राजस्थान / छोटे से गांव में जन्मी सुमन बनी मिस इंडिया, बोलीं- सफल होने से पहले असफलता की सीढियां चढ़नी पड़ती है



miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan
miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan
miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan
X
miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan
miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan
miss india 2019 suman rao miss india 2019 suman rao from rajasthan

  • बीती रात मुंबई में हुई प्रतियोगिता में राजसमंद की सुमन राव ने मिस इंडिया का क्राउन जीत लिया

Dainik Bhaskar

Jun 17, 2019, 04:00 PM IST

जयपुर. मिस इंडिया के 67 साल के इतिहास में यह पहला अवसर है जब राजस्थान किसी को मिस इंडिया टाइटल मिला है। यह प्रतियोगिता 1952 से शुरु हुई थी। बीती रात मुंबई में हुई प्रतियोगिता में राजसमंद की सुमन राव ने मिस इंडिया का क्राउन जीत लिया। वे दिसंबर में होने वाली मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में इंडिया को रिप्रजेंट करेंगी। सुमन के पिता पेशे से ज्वैलर है। ग्लैमरस दुनिया के साथ सुनम सीए की पढ़ाई कर रही हैं। वे कहती हैं कि वो जीवन में उन चीजों को करने की भी हिम्मत रखती हैं जिन्हें लोग अनिश्चित मानते हैं। सुमन जीवन में सबसे ज्यादा प्रभावित अपने माता-पिता से हैं। 

 

1999 में मुबई चली गई थी फैमिली

सुमन राव राजसमंद जिले में आमेट क्षेत्र के छोटे-से गांव आईडाणा में जन्मी है। वे 1999 से फैमिली के साथ मुंबई में रह रही हैं। मिस नवी मुंबई के बाद मिस इंडिया बनने तक का सफर उन्होंने सिर्फ डेढ़ साल में पूरा किया है। उनके पिता रतनसिंह मुंबई में ज्वैलरी व्यवसायी हैं। वे सुमन काे 13 महीने की उम्र में ही मुंबई ले गए थे। बाद में उनकी पढ़ाई वहीं हुई। डेढ़ साल पहले मुंबई में मिस नवी मुंबई कांटेस्ट में भाग लेकर मिस नवी मुंबई का खिताब जीत चुकी है। तब इस कांटेस्ट में 500 युवतियों ने भाग लिया था। फैशन डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के शो में भी काम कर चुकी है। इसी साल जयपुर में मिस इंडिया कांटेस्ट में भाग लिया था।

 

सुमन कहती है कि सफल होने के लिए पहले असफलता की सीढिय़ां चढ़नी पड़ती है। मेरे लिए सबसे खूबसूरत पल वो था जब मैंने नवी मुंबई की फर्स्ट रनरअप रही। मैं विनर नहीं बन पाई क्‍योंकि सवालों के जवाब देने का ढंग प्रभावशाली नहीं था। तब मैंने खुद की कमियों को पहचाना और पाया कि मेरे चलने, बोलने ढंग में सुधार की गुंजाइश है। मैंने एक साल तक खुद पर वर्कआउट किया। मेरे बारे में ये ही रूमर्स फैलाया जाता है कि बहुत एटीट्यूड है। जबकि मेरा मनाना है कि हर महिला में सेल्फ कान्फीडेंस होना चाहिए। कभी गिव अप नहीं करना चाहिए।

 

अगर आपने कोई सपना देखा है तो उसे हकीकत में बदलने के लिए उस दिशा में मेहनत करें। मैं अपना उदाहरण दूं, मुझे मिस इंडिया का क्राउन जीतना था। 2018 में फर्स्ट रनरअप रही , लेकिन मैंने हार नहीं मानी। मेरा दृढ निश्चय ही मुझे बाकी 29 पार्टिसिपेंट्स से बेहतर करने की प्रेरणा। जब आप अपने गोल के प्रति दृढ़ निश्चय होते हैं तो आपकी शरीर की नस-नस सफल सफल बनाने के लिए सक्रिय हो जाती है।

 

बचपन से डांस और मॉडलिंग हॉबी

उनके पिता रतन सिंह बताते हैं कि सुमन की पढ़ाई महात्मा गांधी एजुकेशन सोसायटी में हुई थी। बचपन से ही डांस तथा मॉडलिंग उनकी हॉबी में रहा है। कथक नृत्य करने की भी शाैकीन रही हैं। पिता के अनुसार सुमन जब स्कूल पढ़ती थी तब से ही लड़का-लड़की का अंतर खत्म करने की बात कहती। वह अक्सर कहती कि जाे काम लड़के कर सकते हैं, वह लड़कियां भी ताे कर सकती हैं। 14 अप्रैल काे पूना में राजस्थान फिनाले के रिजल्ट में सुमन स्टेट विनर रही थीं। इसके बाद मिस इंडिया के लिए सुमन ने राजस्थान का प्रतिनिधित्व किया। वे 33 प्रतिभागियों को पछाड़कर मिस इंडिया बनी हैं। कार्यक्रम मुंबई के सरदार वल्लभभाई पटेल इंडोर स्टेडियम में हुआ।

 

कंटेंट- किरन सैनी

COMMENT