--Advertisement--

बेटे-बहू की उपेक्षा से दुखी वृद्धा ट्रेन के आगे कूदी

जयपुर| बेटे-बहू की उपेक्षा और घर में अकेलेपन से परेशान 80 वर्षिय एक बुजुर्ग महिला ने शुक्रवार को रेलगाड़ी के आगे...

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 04:55 AM IST
जयपुर| बेटे-बहू की उपेक्षा और घर में अकेलेपन से परेशान 80 वर्षिय एक बुजुर्ग महिला ने शुक्रवार को रेलगाड़ी के आगे कूदकर आत्महत्या की कोशिश की। लोको पायलट की सजगता से महिला की जान बच गई। लोको पायलट ने इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रेल रोक दी। आरपीएफ इंस्पेक्टर बुजुर्ग महिला को लेकर उसके घर गई और बेटे-बहू से समझाइश कर उन्हें सौंपा।

आरपीएफ इंस्पेक्टर नीलू गोठवाल ने बताया कि बुजुर्ग महिला कौशल्या शर्मा महेशनगर में बेटे गिरराज के पास रहती है। बेटा गिरराज लेक्चरर है और बहू गीता शर्मा स्कूल में प्रिंसिपल। बेटे-बहू सुबह अपने काम पर निकल जाते हंै और वह घर पर अकेली ही रह जाती है। घर पर अकेलेपन के कारण वह परेशान रहने लगी। साथ ही घर में उसकी उपेक्षा भी होती थी।

कई महीने हो गए थे। बुजुर्ग महिला गांव जाना चाहती है लेकिन बेटे-बहू उसे गांव भी नहीं भेज रहे है। इससे वह परेशान थी। दोपहर में जब वह घर पर अकेली थी तब ही उसके मन में आत्महत्या का विचार आया और वह घर से गांधीनगर रेलवे स्टेशन के लिए घर से पैदल ही निकल गयी। बचाए जाने के बाद भी वो बार-बार मरने की बात कर रही थी। आरपीएफ ने उसे शांत किया।

बेटे-बहू और बेटी के पास ले गए वृद्धा को, पाबंद किया

बुजुर्ग महिला के बताए गए रास्ते पर आरपीएफ उसके घर गयी। वहां पर बेटे गिरराज शर्मा, बहू गीता शर्मा थे। बेटे के घर से कुछ ही दूरी पर बेटी का मकान है। बेटी को भी आरपीएफ ने बुलाया गया। करीब एक घंटे तक बेटे-बहू और बेटी से समझाइस कर आरपीएफ ने बुजुर्ग महिला को सौंपा।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..