कामयाबी / राजस्थान यूनिवर्सिटी की महिला प्रोफेसरों को अश्लील कॉल और मैसेज करने वाला निकला नाबालिग, गिरफ्तार



Minor arrested for obscene calls and sending messages to women professors of Rajasthan University
X
Minor arrested for obscene calls and sending messages to women professors of Rajasthan University

  • आरोपी को पुलिस ने हरियाणा के हिसार से गिरफ्तार किया
  • प्रोफेसर का बेटा है आरोपी, नेटवर्किंग व साइबर का एक्सपर्ट

Dainik Bhaskar

Jul 12, 2019, 12:28 AM IST

जयपुर. राजस्थान यूनिवर्सिटी की करीब 50 महिला प्रोफेसर्स काे फाेन करके अश्लील बातें करने वाले साइकाे काॅलर काे आखिरकार जयपुर कमिश्नरेट की पुलिस ने हरियाणा के हिसार में दबिश देकर पकड़ लिया। आराेपी काॅलेज के प्रोफेसर का बेटा है। उसकी उम्र करीब 16 साल है। आराेपी नेटवर्किंग व साइबर का एक्सपर्ट है।

 

पुलिस आराेपी से पूछताछ कर रही है। आराेपी ने एक महिला प्रोफेसर काे पार्सल भेजा था। पार्सल में क्रीम थी। उस पार्सल की पुलिस ने जांच पड़ताल की ताे सामने आया कि पार्सल हिसार से बुक कराया गया था। इसके आधार पर पुलिस ने जांच पड़ताल करके आराेपी की पहचान कर ली और आराेपी काे पकड़ने के लिए एक टीम भेजी गई। पुलिस टीम आराेपी काे पकड़कर देर रात तक जयपुर ले आएगी।

 

स्टेप-1 : कैश ऑन डिलीवरी के पार्सल की सूचना मिली थी

आराेपी ने राजस्थान विश्वविद्यालय की एक महिला प्रोफेसर काे एप के जरिए आपत्तिजनक गिफ्ट भेजा था। इससे पहले उसने प्रोफेसर काे फाेन कर गिफ्ट भेजने कीे बात कही थी। 6 जुलाई काे प्रोफेसर के घर पर पार्सल पहुंचा। यह कैश ऑन डिलीवरी था। महिला प्रोफेसर ने पार्सल लेने से मना कर दिया, जिससे पार्सल वापस कंपनी में चला गया। पार्सल के बारे में पुलिस काे सूचना दी और रिपाेर्ट कराई।

 

स्टेप-2 : हिसार यूनिवर्सिटी के वाई-फाई तक पहुंच गए

पुलिस ने महिला प्रोफेसर के एड्रेस पर आए पार्सल काे जब्त किया। उसमें आपत्तिजनक चीजें थीं। कैश ऑन डिलीवरी का ये आइटम हैदराबाद की कंपनी से ऑनलाइन भेजा गया था। पुलिस ने कंपनी से संपर्क किया। वहां से पुलिस ने आईपी एड्रेस खोजा। तब सामने आया कि कंपनी में जिस आइटम की बुकिंग की गई थी वह डिवाइस हिसार यूनिवर्सिटी के वाई फाई से कनेक्ट थी।

 

स्टेप-3 : मोबाइल का पता चलते ही आरोपी शिकंजे में

हिसार यूनिवर्सिटी के बारे में जानकारी मिलते ही पुलिस काे लग गया कि आराेपी वहीं है। पुलिस की एक टीम हिसार भेजी गई। वाई फाई कनेक्ट हाेने से पुलिस ने यह आसानी से पता कर लिया कि किस माेबाइल का उपयाेग करके कंपनी में कैश ऑन डिलीवरी का ऑर्डर दिया गया था। माेबाइल का पता चलते ही पुलिस आराेपी तक पहुंच गई। फिर उसे लेकर जयपुर के लिए रवाना हाे गई।

 

यूं समझें पूरा केस...

{गांधीनगर और महेश नगर थाने में अाठ दिन पहले यूनिवर्सिटी की कई महिला प्रोफेसर्स ने शिकायत की थीकि उन्हें धमकीभरे कॉल आ रहे हैं।
{आरोपी इंटरनेट काॅल से अश्लील बातें करता था। उसने कुछ महिला प्रोफेसर्स काे पार्सल भेजे। पार्सल में आपत्तिजनक वस्तुएं थीं। 
{महिला प्रोफेसर्स ने यूनिवर्सिटी प्रशासन काे जानकारी दी। 
{यूनिवर्सिटी प्रशासन ने मामले की गंभीरता देखते हुए तत्काल वेबसाइट से फोन नंबर हटा दिए। 
{पुलिस ने महिला प्रोफेसर्स की रिपाेर्ट पर मुकदमा दर्ज किया। 
{महेश नगर, गांधी नगर, साइबर थाना प्रभारी की एक टीम बनी।

{एक महिला प्रोफेसर्स ने पार्सल उपलब्ध कराया तो सुराग मिला।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना