राजस्थान / शनिवार से स्कूल में अटके 350 बच्चों और टीचर्स को किया रेस्क्यू, 7 किमी की दूरी 60 किमी तय कर पहुंचेंगे रावतभाटा



More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh
More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh
More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh
X
More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh
More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh
More than 350 students & 50 teachers are stuck at a school in Chittorgarh

  • राणा प्रताप सागर बांध से पानी छोड़े जाने पर शनिवार को रास्ते बंद हो गए थे

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 05:23 PM IST

रावतभाटा। मऊपुरा आदर्श विद्या मंदिर स्कूल के करीब 350 बच्चों व 50 टीचर्स को सोमवार को रेस्क्यू कर लिया गया। ये सभी तीन दिन से स्कूल में अटके थे। इन्हें ट्रैक्टर से गोपालपुरा वहां दो बसों से रावतभाटा के लिए रवाना किया गया। भैंस रोड गढ़ से यह रावतभाटा पहुंचने में करीब 60 किलोमीटर लंबा रास्ता तय करेंगे जबकि भैरव गढ़ और रावतभाटा की दूरी में 7 किलोमीटर है। 

 

राणा प्रताप सागर बांध के गेट खुलने से चामला पुलिया पर शनिवार को पानी आ गया था। इससे भैंसरोडगढ़, रावतभाटा, चित्तौड़गढ़ मार्ग अवरुद्ध हो गया। रावतभाटा से 4 किमी दूर स्थित मऊपुरा आदर्श विद्या मंदिर स्कूल के करीब 350 बच्चे स्कूल गए थे। पानी बढ़ा तो बच्चे शनिवार को वहीं अटक गए। खाने-पीने की सुविधा को देखते हुए वहां से 3 किमी दूर इन बच्चों को भैंसरोडगढ़ के श्रीराम मंदिर स्कूल में शनिवार को ले जाया गया। वहां बच्चों के भोजन, ठहरने आदि की व्यवस्था की गई। यहां पर सभी सुविधाएं हैं। इसमें कक्षा 3 से 8 के 82 बच्चे, 9 से 12 के 268 बच्चे और कुल 50 शिक्षक हैं। आसपास के सरकारी स्कूलों के शिक्षक भी भैंसरोडगढ़ में अटके हुए हैं।

 

गांव वालों ने छात्रों और शिक्षकों के खाने-पीने का किया प्रबंध

 

भैंसरोडगढ़ के श्रीराम मंदिर स्कूल में फंसे सभी छात्रों और शिक्षकों के खाने-पीने का प्रबंध गांव के लोगों ने किया। भैंसरोडगढ़ के सभी घरों में खाना बनाया गया और स्कूल में पहुंचाया गया। प्रिंसिपल ओमप्रकाश भांबी ने बताया कि स्कूल और गांववालों ने मिलकर भोजन की व्यवस्था की। प्रिंसिपल ने बताया कि गांव वालों की मदद से खाने-पीने की कोई तकलीफ नहीं हुई। हर व्यक्ति ने अपने सामर्थ्य के अनुसार अच्छी मदद की।

 

पानी में घिरे नहीं हैं बच्चे, सुरक्षित हैं

एडीएम मुकेश कुमार कलाल के अनुसार बच्चे पानी में घिरे नहीं थे। हमारे कर्मचारी, अधिकारी मौजूद रहे, बच्चे सुरक्षित थे। प्रशासन को सूचना मिली तो चित्तौड़गढ़ एडीएम प्रशासन मुकेश कुमार कलाल, एसडीएम रामसुख गुर्जर, एएसपी तृप्ति विजयवर्गीय ने तुरंत इसकी जानकारी ली और अभिभावकों से भी मुलाकात की।

 

रेस्क्यू के दौरान हुआ विवाद


बच्चे व टीचर्स का रेस्क्यू ऑपरेशन दोपहर के भोजन के बाद शुरू हुआ। इस दौरान सांसद सीपी जोशी पूर्व विधायक सुरेश धाकड़ की मौजूदगी रही। यहां पर पुलिस और पूर्व विधायक के बीच विवाद भी हुआ। भोजन को लेकर उसके बाद करीब 1:30 बजे यह बच्चे 2 ट्रैक्टर और अन्य साधनों से गोपालपुरा रोड पर पहुंचे। यहां से इनको पहले ट्यूब के सहारे मोतीपुरा नाला पार कराया गया। हालांकि इस नाले पर ज्यादा पानी नहीं था, लेकिन रिस्क नहीं ली गई और बच्चों को ट्यूब के सारे एसडीआरएफ टीम ने पार किया। फिर बस से सिंगोली होकर ताल ले जाया जा रहा था। रावतभाटा नगरपालिका कार्यालय पहुंचने के बाद इन्हें अभिभावकों को सौंपा जाएगा एक समारोह पूर्वक कार्यक्रम में इस कार्यक्रम में चित्तौड़गढ़ जिला कलेक्टर नगर पालिका अध्यक्ष और कई जनप्रतिनिधि मौजूद रहेंगे।

 

न्यूज व फोटो-वीडियो : दिलीप वाधवा

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना