--Advertisement--

स्पेशल-66 / पिछले चुनाव में पकड़ी थी 3 करोड़ से ज्यादा की नकदी, इस बार हर जिले में दो स्पेशल टीमें



डेमो पिक। डेमो पिक।
X
डेमो पिक।डेमो पिक।

  • 10 लाख या इससे अधिक के मामलों में सीधे कार्रवाई 
     

Dainik Bhaskar

Oct 19, 2018, 02:25 PM IST

जयपुर। राजस्थान का विधानसभा चुनाव भी कालेधन के इस्तेमाल से अछूता नहीं रहा है। पिछले विधानसभा चुनाव में 14 मामले सामने आए और आयकर विभाग ने तीन करोड़ चार लाख रुपए की नकदी जब्त की थी।

आयकर विभाग का स्पेशल प्लान

  1. इस बार भी विधानसभा चुनावों में काले धन की रोकथाम के लिए आयकर विभाग ने स्पेशल प्लान तैयार किया है। इस प्लान को मजबूती देने के लिए स्पेशल-66 का नाम भी विभाग के अफसरों ने दिया है। इसके तहत प्रत्येक जिले में एक नहीं दो-दो स्पेशल सेल का गठन किया गया है।

  2. ऐसे रख जाएगी निगरानी

    प्रत्येक जिले में इस सेल की जिम्मेदारी इनकम टैक्स ऑफिसर और इंस्पेक्टर्स के पास रहेगी जो गोपनीय सूचनाएं जुटाएंगे। इन तमाम सेलों पर पांच अधिकृत अधिकारी और 10 सब नोडल अधिकारी रहेंगे। जयपुर में कंट्रोल रूम बनाया गया है। इसके अलावा 11 एयर इंटेलीजेंस टीमें भी कालेधन की रोकथाम के लिए काम करेगी। 

  3. 10 लाख या इससे अधिक के मामलों में सीधे कार्रवाई 

    आयकर विभाग की टीमें 10 लाख रुपए या इससे अधिक राशि के केस में ही एक्शन लेती दिखेगी। इसके अलावा 1 किलो या इससे अधिक सोने के केस में एक्शन लेती नजर आएगी। इससे कम राशि पर प्रदेश का पुलिस - प्रशासन एक्शन लेता नजर आएगा। हालांकि इस राशि की जब्ती के लिए भी आयकर विभाग ही एक्शन लेगा। 

  4. बड़े बैंक ट्रांजेक्शन और हवाला कारोबारी राडार पर 

    आयकर विभाग अपनी वर्किंग के दौरान बड़े बैंक ट्रांजेक्शनों का डिटेल खंगालेगा। साथ ही हवाला कारोबार से जुड़े व्यक्तियों के ट्रांजेक्शनों का भी पता लगाएगा। विभाग का मानना है कि चुनावों में सबसे ज्यादा ब्लेक मनी का सोर्स हवाला कारोबार है।

     

    इसके अलावा जमीनों की खरीद- फरोख्त और जमीनों की पॉवर ऑफ अटॉर्नी के मामलों पर निगरानी रखी जा रही है क्योंकि ये भी काले धन जुटाने का एक बड़ा पार्ट माना गया है। 

     

    स्टोरी:  हर्ष खटाना

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..