राजस्थान / पतंग उड़ाते समय मेटल पाउडर कोटेड मांझे से है खतरा, जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ने कहा सावधानी बरतें

प्रतिकात्मक फोटो। प्रतिकात्मक फोटो।
X
प्रतिकात्मक फोटो।प्रतिकात्मक फोटो।

  • मकानों के पास से गुजर रही बिजली की लाईनों के आसपास पतंग उड़ाते समय विशेष ध्यान व सावधानी बरतें
  • पतंग या डोर फंस जाए तो उसे खींचकर अथवा धातु की छड़ आदि से छुड़ाने का प्रयास नही करें

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2020, 03:26 PM IST

जयपुर. मकर संक्राति पर पतंग उड़ाते समय छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर विद्युत संबंधी किसी भी संभावित दुर्घटना से बचा जा सकता है। साथ ही बिजली आपूर्ति में बाधा को भी रोका जा सकता है। पतंगबाजी से होने वाली संभावित दुर्घटनाओं से भी बचा जा सकेगा।

जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक ए.के.गुप्ता ने बताया कि एल्यूमिनियम फॉयल (धातु) से बनी हुई पतंग एवं मेटल पाउडर कोटेड मांझे का उपयोग नहीं करना चाहिए। ये विद्युत चालक का कार्य करते है। मेटल पाउडर से बना मांझा बिजली के तारों में उलझने से हाई वॉल्टेज का खतरा भी होता है, जिससे विद्युत उपकरण को क्षति पहुंचने की भी संभावना है।

उन्होंने बताया कि मकानों के पास से गुजर रही बिजली की लाईनों के आसपास पतंग उड़ाते समय विशेष ध्यान व सावधानी बरतें। यदि बिजली के तारों या उपकरणों में पतंग या डोर फंस जाए तो उसे खींचकर अथवा धातु की छड़ आदि से छुड़ाने का प्रयास नही करना चाहिए।

मकर संक्राति पर विद्युत आपूर्ति में व्यवधान संबंधी शिकायतों के निवारण हेतु जयपुर डिस्कॉम के उपभोक्ता अपनी शिकायतें कॉल सेन्टर के टेलीफोन नंबर 0141-2203000 एवं टोल फ्री नम्बर 18001806507 पर दर्ज करा सकते है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना