कर निकाला गया। जिले में कालीसिंध, पार्वती और परवन उफान पर हैं। बारां का राज्य से संपर्क कटा हुआ है। जिला कलक्टर के अनुसार जिले मैं आर्मी की एक टुकड़ी को बुलाया गया है। उल्लेखनीय है कि  लहसी बांध से पानी छोड़ने और वर्षा जारी रहने के तहत एहतियातन ये कदम लिया गया है। कोटा में चंबल के सभी बांध लबालब हैं। कोटा के कैथून कस्बे में करीब पांच फीट तक पानी भरा हुआ है। कस्बा टापू बन गया है। जयपुर में भी तीन दिन से रुक-रुक बारिश जारी है।

 

देवगांव (जयपुर) : जयपुर व आस-पास के इलाकों में पिछले तीन दिन से रुक-रुक कर बारिश हो रही है। देवगांव काशीपुरा मार्ग बाधित हो गया। रक्षाबंधन के त्यौहार पर महिलाओं को विशेष परेशानी उठानी पड़ी। कई बहनों को तो भाई के राखी बांधने से वंचित रहना पड़ा। 

 

उदयपुर : जिले में अच्छी वर्षा हो रही है। जिले की कोटड़ा तहसील के नयावास ग्राम पंचायत के गांव वेराकातरा में शुक्रवार को कच्चा मकान ढह गया। वहां सो रहे अधेड़ पति-पत्नी की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे का पता चलते ही तहसीलदार भाणाराम मीणा नायब सुरेश मेहता मौके पर पहुंचे। एसडीआरएफ टीम भी पहुंची और शवों को मलबे से निकाला।

 

कोटा : जिले का कैथून कस्बा टापू बन गया है। यहां पांच फीट तक पानी भर गया है जिससे जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। वहीं चंबल नदी पर बने सभी बांध लबालब हैं। शुक्रवार को कोटा बैराज के 13 गेट पांच-पांच फीट तक खोलकर 90 हजार क्यूसेक पानी की निकासी की गई। वहीं झालावाड़ में भी बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। यहां भी बीते दो दिनों से लगातार बारिश हो रही है।

 

शुक्रवार को कालीसिंध के 11 गेट खोलकर ढाई लाख क्यूसेक पानी निकाला गया। इस बची एक अच्छी खबर भी है। बीसलपुर बांध से इस बार जयपुर, अजमेर व टोंक जिले को भरपूर पानी मिलेगा। आसपास हो रही बरसात से बांध का गेज बढ़कर 311.30 आरएमएम हो गया है। त्रिवेणी का गेज 7 मीटर से ज्यादा चल रहा है। यहां प्रति घंटे 5 सेंटीमीटर पानी की आवक हो रही है।

 

बारां : अटरू क्षेत्र में बीते 36 घंटों से हो रही लगातार बारिश से परवन, पार्वती, ल्हासी, भूपसी, नदिया व नाले उफान पर है। अटरू के 3 किलोमीटर दूर किशनपुरा बांध पर पार्वती नदी का विकराल तांडव रूप देखने को मिल रहा है। बड़े-बड़े पेड़, पशु बहे हैं। अटरू के किशनपुरा में बांध में 14 फिट पानी तथा देंगनी स्थित पुलिया पर 20 फिट पानी चल रहा है। नदी के विकराल रूप के चलते लगभग 20 गांव टापू बन गए हैं।

 

मध्यप्रदेश से लगते प्रदेश के बारां जिले में हालात खराब हैं। जिले की तीनों प्रमुख नदियों के उफान पर होने से बाढ़ के हालात हैं। कवाई में गुरूवार दोपहर खजुरिया डैम के गेट खोलने से कवाई सहित आस-पास के क्षेत्र में बाढ आ गई। इलाक़े के घाघोनिया, मुकन्दपुरा, फुलबड़ौद, कवाई टापू बन गए। ल्हासी व चरख नाले के बीच 33 यात्रियों को ले जा रही एक निजी बस फंस गई। सिविल डिफेंस टीम वहां पहुंची लेकिन उनकी बोट ही पानी में बह गए। बस रातभर फंसी रही और सभी ने भूखे-प्यासे रहकर रात गुजारी। करीब 15 घंटे के बाद शुक्रवार सुबह एनडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू कर सभी पीड़ितों को सकुशल निकाला।

 

कस्बे सहित आस-पास के क्षेत्र में पिछले दो दिन से मुसलाधार बारिश हो रही है। छीपाबड़ौद तहसील के खजुरिया डैम से करीब 13500 क्यूसेक पानी छोड़ दिया। अचानक ल्हासी नदी व चरस खाल्ल (नाले) का जलस्तर बढ़ गया। इससे दो बसें अंधेरी व ल्हासी नदी के बीच फंस गई जिन्हें मुकन्दपुरा गांव के लोगों ने संभाल लिया। साथ ही खानपुर-छबड़ा जाने वाली हाड़ा बस ल्हासी व चरस खाल्ल के बीच फसी गई। बस में 5 बच्चे, 10 महिलाएं एवं 18 पुरुष सवार थे।

