जयपुर / राजस्थान में 6 महीने में 81 ट्रेनों को दिया चुनावी स्टॉपेज, पांच नई ट्रेनें भी शुरू की



Increase stops of 81 trains in 6 months in Rajasthan
X
Increase stops of 81 trains in 6 months in Rajasthan

  • साढ़े चार साल तो मौन रहे, चुनाव नजदीक आए तो दस ट्रेनों को विस्तार दिया
  • नाममात्र का यात्रीभार होने पर भी दे दिया ट्रेनों को ठहराव, इससे ट्रेनें हुई लेट

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 03:15 AM IST

जयपुर (शिवांग चतुर्वेदी). जनप्रतिनिधियों, और सामाजिक संगठनों द्वारा ट्रेनों को अतिरिक्त ठहराव देने की मांग और नई ट्रेन चलाने की मांग एक सामान्य प्रक्रिया है। रेलवे इस तरह की अधिकांश मांगों को नियमों की बाध्यता बताते हुए रद्द कर देता है। लेकिन हाल ही में रेलमंत्री पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों, सांसदों और विधायकों के दबाव के चलते रेलवे ने छह माह में नियमों की अनदेखी करते हुए 81 ट्रेनों के स्टॉपेज दे दिए। वहीं पांच नई ट्रेनों का संचालन और दस ट्रेनों के संचालन को विस्तार भी दिया है। 
 

उत्तर पश्चिम रेलवे (राजस्थान का 85 फीसदी हिस्सा) ने जयपुर, जोधपुर, अजमेर और बीकानेर मंडलों के अलग-अलग रूट पर मेल/एक्सप्रेस/सुपरफास्ट ट्रेनों को राजनीतिक दबाव में आकर ठहराव दिए हैं। रेलवे ने सितंबर से फरवरी माह के बीच 81 ट्रेनों को अतिरिक्त ठहराव दिया है। 

 

दो मिनट के स्टॉपेज में पांच मिनट लेट होती है ट्रेन :

रेलवे ने मेल/एक्सप्रेस/सुपरफास्ट श्रेणी की ट्रेनों के लिए स्टॉपेज पॉलिसी बनाई हुई है। एक ट्रेन को किसी स्टेशन पर रुकने के लिए तीन मिनट का समय लगता है, इसे डी-एस्केलेरेशन प्रक्रिया कहते हैं। वहीं रुककर दोबारा चलने में दो मिनट लगते हैं। इसे एस्केलेरेशन प्रक्रिया कहते हैं। यानि दो मिनट का स्टॉपेज ट्रेन को पांच मिनट या इससे भी अधिक लेट कर देता है। यही कारण है ट्रेनें अक्सर लेट हो जाती हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना