--Advertisement--

कदर किरदार की नहीं, साये की करो : गौरवमती

जयपुर | मानव जन्म बड़ा अनमोल है। इसका सम्मान होना चाहिए। कदर होनी चाहिए। जिसने इसका सम्मान किया, वह बड़ी से बड़ी बाधाओं...

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 05:00 AM IST
कदर किरदार की नहीं, साये की करो : गौरवमती
जयपुर | मानव जन्म बड़ा अनमोल है। इसका सम्मान होना चाहिए। कदर होनी चाहिए। जिसने इसका सम्मान किया, वह बड़ी से बड़ी बाधाओं से मुक्त हुआ है। जीवन में संस्कारित बनो और संस्कारों का सम्मान करो। संस्कारों का उतना ही महत्व है जितना जीवन जीने के लिए रोटी का महत्व है। इंसान जिस प्रकार खान-पान के बिना अधूरा है, ठीक उसी प्रकार संस्कारों के बिन भी अधूरा है। किरदार पर ना जाकर साये पर विश्वास करो।

पुण्य कर जीवन को स्वर्ग बनाओ : वरुण पथ के जैन मंदिर में आर्यिका विज्ञाश्री ने कहा कि पुण्य कर्मों का अर्थ केवल वे कर्म नहीं हैं जिनसे आपको लाभ होता हो। वे कर्म हैं जिनसे दूसरों का भला भी होता है। पुण्य कर्मों को करने का उद्देश्य मरने के बाद स्वर्ग को प्राप्त करना ही नहीं अपितु जीते जी जीवन को स्वर्ग बनाना भी है।

X
कदर किरदार की नहीं, साये की करो : गौरवमती
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..