 

वहीं गुरुवार को राजेंद्र मेघवाल अपनी पत्नी और आठ साल की बेटी हिना के साथ राखी मनाने मंडावरी गांव जा रहा था। हीरान गांव के नाले में हिना बह गई जिसका शव रेस्क्यू टीम ने निकाल लिया। अटरू में एक कच्चा मकान झह जाने से एक बच्ची की मौत हो गई। छीपाबड़ौद के तूमड़ा गांव में खेत पर गए मां बेटे बाढ़ में फंस गए। जिन्हें रात को निकाल लिया गाय। बारां के जिला कलक्टर इंद्र सिंह राव ने जिले में भारी वर्षा के चलते सभी विद्यालयों मैं 16 अगस्त का अवकाश घोषित किया है। मौसम विभाग की और से जिले सहित हाड़ौती भर में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

 

नागौर (मेडतारोड) : मारवाड़ में भारी बरसात के कारण मारवाड़ जंक्शन के पास पटरी के पास से मिट्‌टी गिट्‌टी निकल जाने से रास्ता बन्द हो गया। इस कारण बान्द्रा बीकानेर, नांदेड़ हिसार, सिकंदराबाद हिसार का मार्ग अजमेर हो कर कर दिया। जोधपुर में भारी बरसात के कारण रेलमार्ग बन्द होने से एक दर्जन से अधिक ट्रेनें बीच रास्ते में खड़ी हैं।

 

पाली: जिले में बाली के कोटबालियान पंचायत के टिपरी गांव में फीडर में बहने से एक महिला की मौत हो गई। कोट के पूर्व सरपंच अल्ताफ खान के अनुसार दातीवाडा की गीता (42) पत्नी केसाराम मेघवाल भाई को राखी बांधने जा रही थी। रास्ते में अचानक तेज बहाव आ जाने से वह बह गई। महिला विधवा है जिसके तीन संतान भी हैं। मौके पर मौजूद लोगों ने महिला को पानी से निकाला तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। 

 

भीलवाड़ा : जिले के शाहपुरा क्षेत्र में स्थित समेलिया खाल में आ रहे उफान मे अभी एक जीप (पिकअप) चालक ने पानी के तेज बहाव मे ही पुलिया पार करने की कोशिश की और पानी के तेज बहाव के कारण जीप असंतुलित होकर पानी मे बह गई जिसमें बिलिया का भंवर गुर्जर सहित 3 जाने सवार थे।
 

यहां भारी बारिश की चेतावनी

 

मौसम विभाग ने अजमेर, बांसवाड़ा, बारां, भरतपुर, बूंदी, चित्तौड़गढ़, दौसा, डूंगरपुर, झालावाड़, कोटा, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही, उदयपुर, बाड़मेर, जालौर, जोधपुर, नागौर तथा पाली में केवल शुक्रवार को भारी बारी की चेतावनी जारी की है। वहीं धौलपुर, भीलवाड़ा, करौली, सवाईमाधोपुर व टोंक में दो दिन तथा अलवर, जयपुर, सीकर व झुंझुनूं में तीन दिन बारिश की चेतावनी है। इसमें अजमेर, अलवर भरतपुर, भीलवाड़ा, बूंदी, चित्तौड़गढ़, दौसा, धौलपुर करौली, कोटा राजसमंद, सिरोही, टोंक में भारी से भारी बारिश की चेतावनी है तो पश्चिमी राजस्थान के जोधपुर, नागौर व पाली में भारी से भारी बारिश की रेड वार्निंग दी गई है यानी यहां ज्यादा एहतियात बरतने को कहा गया है।

 

बीते 24 घंटों में कहां कितने बरसे मेघ
 

अजमेर में 12.1, भीलवाड़ा में 117.0, वनस्थली में 29.1, जयपुर में 8.8, सीकर में 27.2, कोटा में 58.0, सवाईमाधोपुर में 30.0, चित्तौड़गढ़ में 124.0, डबोक में 79.8, बाड़मेर में 2.2, जोधुपर में 33.8, माउंट आबू में 118.0, फलौदी में 4.6 तथा चूरू में 3.0 मिमी बारिश रिकॉर्ड की गई।

 

बारां जिले में बरसात : सुबह आठ बजे तक अटरू में 241, छबड़ा में 256, छीपाबड़ौद में 200, बारां में 98, मांगरोल में 52, अंता में 90, किशनगंज में 75, शाहबाद में 47 मिमी बारिश हुई है।

बारिश से बारां-झालावाड़ मेगा हाईवे कल से बंद है। बारां- छबड़ा तथा बारां छीपाबड़ौद हाईवे भी बंद है।

 

इनपुट : आदित्य शर्मा, विनय जैन, शाहिद पठान, शुभम, अंकित जैन, कमलेश आशिका, राजेंद्र जैमन, मुकेश शर्मा, प्रकाश पालीवाल, अमित नाटाणी

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना