जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल / नॉनवेज मेन्यू में खरगोश खड़ा मसाला और मखमली बटेर शामिल, कहीं प्रतिबंधित मीट तो नहीं बिक रहा?

जेएलएफ में मेन्यू को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। जेएलएफ में मेन्यू को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।
X
जेएलएफ में मेन्यू को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।जेएलएफ में मेन्यू को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है।

  • जंगली खरगोश पालना भी अपराध, सफेद खरगोश व बटेर के लिए अनुमति जरूरी
  • बेचने वालों ने कहा- सबकुछ अनुमति से हाे रहा, जांच होगी तो बता देंगे

Dainik Bhaskar

Jan 26, 2020, 02:41 AM IST

जयपुर. जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) में इस बार नॉनवेज खाने के मेन्यू में कंट्रोवर्सी का तड़का लगा है। यहां मखमली बटेर और खरगोश खड़ा मसाला के नाम से बिक रहा बटेर और खरगोश का मांस चर्चा में है। यह मीट आमतौर बाजार में बिकता नहीं है। ऐसे में मेन्यू में ये दो स्पेशल आइटम देखकर लोग चौंक रहे हैं।

सवाल यह भी उठ रहा है कि क्या इन जानवरों का मांस बनाया-बेचा जा सकता है? वाइल्ड लाइफ एक्ट के अनुसार जंगली खरगोश जो कि ब्राउन कलर का होता है। इसे पालना भी प्रतिबंधित है। सफेद खरगोश को लेकर वाइल्ड लाइफ एक्ट कुछ नहीं कहता, लेकिन फूड एक्ट के अनुसार अनुमति के बाद ही इसे बेचा जा सकता है। 


इसी तरह बाहरी बटेर को भी सफेद खरगोश की तरह अनुमति के बाद मीट के लिए काम में लिया जा सकता है, लेकिन जेएलएफ में मेन्यू को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। जांच का विषय बन गया है कि कहीं जेएलएफ में प्रतिबंधित मीट तो नहीं बिक रहा? मेन्यू को लेकर संबंधित से बात की गई तो उन्होंने कहा कि अनुमति के बाद ही इसे बेचा जा रहा है। हर किसी को नहीं दिखा सकते? कोई सरकारी एजेंसी पूछेगी तो बता देंगे।

वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट में ये प्रावधान....
रेंज अधिकारी जनेश्वर सिंह और एडवोकेट दीपक चौहान के मुताबिक वाइल्ड लाइफ प्रोटेक्शन एक्ट की धारा 51 में जंगली खरगोश को पालना दंडनीय अपराध है। हालांकि सफेद खरगोश को अनुमति लेकर मीट के काम में लिया जा सकता है। इसी तरह क्वेल (बटेर) के शिकार पर भी वन्य जीव संरक्षण कानून, 1972 के तहत प्रतिबन्ध है। इसे सिर्फ पालने आदि में काम ले सकते हैं। कुछ अन्य विदेशी पक्षी भी एक्ट में शामिल हैं। 

फिर भी मौके पर स्थिति देखकर ही फैसला लिया जा सकता है।
 

जेएलएफ के लिए अलग से लाइसेंस नहीं दिया: सीएमएचओ

सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम शर्मा ने कहा- जेएलएफ के लिए अलग से फूड लाइसेंस नहीं लिया गया है। दुकानवालों से पता कर रहे हैं कि उन्हाेंने किस तरह से काम किया है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना