• Home
  • Rajasthan News
  • Jaipur News
  • News
  • आईपीएल मैच पर सट्टे के लिए खोल लिया कंट्रोल रूम, 29 लाख रुपए, लेपटॉप-टीवी, 22 मोबाइल के साथ 4 सटोरिये गिरफ्तार
--Advertisement--

आईपीएल मैच पर सट्टे के लिए खोल लिया कंट्रोल रूम, 29 लाख रुपए, लेपटॉप-टीवी, 22 मोबाइल के साथ 4 सटोरिये गिरफ्तार

आईपीएल मैच पर सट्टा लगाने वालों के खिलाफ गुरुवार को एटीएस व मानसरोवर पुलिस बड़ी कार्यवाही की। चार सटोरियों को...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 04:00 AM IST
आईपीएल मैच पर सट्टा लगाने वालों के खिलाफ गुरुवार को एटीएस व मानसरोवर पुलिस बड़ी कार्यवाही की। चार सटोरियों को गिरफ्तार कर 29 लाख रुपए जब्त किए हैं। गिरफ्तार आरोपी सरगना बनेश बंसल स्वर्णपथ मानसरोवर, अरुण कुमार खोहाली प्रेमपुरा बामनवास, मनीष जैन हीरापथ मानसरोवर व सुरेश मीना जानकीपुरी सांगानेर के रहने वाले हैं। एटीएस के एडीजी उमेश मिश्रा ने बताया कि गुरुवार शाम को एएसपी बजरंग सिंह को सूचना मिली मानसरोवर के स्वर्णपथ स्थित एक मकान में आईपीएल मैच पर बड़ा सट्टा लगाया जा रहा है। उक्त सूचना पर सीआई मनीष बागड़ा और मानसरोवर एसएचओ सुरेन्द्र राणावत को टीम लेकर मौके पर भेजा। दोनों टीमों ने मकान में दबिश देकर कार्यवाही को अंजाम दिया। सटोरियों के कमरे में 23 लाख रुपए, 22 मोबाइल फोन, 3 लेपटॉप, 1 एलसीडी, 2 सैटअप बॉक्स और 6 बैंक खातों की पासबुक व चैक बुक मिली है। कार्यवाही के दौरान सटोरियों की कारों की तलाशी ली तो मनीष जैन की कार में 6 लाख रुपए छिपाए हुए मिले। प्राथमिक जांच में सामने आया कि इन पैसों के अलावा सटोरियों ने एक बैट अकाउंट खोल रखा है, जिसकी लिमिट 50 लाख से ज्यादा है।

ऐसे लगाते थे सट्टा : स्वर्ण पथ स्थित तीन मंजिला मकान बनेश बंसल का है। नीचे फ्लोर पर चैनल गेट लगा रखा है। सट्टा तीसरी मंजिल पर बने कमरे में लगाया जा रहा था। बनेश की बिना अनुमति कोई घरवाले और नौकर अंदर-बाहर नहीं जा सकते थे। किसी को बाहर जाना होता तो फोन करके बनेश बताना पड़ता और उसके बाद बनेश चारों तरफ देखकर गेट खोलने की अनुमति देता था। ऐसे ही बाहर से किसी को अंदर आना होता तो पहले बनेश को फोन करते थे, तब बनेश चारों तरफ देखकर गेट खुलवाता था। ऐसे में कार्यवाही करने के लिए गई पुलिस टीम भी घर के चारों तरफ घूमकर परेशान हो गई। आधा घंटा इंतजार किया तो अचानक एक रिश्तेदार बनेश से मिलने के लिए आया था। उसने भी चारों तरफ देखकर बनेश को फोन करके गेट खुलवाया। जैसे ही गेट खुला तो रिश्तेदार से पहले ही पुलिस टीम अंदर घुस गई।