--Advertisement--

सद्भावना / कौमी एकता सम्मेलन में सफेद झंडा फहराकर दिया शांति का संदेश



सम्मेलन में शामिल हुए शरद यादव, सचिन पायलेट सम्मेलन में शामिल हुए शरद यादव, सचिन पायलेट
कौमी एकता का संदेश देते गणमान्य नागरिक कौमी एकता का संदेश देते गणमान्य नागरिक
  • पीस मिशन सोसायटी की ओर से बिड़ला ऑडिटोरियम में हुआ आयोजन
  • धर्म, समाज और राजनीति से जुड़े कई प्रबुद्ध नागरिक हुए शामिल
Danik Bhaskar | Sep 16, 2018, 08:25 PM IST

जयपुर. पीस मिशन सोसायटी की ओर से रविवार को बिड़ला ऑडिटोरियम में कौमी एकता कांफ्रेंस का आयोजन किया गया। जिसमें धर्म गुरुआें ने देश में फैलती सांप्रदायिकता और आतंकवाद के खात्मे को लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी राजस्थान के अध्यक्ष सचिन पायलट को सफेद झंडे सौंपे।

कॉफ्रेंस में हिंदू-मुस्लिम धर्मगुरुओं ने दिया शांति, सौहार्द और सद्भावना का संदेश

  1. आओ, नफरत की दीवारें गिराकर मोहब्बत का ताजमहल बनाएं

    पीस मिशन सोसायटी के राष्ट्रीय संयोजक मौलाना फज्ले हक ने संकल्प प्रस्ताव आतंकवाद, सांप्रदायिकवाद के विरुद्ध पेश किए। साथ ही मुल्क की आजादी में बलिदान देने वालों को खिराज-ए-अकीदत पेश करते हुए कहा कि आजादी की 72वीं वर्षगांठ का कौमी एकता में सबसे बड़ा खिराज-ए-अकीदत यह होगा कि नफरत की दीवारों को गिरा कर हम मोहब्बत का ताज महल बनाएं।

     

  2. हिंदू-मुस्लिम जन एकता मंच के संस्थापक ने दिया यह संदेश

    मुख्य वक्ता हिंदू-मुस्लिम जन एकता मंच के संस्थापक, श्रीस्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य ने कहा कि हमारा देश गंगा जमनी संस्कृति का गहवारा है। हर धर्म में हमें प्यार, मोहब्बत की तालीम दी है, हर मजहब ने आतंवाद व सांप्रदायिकवाद का खंडन किया है।

  3. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी ने कहा- देश विरोधी ताकतों को सफल ना होने दें

    विशिष्ट अतिथि कांग्रेस महासचिव व प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि सांप्रदायिकता व जात-पात के नाम पर देश के लोगों को बांटने का काम किया जा रहा है। हमें देश को तोड़ने का काम करने वाली ऐसी ताकतों की साजिशों को सफल नहीं होने देना है।