भास्कर खास / लाइट-साउंड शो व हेरिटेज रेस्टोरेंट को एक्सटेंशन नहीं, 3 गुना किराए पर नई फर्मों की तलाश

X

आमेर महल में 10 साल में दोनों जगह का किराया 2 करोड़ रुपए भी नहीं पहुंच पाया था

दैनिक भास्कर

Oct 11, 2019, 12:05 AM IST

जयपुर. आमेर महल में चर्चित लाइट एंड साउंड शो और भीतर चलने वाले हाईप्रोफाइल रेस्टोरेंट को पुरातत्व विभाग नए सिरे से चलाएगा। 10 साल से जारी दोनों उपक्रमों के लिए संबंधित फर्मों ने विभाग से एक्सटेंशन चाहा था, जिसके लिए इंकार कर दिया है। साथ ही नए सिरे से निविदा जारी कर फर्मों की तलाश शुरू कर दी है। 


शो और रेस्टोरेंट को चलाने वालों के लिए किराया दरें भी तीन गुना तक बढ़ा दी है। क्योंकि अभी तक औने-पौने दामों में ही इन्हें चलाया जा रहा था। आमेर महल में जहां पीक दिनों में 8 हजार टूरिस्ट और आम दिनों में भी औसतन 3-5 हजार टूरिस्ट प्रतिदिन आते हैं, वहां इन दोनों उपक्रमों का किराया 10 साल में दो करोड़ भी नहीं मिला। विभाग का मानना है कि कई साल पहले जब ये चीजें शुरू हुई थी, तब बहुत ही कम किराए पर इन्हें शुरू किया गया। जबकि आज काफी हालात बदल चुके। 
अब आमेर महल जैसी लोकेशन पर इनकी पहचान बन चुकी, ऐसे में जो दरें रखी गई है, वो वाजिब हैं। इससे पहले संबंधित फर्मों ने इन्हें अपने स्तर पर चलाने की सिफारिश की थी, जिसे आरटीपीपी एक्ट की बात कहते हुए खारिज कर दी। जानकारी हो कि 2009 में शुरू किए गए लाइट एंड साउंड शो को एक बार एक्सटेंशन दिया जा चुका है।

 

बच्चन से गुलजार है शो, शीशमहल जैसी लोकप्रियता के अनुभव
आमेर महल के लाइट एंड साउंड शो पर 10 साल पहले खूब मेहनत की गई। गुलजार जैसी हस्ती से शो की स्क्रिप्ट फाइनल कराई गई तो महानायक ने उनके शब्दों को आवाज दी। इसके चलते प्रदेश ही नहीं, देशभर के कई लोगों ने शो को सराहा। दूसरी ओर आमेर महल में चलने वाले माउंट शिवालिक रेस्टोरेंट (1135एडी) की लोकेशन भी हर किसी को आकर्षित करती है। जलेब चौक के प्रथम तल पर चलने वाले रेस्टोरेंट के एक कमरे में शीशमहल से मिलती-जुलती कारीगरी भी चर्चा में रही। हालांकि दोनों जगह के किराए को लेकर इश्यू बने। अब लगाए गए इंस्ट्रूमेंट पर विभाग का हक रहेगा। इन जगहों पर बेहतर सर्विस देने वाली फर्मों को मौका मिलेगा।

 

आरटीपीपी एक्ट के तहत एक्सटेंशन नहीं दिया

शो और रेस्टोरेंट के लिए नई फर्मों के लिए निविदा जारी की है। आरटीपीपी एक्ट के तहत एक्सटेंशन नहीं दे सकते। अब प्रतिमाह 3 लाख किराए के साथ शो चलाने वाली फर्म को मौका मिलेगा। इसी तरह हेरिटेज प्रोपर्टी केे लिए 4 लाख प्रतिमाह किराया रखा है। दोनों जगह लगे इंस्ट्रूमेंट विभाग की प्रोपर्टी है।-प्रकाश शर्मा, निदेशक, पुरातत्व विभाग

 

लाइट एंड साउंड शो
शुरू हुआ: 2009 से शुरू लेकिन किराया फरवरी 2012 से 
डेडलाइन: 20 सितंबर 2019 तक 
आय: केवल 51 लाख 20 हजार 
क्योंकि: रेवेन्यू शेयर में केवल 5 प्रतिशत हिस्से से शुरुआत हुई, जो 5 साल बाद भी 10 प्रतिशत थी


रेस्टोरेंट 1135 एडी

शुरु हुआ: नवंबर 2009
डेडलाइन: नवंबर 2019
आय: केवल 1 करोड़, 43 लाख, 71 हजार मिले। 
क्योंकि: लोकेशन और लंबी चौड़ी जगह के बाद किराए की शुरुआत केवल 75 हजार से थी

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना