• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • News
  • क्या कांग्रेस में कोई काबिल नहीं जो राहुल को चुनावी चेहरा बनाया
--Advertisement--

क्या कांग्रेस में कोई काबिल नहीं जो राहुल को चुनावी चेहरा बनाया

छोटी सादड़ी/प्रतापगढ़/जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि अशोक गहलोत, सचिन पायलट और सीपी जोशी के नामों को...

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2018, 04:30 AM IST
क्या कांग्रेस में कोई काबिल नहीं जो राहुल को चुनावी चेहरा बनाया
छोटी सादड़ी/प्रतापगढ़/जयपुर। मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने कहा कि अशोक गहलोत, सचिन पायलट और सीपी जोशी के नामों को नकारते हुए राहुल गांधी ने खुद को ही कांग्रेस का चुनावी चेहरा घोषित कर दिया है। इससे साफ है कि राजस्थान कांग्रेस में कोई काबिल चेहरा ही नहीं है। मुख्यमंत्री राजस्थान गौरव यात्रा के दौरान छोटी सादड़ी में जनसभा को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा स्पष्ट है कांग्रेस भाजपा से घबरा गई है और हार के डर से राहुल को राजस्थान चुनाव का चेहरा बनाया लेकिन कांग्रेस यहां जीतने वाली नहीं है। सीएम ने कहा ये वो राहुल है जो बाइक पर मध्यप्रदेश को निकले तो निम्बाहेड़ा को ही एमपी समझकर सभा करने लग गए। किसी ने बताया, ये मध्यप्रदेश नहीं, राजस्थान है। अब बताओ क्या ऐसा नेता राज्य में चुनाव लड़ेगा, जिसको पता नहीं कि निम्बाहेड़ा एमपी में है या राजस्थान में।

छोटी सादड़ी में सीएम का स्वागत किया गया

राहुल पर तंज...चलो भाजपा ने मंदिर जाना तो सिखा ही दिया

मुख्यमंत्री ने कहा कि राहुल गांधी 11 अगस्त को जयपुर आ रहे हैं। वे गोविंद देवजी और मोती डूंगरी गणेश जी के दर्शन करेंगे। ये अच्छी बात है लेकिन चुनाव के वक्त राहुल को गोविंद देवजी और मोती डूंगरी गणेश जी क्यों याद आ रहे हैं। वे पहले भी तो कई बार जयपुर आ चुके हैं। उनकी तो राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के रूप में ताजपोशी भी जयपुर में ही हुई थी। तब तो वे किसी मंदिर में नहीं गये। अचानक उन्हें भगवान कैसे याद आ गये? जबकि कांग्रेस के नेता तो मुझ पर सवाल उठाते आए हैं कि मैं मंदिर बहुत जाती हूं। चलो अच्छा है भाजपा ने राहुल को मंदिर जाना तो सिखा दिया।

पायलट का 7वां सवाल

कर्मचारी विरोधी होना क्या गौरव की बात है

जयपुर। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ने मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से सातवां प्रश्न पूछा है। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों से वादाखिलाफी, कर्मचारियों से संवाद न करना, उनकी समस्याओं को लम्बित रखना, कर्मचारी विरोधी होना क्या आपके लिए गौरव की बात है? केंद्र द्वारा लागू वेतनमानों के समान ही प्रदेश में वेतनमान लागू किये जाते हैं, लेकिन राज्य की अपनी कोई नीति नहीं है। केंद्र ने कर्मचारियों को एक जनवरी, 2016 से सातवें वेतनमान का लाभ दिया, लेकिन प्रदेश सरकार जनवरी 2017 से लागू कर 7 लाख कर्मचारियों के हितों पर कुठाराघात किया है। निगमों एवं स्वायत्तशासी संस्थाओं द्वारा अपने कर्मचारियों को सातवें वेतन आयोग के लाभ से वंचित कर रखा है। 2008 में कर्मचारियों के ग्रेड पे में विसंगति रखी, जिसे जुलाई 2013 में कांग्रेस सरकार ने दुरूस्त करते हुए कर्मचारियों के बड़े वर्ग को राहत प्रदान की। पायलट ने कहा कि जनता सब जानती है।

X
क्या कांग्रेस में कोई काबिल नहीं जो राहुल को चुनावी चेहरा बनाया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..