Hindi News »Rajasthan »Jaipur »News» ई-कॉमर्स कंपनियों के निवेशकों का धैर्य खत्म होता जा रहा है

ई-कॉमर्स कंपनियों के निवेशकों का धैर्य खत्म होता जा रहा है

आसपास के रेस्टोरेंट में खाने जा रहे हैं या फिर सैलून जा रहे हैं या सिनेमा देखने का प्रोग्राम बना रहे हैं, तो एक बार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 09, 2018, 04:40 AM IST

ई-कॉमर्स कंपनियों के निवेशकों का धैर्य खत्म होता जा रहा है
आसपास के रेस्टोरेंट में खाने जा रहे हैं या फिर सैलून जा रहे हैं या सिनेमा देखने का प्रोग्राम बना रहे हैं, तो एक बार नियरबाईडॉटकॉम पर जरूर जाएं। इस वेबसाइट के जरिए इन जगहों पर जाने पर आप अतिरिक्त छूट पा सकते हैं। पेश है नियरबाईडॉटकॉम के को-फाउंडर एवं सीईओ अंकुर वरिकू के बातचीत के प्रमुख अंश :

भारतीय ई-कॉमर्स कंपनियों पर काफी दबाव है?

सही है। भारत के ई-कॉमर्स बाजार ओवर फंडेड हैं। मैक्सिको एवं भारत के ई-कॉमर्स बाजार का आकार लगभग बराबर है, लेकिन भारत के ई-कॉमर्स बाजार में मैक्सिको के मुकाबले 22 गुना ज्यादा फंडिंग है। निवेश के हिसाब से निवेशकों को रिटर्न नहीं मिल रहा। उनका धैर्य खत्म हो रहा है, इसलिए कंपनियों पर दबाव बढ़ता जा रहा है।

नियरबाई की शुरुआत कैसे हुई?

वर्ष 2015 में हमने नियरबाई की शुरुआत की। पेटीएम ने भी हमें फंडिंग की है। अभी हमारा सालाना कारोबार लगभग 500 करोड़ रुपये का है। अभी हम मुनाफा नहीं कमा रहे हैं क्योंकि हम अपने मार्जिन को अपने इंफ्रास्ट्रक्चर पर निवेश कर रहे हैं।

नियरबाई से लोगों को क्या फायदा मिलता है?

नियरबाई ऑनलाइन से ऑफलाइन का बाजार है। चीन में लोग फोन के जरिए अपनी पूरी जिंदगी जी रहे हैं। हम भारत में लोकल मर्चेंट के साथ काम करते हैं। नियरबाई ऐप के जरिए हम लोगों को यह जानकारी देते हैं कि कहां पर कितना डिस्काउंट मिलेगा। मुख्य रूप से रेस्टोरेंट, स्पा, मूवी, मनोरंजक पार्क जैसे मर्चेंट हमसे जुड़े हुए हैं। नियरबाई के जरिए इन जगहों पर जाने से ग्राहकों को 10-30 फीसदी तक की छूट मिल जाती है।

नियरबाई से अभी कितने मर्चेंट जुड़े हुए हैं और कितने लोगों ने इस ऐप को डाउनलोड किया है?

नियरबाई प्लेटफार्म से 48 हजार मर्चेंट जुड़ चुके हैं। अगले दो साल में हमने 2.5 लाख मर्चेंट को इससे जोड़ने का लक्ष्य रखा है। हमसे जो मर्चेंट जुड़े हैं, उनके कुल कारोबार में 5-7 फीसदी हिस्सेदारी नियरबाई की है। नियरबाई ऐप को अब तक 60 लाख लोग डाउनलोड कर चुके हैं। हर महीने 20 लाख लोग हमारे पास आते हैं। इनमें से 6 लाख लोग छूट का वाउचर लेते हैं।

किन शहरों से आपको अधिक बिजनेस मिलता है?

मुख्य रूप से मेट्रो शहरों से हमें बिजनेस मिल रहा है। दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, बेंगलुरू, जयपुर, कोलकाता जैसे शहरों से कारोबार आ रहा है। अभी टियर-2 शहरों का योगदान कम है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×