Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» पैसे की बर्बादी : अरण्य भवन से जवाहर नगर के बीच डेढ़ साल पहले बने फुटपाथ को 4 बार तोड़ा

पैसे की बर्बादी : अरण्य भवन से जवाहर नगर के बीच डेढ़ साल पहले बने फुटपाथ को 4 बार तोड़ा

एक ओर सड़कों के गड्ढे भरने में लापरवाही हो रही है तो दूसरी ओर गड्ढे खोदकर पैसे की बर्बादी। अरण्य भवन से जवाहर नगर को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 12, 2018, 04:16 AM IST

पैसे की बर्बादी : अरण्य भवन से जवाहर नगर के बीच डेढ़ साल पहले बने फुटपाथ को 4 बार तोड़ा
एक ओर सड़कों के गड्ढे भरने में लापरवाही हो रही है तो दूसरी ओर गड्ढे खोदकर पैसे की बर्बादी। अरण्य भवन से जवाहर नगर को जाने वाली रोड पर फरवरी 2017 में साढ़े तीन करोड़ की लागत से रोड रिनुवल और फुटपाथ का काम कराया गया था। तीन महीने बाद ही जेडीए की बिजली विंग ने फुटपाथ पर रोड लाइटें लगाई। इसके लिए फुटपाथ को तोड़कर फिर ठीक किया गया। गड्ढे भरे ही थे कि जुलाई-अगस्त 2017 में जेडीए ने फुटपाथ पर पौधे लगाने की प्लानिंग की। फुटपाथ फिर तोड़कर ठीक कराया गया। इसी दरम्यान वन विभाग ने एक साइड में दीवार का काम शुरू कराया, जिससे फुटपाथ को फिर नुकसान पहुंचा, पौधे नष्ट हुए। अब एक बार फिर मौके पर आरवीपीएनएल की ओर से बिजली की लाईन डाली जा रही है, जिसके लिए फुटपाथ टूट रहा है। इस काम में भी ढिलाई हो रही है, जिसको ठीक करने के लिए संबंधित एक्सईएन ने लिखा है। कुल मिलाकर डेढ़ साल में फुटपाथ बनने के बाद से चार बार डेमेज हुआ और फिर बना। जो कि सिस्टम की अदूरदर्शिता और नाकामी को दिखाता है, जिसके चलते पैसे की बर्बादी हो रही है।

हालात देखिए... फुटपाथ तोड़कर जो पौधे लगाए वो नष्ट, लाइटें बंद, दीवार अधूरी

डेढ़ साल में चार बार जिन कार्यों के लिए फुटपाथ तोड़ा गया, उनकी हालत भी खस्ताहाल है। करीब 600 पौधों में से आधे ही बचे हैं, क्योंकि पौधे लगाने के साथ उनकी सार-संभाल के लिए ट्री गार्ड की कोई व्यवस्था नहीं की गई। ओटीएस चौराहे से जवाहर नगर की ओर किए गए प्लांटेशन पर जेडीए की उद्यान शाखा ने करीब 10 लाख के टेंडर किए थे। वहीं जो लाइटें लगाई गई उनमें से करीब 50 रोड लाइट बंद पड़ी है। वन विभाग ने दीवार का जो काम कराया, वह पूरा होने का नाम नहीं ले रहा। इसी दीवार के चलते प्लांटेशन को भी नुकसान पहुंचा।

जेडीए तो अपना काम एक बार में नहीं कर रहा

बार-बार टूटते बनते फुटपाथ को लेकर जेडीए की इंजीनियरिंग शाखा कटघरे में है। अमूमन बाकी विभागों में इंटीग्रेटेड प्लानिंग नहीं होने से सड़कों को बनाने के बाद तोड़ना होता है। यहां फुटपाथ बनाने वाला भी जेडीए था तो उसके बाद दो बार रोड लाइट और प्लांटेशन के लिए उसी ने फुटपाथ को तोड़ा और बनाया।

अरण्य भवन से जवाहर नगर वाली रोड के फुटपाथ का काम डेढ़ साल पहले किया था। तब से कई बार इस बार काम हुए हैं। जो काम हुए, उसके बाद उसको ठीक किया गया है। अभी बिजली लाईन के काम चल रहे हैं, जिनके गड्ढे तुरंत भरने को लिख दिया। खर्च आरवीपीएनएल ही उठाएगा। -बृजेश अवस्थी, एक्सईएन, जेडीए

लाइनें डालने के लिए जो गड्ढे करते हैं, उनको हाथों हाथ भरने के निर्देश हैं। हमारे इंजीनियरों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है कि महीनेभर में वो ये काम पूरा करा दे, नहीं तो जिम्मेदारी तय होगी। -ललित शर्मा, निदेशक इंजीनियर, जेडीए

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×