ALERT: अब दवा में भी हो रही मिलावट, इस बीमारी में काम आने वाली मेडिसिन मार्केट में बिक रही है नकली

राजस्थान न्यूज: असली दवा 5 हजार रु. की, नकली में 4 हजार का ले रहे हैं मुनाफा

Bhaskar News

Mar 17, 2019, 06:29 PM IST
Jaipur Rajasthan News in Hindi: Attention is now getting mixed in medicin

जयपुर (राजस्थान)। नकली और मिलावटी खानपान के बाद अब मुनाफाखोरी की ओवरडोज के चलते नकली दवाओं का मामला भी सामने आ रहा है। दिमागी बुखार यानी मेनिनजाइटिस नामक डिजीज के लिए काम आने वाली वैक्सीन चंडीगढ़ से लाकर खपाई जा रही थी। अनुमान है कि पिछले कई वर्षों से इस कंपनी की नकली दवा बाजार में बेची जा रही थी। ड्रग कंट्रोलर अजय फाटक के नेतृत्व में कालवाड़ रोड स्थित वी क्योर पर यह कार्रवाई की गई। फिलहाल विभाग ने जयपुर के चार और जोधपुर के 15 वायल पर रोक लगा दी है। यह वैक्सीन बच्चों और वयस्क के लगाई जाती है। सूचना मिली कि बाजार में इसके नकली इंजेक्शन आ रहे हैं।

कई जगह पड़ताल की गई तो पता चला कि वी- क्योर पर इस तरह के इंजेक्शन आते हैं और बेचे जाते हैं। शुक्रवार देर रात ड्रग विभाग की टीम वी-क्योर पहुंची। यहां पड़ताल की गई, लेकिन वायल बहुत ही छिपा कर रखी गई थी। इसके मालिक मनोज पूरे मामले को दबाने की कोशिश करता रहा। लेकिन बिलों की जांच में सामने आया कि चार वायल बची हुई हैं। इसके बाद इन्हें निकलवाया गया। मेनेक्टरा वैक्सीन कंपनी की वायल से मिलाया गया तो लेबल और प्रिंटिंग में फर्क था। पूछताछ करने पर मनोज ने बताया कि वह जोधपुर के वर्धमान मेडिकल (मालिक -डॉ. मुनोट) से यह खरीदता है। इसके बाद वहां टीम को तुरंत भेजा गया और वहां पर पूछताछ की गई। साथ ही उसे वहां मौजूद 15 वायल के बेचान पर रोक लगाई।

क्या है मेनिनजाइटिस
दिमागी बुखार को ही मेनिनजाइटिस कहा जाता है। दिमाग में ज्वर, सिरदर्द, ऐंठन, उल्टी और बेहोशी जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं। रोगी का शरीर निर्बल हो जाता है। वह प्रकाश से डरता है। कुछ रोगियों (बहुत कम) की गर्दन में जकड़न आ जाती है। कई रोगी लकवा के भी शिकार हो जाते हैं। ये सभी लक्षण मस्तिष्क की सुरक्षा प्रणाली के क्रियाशील (एक्टिव) होने के कारण प्रकट होते हैं।

5000 रु. की आती है एक वायल
यह दवा बाजार में 5000 रुपए प्रति वायल तक बेची जाती है। नकली दवा में कोई ड्रग केमिकल मौजूद नहीं मिला। ऐसे में माना जा रहा है कि पूरी दवा मरीज को कोई असर नहीं करेगी। यानी एक वायल पर ही करीब 4000 रुपए बचाए जा रहे थे। अभी बाजार में 350 वाॅयल प्रतिमाह बाजार में बेची जाती हैं। ऐसे में यदि 20 प्रतिशत दवा भी वी-क्योर बेचता है तो 40 वॉयल नकली बाजार में बेची जा रही हैं।


X
Jaipur Rajasthan News in Hindi: Attention is now getting mixed in medicin
COMMENT

Recommended News

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना