जयपुर / पुलिस कमिश्नर से मुलाकात में भाजपा नेताओं ने कहा- दो दिन से जारी उपद्रव को रोकने में पुलिस तंत्र फेल



पुलिस कमिश्नर से मुलाकात करते भाजपा नेता पुलिस कमिश्नर से मुलाकात करते भाजपा नेता
X
पुलिस कमिश्नर से मुलाकात करते भाजपा नेतापुलिस कमिश्नर से मुलाकात करते भाजपा नेता

  • रविवार को चार दरवाजा में पथराव के बाद शुरु हुआ था उपद्रव
  • दो दिनों से ईदगाह, सुभाषचौक व गलतागेट क्षेत्र में जारी है उत्पात

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 08:14 PM IST

जयपुर. राजधानी में रविवार को चार दरवाजे पर कावड़ यात्रा के दौरान दो पक्षों में हुए पथराव व झगड़े के बाद पिछले दो दिनों से लगातार हो रही पथराव व आगजनी की घटनाओं में शामिल अराजक तत्वों के खिलाफ कार्यवाही की मांग को लेकर भाजपा नेताओं के एक प्रतिनिधिमण्डल ने जयपुर आयुक्तालय में बुधवार को पुलिस कमिश्नर आनन्द श्रीवास्तव से मुलाकात की।

 

जिसमें पूर्व गृहमंत्री व नेता प्रतिपक्ष गुलाबचन्द कटारिया ने पुलिस कमिश्नर से कहा कि राजधानी में एक के बाद एक लगातार इस तरह की घटनाऐं हो रही है और पुलिस इसकी रोकथाम में पूरी तरह फेल हो रही है। लोगों का धर्म पूछकर मारपीट की गई, उनकी गाड़ियां तोड़ दी गई और पुलिस कुछ भी नहीं कर पायी। लोगों ने भीड़ के रूप में इकट्ठा होकर बसों पर पथराव किया, गाड़ियां तोड़ी, लोगों के घरों पर पथराव किया।

 

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि ऐसे संवेदनशील इलाकों के थानों में अच्छे पुलिस अधिकारियों की तैनाती की जायें। राठौड़ ने कहा कि इस घटना में भी पुलिस की लापरवाही साफ नजर आ रही है। लगातार दो दिनों बाद भी पुलिस इस पर काबू ना कर पायें तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है।

 

पूर्व प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. अरूण चतुर्वेदी ने कहा कि हसनपुरा में कावड़ियों पर पथराव की घटना हुई, जिसका मुकदमा दर्ज करवाया गया, बावजूद इसके कोई कार्यवाही पुलिस ने नहीं की। इसके बाद ही शहर में दूसरी जगह इस तरह की घटनाऐं हुई। पुलिस अगर समय पर कार्यवाही करती तो इस तरह की घटनाओं को रोका जा सकता था।

 

चतुर्वेदी ने कहा कि पिछले दिनों शास्त्री नगर इलाके में भी इसी तरह की घटना हुई, भीड़ द्वारा लोगों के घरों पर पथराव हुआ, गाड़ियां तोड़ी गई। लेकिन उस घटना के दोषियों को भी अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया। प्रदेश प्रवक्ता व विधायक सतीश पूनियां ने कहा कि हरिद्वार जा रही बस पर हमला हुआ। 

 

शाहपुरा के एक परिवार को रोक कर उसके साथ मारपीट हुई। दर्जनों लोग घायल हो गये, पिछले दो दिन से शहर में अराजकता का माहौल है। धारा 370 के हटने के बाद पूरे देश में अलर्ट जारी किया गया था। पुलिस का सूचना तंत्र पूरी तरह फेल हो गया। 

 

पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि उन्हें घटना स्थल पर जाने से रोका गया, जबकि कांग्रेस विधायक अमीन कागजी और रफीक खान वहां घुमते रहे, पार्क के मन्दिर पर समुदाय विशेष के लोगों ने ताला लगा दिया, लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना