जयपुर

--Advertisement--

सीवर मेंटेनेंस पर 34 करोड़ की स्वीकृति विवादों में आ गई

नगर निगम की वित्त समिति द्वारा शहर की सीवर लाइनों के मेंटीनेंस पर 34 करोड़ रुपए खर्च करने की स्वीकृति विवादों के...

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 04:55 AM IST
नगर निगम की वित्त समिति द्वारा शहर की सीवर लाइनों के मेंटीनेंस पर 34 करोड़ रुपए खर्च करने की स्वीकृति विवादों के घेरे में आ गई। जो स्वीकृति बोर्ड मीटिंग में होनी थी उसे वित्त समिति ने अपने स्तर पर स्वीकृति दे दी। इसके बाद से सत्तापक्ष के पार्षदों के साथ विपक्ष के पार्षद भी नाराज है। पार्षदों का कहना है कि उन्हें अपने क्षेत्र में सीवर की समस्याओं को जाने बिना ही अनुमानित वित्तीय स्वीकृति दी गई है। वित्त समिति द्वारा जोनवार स्वीकृति देने से भी पार्षदों में वार्ड के कार्यों को लेकर संशय है। पार्षदों की पहले से मांग है कि वार्ड के अनुसार सीवर के कार्यों का सर्वे करवाकर राशि तय की जानी थी। इधर, निगम एक्ट के अनुसार पांच करोड़ से अधिक के कार्य को बोर्ड मीटिंग में स्वीकृत करना होता है। ताकि पार्षदों को अपनी बात कहने का माैका मिले। वित्तीय स्वीकृति के बाद निगम की ओर से सरकार को फाइल भेजी जाती है।

पार्षद दिनेश अमन का कहना है कि समिति के सदस्यों और पार्षदों के बिना राय लिए ही जोनवार सीवर के कार्य तय किए जा रहे हंै जिससे कई वार्डों में अधूरे पड़े कार्य प्रभावित होंगे। पहले वार्ड वार कार्य योजना तय की जाती उसके बाद राशि स्वीकृत की जाती।

X
Click to listen..