राजस्थान विधानसभा / नेता प्रतिपक्ष कटारिया ने कहा- त्योहारों पर गिफ्ट बांट बिजली चुरा रहे कारोबारी, घाटे में तो जाएंगे ही डिस्काम

नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (फाइल फोटो)। नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (फाइल फोटो)।
X
नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (फाइल फोटो)।नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया (फाइल फोटो)।

  •  बिजली कंपनियों के एक लाख करोड़ के घाटे पर कटारिया का हमला
  •  कटारिया ने कहा- पैसा जारी नहीं करने से आज भी भिक्षावृत्ति चल रही

दैनिक भास्कर

Feb 14, 2020, 02:34 AM IST

जयपुर. विधानसभा में राज्यपाल अभिभाषण पर बहस में नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने राज्य सरकार पर सबसे बड़ा हमला बिजली कंपनियों के एक लाख करोड़ के घाटे, भामाशाह योजना बंद करने और 82 फीसदी तक बढ़े अपराधों को लेकर किया। कटारिया ने कहा कि 70 वर्ष के लोग जो रिटायर हो चुके हैं, उनको सफेद हाथी साबित हो रही बिजली कंपनियों में क्यों बांध रखा है? कोई टेक्निकल आदमी भी नहीं है, लेकिन इसलिए बिठा रखे हैं कि बहुत अच्छे आदमी हैं। इन लोगों के बड़े पदों पर बैठे हुए बिजली कंपनियां क्यों एक लाख करोड़ के घाटे में चली गई? क्या आप इन हाथियों को नौकरी से निकाल सकते हो? उन्होंने दावा किया बिजली का सबसे बड़ा चोर किसान नहीं है। बल्कि हर होली दिवाली गिफ्ट बांटने वाले बड़े उद्योगपति है, जिनके प्रति हमारा अफसरों का दिल पिघला हुआ रहता है। कार्रवाई नहीं होती। उन्होंने जयपुर पृथ्वीराज नगर का नाम लेकर बोला.. आपका नियम है कि अवैध काॅलोनियों में बिजली कनेक्शन नहीं देंगे। पृथ्वीराज नगर में रात को घूम लो.. एक घर बता देना जहां बिजली नहीं है? 

सीएम जल स्वावलंबन योजना को बंद पर भी पलटवार हमने 3 लाख तालाब-बावड़ी तैयार की, आपने केवल नाम ही बदला
कटारिया ने सीएम जल स्वावलंबन योजना को बंद करने को लेकर कहा कि हमने 3 लाख वाटर बाॅडी तैयार की। आपने सरकार बदलते ही उसका नाम राजीव गांधी जल संशय योजना नाम कर दिया। जैसे सरकार को गलता है कि राजीव गांधी के नाम से योजना चलाएंगे तो ही सफल होगी? क्या मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना नाम सही नहीं था? आप भी तो वही 3900 गांव सलेक्ट कर 1.80 लाख वाटर बाॅडी तैयार करने की बात कर रहे हो। 

बजट जारी नहीं किया, जयपुर में आज भी भिक्षावृत्ति चल रही
कटारिया ने पिछले बजट में जयपुर को भिक्षावृत्ति मुक्त करने की घोषणा पर कहा कि एक साल में 10 लाख रुपए जारी करने थे जो नहीं किए।  एक पैसा जारी नहीं करने से आज भी जयपुर में भिक्षावृत्ति चल रही है। बजट की यह हो रही है क्रियान्विति?

कांग्रेस ने भामाशाह योजना बदली और बजट आधा किया
कटारिया ने कहा कि पिछली भाजपा सरकार ने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना चलाई थी। उसमें 2018 में 1150 करोड़ रुपए तक खर्च किए। लेकिन कांग्रेस ने इसको बंद कर नाम बदल दिया। इस योजना में एकाउंट आदि का कहीं फर्जीवाड़ा था तो दोषियों को लटका देते, लेकिन बदलने का क्या औचित्य? अब तीन योजनाएं क्लब कर दी। इससे इस साल बजट 500 करोड़ ही रह गया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि केंद्र की 12 प्रकार की सुविधाओं से युक्त वैलनेस सेंटर की योजना में राजस्थान की सबसे नीचे 28वीं रेंक पहुंच गई है। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना