Home | Rajasthan | Jaipur | News | चुनावी मौसम में चूहे निकल रहे हैं : किरण मंत्री की नाक-कान काट देंगे : करणी सेना

चुनावी मौसम में चूहे निकल रहे हैं : किरण मंत्री की नाक-कान काट देंगे : करणी सेना

उच्च शिक्षामंत्री किरण माहेश्वरी के एक बयान को लेकर करणी सेना और राजूपत नेताओं में आक्रोश फैल गया है। माहेश्वरी...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 13, 2018, 03:55 AM IST

1 of
चुनावी मौसम में चूहे निकल रहे हैं : किरण 
 मंत्री की नाक-कान काट देंगे : करणी सेना
उच्च शिक्षामंत्री किरण माहेश्वरी के एक बयान को लेकर करणी सेना और राजूपत नेताओं में आक्रोश फैल गया है। माहेश्वरी ने मीडिया की ओर से पूछे गए एक सवाल पर मंगलवार सुबह कहा था कि अभी चुनावी मौसम है, कई मौसमी चूहे बिलों में से निकल कर आ रहे हैं। असल में यह बयान उन्होंने सरकार के खिलाफ... कमल का फूल हमारी भूल...अभियान को लेकर पूछे गए सवाल पर दिया था। यह अभियान आनंदपाल एनकाउंटर के बाद राजपूत संगठनों की ओर से चलाया जा रहा है और इसकी अगुवाई करणी सेना कर रही है।

जैसे ही किरण माहेश्वरी का बयान सोशल मीडिया पर आया, करणी सेना के अध्यक्ष महिपालसिंह मकराना ने उनके खिलाफ उसी तर्ज पर बयान दे दिया जैसे उन्होंने फिल्म पदमावत के विरोध के समय दीपिका पादुकोण के लिए दिया था। उन्होेंने कहा कि ऐसा बयान देेने वाली मंत्री का करणी सेना नाक-कान काटेगी। मकराना के बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस बीच मंत्री माहेश्वरी का कहना है कि मीडिया ने करणी सेना और राजपूत समाज का नाम नहीं लिया था। मैंने मौसमी चूहों वाला बयान कांग्रेस के लिए दिया था। मुझे यह भी पता नहीं है कि कोई समाज या संगठन ऐसा कोई अभियान चला रहा है। मैंने मीडिया के सवालों को कांग्रेस से संबंधित समझकर अपना बयान दिया था।

राजपूतों और करणी सेना के लिए मैंने कुछ नहीं कहा, मेरी छवि खराब करने का प्रयास है

मैं अपने घर पर जनसुनवाई कर रही थी। उसी दौरान मीडिया के दो व्यक्ति मेरे पास आए। उन्होंने संस्कृत विश्वविद्यालय और वेद विद्यालयों को लेकर कुछ सवाल किए। जब बात पूरी हो गई तो उन्होंने कहा कि आपकी सरकार के खिलाफ नकारात्मक माहौल है। कांग्रेस कई सवाल उठा रही है। तो मेरा जवाब था कि कांग्रेस साढ़े चार साल बाद ऐसे सामने आई है जैसे चूहे बिलों में से बाहर आते हैं। न तो सवाल राजपूत समाज और करणी सेना काे लेकर था और न ही मैंने राजपूतों या करणी सेना का नाम लिया। सोशल मीडिया पर मेरी छवि खराब करने के लिए इस तरह के वीडियो और मैसेज वायरल किए जा रहे हैं। यह सब कांग्रेस का दुष्प्रचार है। -किरण माहेश्वरी, उच्च शिक्षा मंत्री

वादाखिलाफी के विरुद्ध राजपूत समाज निकालेगा धिक्कार रैली

जयपुर। राजपूत व रावणा समाज ने भाजपा सरकार की वादाखिलाफी के विरुद्ध आंदोलन को तेज करने का निर्णय लिया है। समाज की ओर से गांव, तहसील, जिला स्तर पर भाजपा धिक्कार सम्मेलनों का आयोजन करेगी। संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक गिरिराज सिंह लोटवाड़ा ने मंगलवार को प्रेस वार्ता में बताया कि इन सम्मेलनों में समाज को वसुंधरा मुक्त राजस्थान, कमल का फूल हमारी भूल की की शपथ दिलाई जाएगी। संघर्ष समिति के प्रदेश प्रवक्ता दुर्ग सिंह खींवसर ने बताया कि जयपुर में आगामी 21 अक्टूबर को वसुंधरा धिक्कार रैली आयोजित की जाएगी। रैली में शक्ति प्रदर्शन के लिए पांच लाख समाजबंधुओं को एकत्र करने के लिए संघर्ष समिति के सभी संगठन 24 जून को सामाजिक सद्भावना दिवस मनाएंगे। रावणा राजपूत समाज के प्रदेश प्रतिनिधि रणजीत सिंह गेंदिया ने बताया कि आंदोलन के क्रम में 25 जून को जैसलमेर जिले से वसुंधरा धिक्कार सम्मेलन की शुरुआत की जाएगी। प्रेस वार्ता में मारवाड़ राजपूत सभा के अध्यक्ष हनुमान सिंह खांगटा सहित मोहन सिंह हाथोज, रणजीत सिंह नोसल, मनोहर सिंह रूपपुरा, भंवर सिंह रेटा, बलवीर सिंह हाथोज, धीर सिंह शेखावत सहित राजपूत समाज के विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

जब तक माफी नहीं मांगेगी विरोध करेंगे: मकराना

किरण माहेश्वरी राजपूत समाज को चूहा समझेंगी तो नाक-कान के लिए ठीक नहीं रहेगा। किसको चूहा बोल रही हैं जिस राजपूत समाज ने भाजपा को खड़ा करने का काम किया है। आपके क्षेत्र में राजूपत समाज अलग हो जाएगा तो नाकों चने चबवा देगा। जब तक माहेश्वरी माफी नहीं मांगेगी राजपूत करणी सेना विरोध करेगी। -महिपाल सिंह मकराना, अध्यक्ष, करणी सेना

चुनावी मौसम में चूहे निकल रहे हैं : किरण 
 मंत्री की नाक-कान काट देंगे : करणी सेना
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now