राजस्थान / नारायण सेवा संस्थान ने जयपुर में 43 दिव्यांगों को निशुल्क कृत्रिम अंग और कैलीपर्स मुहैया कराए

X

  • संस्थान ने पिछले महीने दिल्ली और जयपुर में कृत्रिम अंग मापन शिविर भी आयोजित किया था

May 27, 2019, 06:31 PM IST

जयपुर. सोमवार को नारायण सेवा संस्थान द्वारा जयपुर में दिव्यांगों के लिए निशुल्क कृत्रिम अंग वितरण शिविर का आयोजन किया। शिविर के दौरान लगभग 43 दिव्यांगों को निशुल्क कृत्रिम अंग और कैलीपर्स मुहैया कराए गए, जिनकी सहायता से दिव्यांगों अपनी आम जिदंगी और कामकाज करने में सक्षम हो सकेंगे। संस्थान ने पिछले महीने दिल्ली और जयपुर में कृत्रिम अंग मापन शिविर भी आयोजित किया था, जिसमें अंग वितरण के लिए करीब 80 दिव्यांगों का नाप लिया गया था।

 

नारायण सेवा संस्थान के प्रेसीडेंट श्री प्रशांत अग्रवाल ने कहा, 'अब तक हमने 99,133 कैलीपर्स, 10,452 व्हीलचेयर और 3,646 ट्राइसाइकिलों का सफलतापूर्वक वितरण किया है। एनजीओ जरूरतमंद मरीजों और दिव्यांगों को निशुल्क कृत्रिम अंग और प्रोस्थेटिक्स दे रहे है, जिनका बाजार मूल्य 70,000 रुपए के आसपास है। हम प्रत्येक ऐसे दिव्यांग शख्स तक पहुंचने का इरादा रखते हैं, जिन्हें चलने-फिरने के लिए और अपना रोजमर्रा का कामकाज करने के लिए कृत्रिम अंग की जरूरत होती है, लेकिन साथ ही हम उन्हें अपने पैरों पर खड़े होने और सामने आने वाली तमाम चुनौतियों का सामना करने में भी सक्षम बनाना चाहते हैं।'

 

नारायण सेवा संस्थान की प्रोस्थेटिक एंड ऑर्थोटिक विशेषज्ञ नाथू सिंह ने कहा, 'हमारे प्रोस्थेटिक और ऑर्थोटिक इंजीनियरों ने ऑर्थोपेडिक डॉक्टरों की सहायता से इस शिविर में कस्टमाइज्ड कृत्रिम अंगों को दिव्यांगों के शरीर में स्थापित किया। नारायण सेवा संस्थान ने पिछले 35 वर्षों में 3.7 लाख से अधिक रोगियों का ऑपरेशन किया है।'

 

1,13,231 लोगों को निशुल्क सहायता प्रदान करने के बाद नारायण सेवा संस्थान इसी महीने के दौरान जयपुर, अहमदाबाद, आगरा, हैदराबाद, बैंगलोर और अलीगढ़ में भी कृत्रिम अंग वितरण शिविर आयोजित करने की योजना बना रहा है। संस्थान ने अपनी स्थापना के बाद से देश भर में 500 से अधिक शिविरों का आयोजन किया है और दिव्यांग लोगों को चलने-फिरने में सक्षम बनाने में मदद की है। कृत्रिम अंगों के सहारे वे अपनी दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना