--Advertisement--

अब पीआरटीएस पकड़ेगा फर्जी रजिस्ट्रेशन...स्टेट काउंसिल को जल्द मिलेगा यूनिक नंबर

किसी भी स्टेट फार्मेसी काउंसिल में अब फर्जी रजिस्ट्रेशन नहीं करा सकेगा। कराने के तुरंत बाद ही आसानी से पकड़ में आ...

Dainik Bhaskar

Nov 04, 2018, 03:16 AM IST
Jaipur - now the prts will get fake registration state council will get a unique number
किसी भी स्टेट फार्मेसी काउंसिल में अब फर्जी रजिस्ट्रेशन नहीं करा सकेगा। कराने के तुरंत बाद ही आसानी से पकड़ में आ जाएगा। और पहचान करना भी आसान होगा। यह एक तरह से लाइव रजिस्टर की तरह काम करेगा। फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया नई दिल्ली देश भर की स्टेट काउंसिल में ‘फार्मासिस्ट रजिस्ट्रेशन ट्रेकिंग सिस्टम’ विकसित करने जा रहा है। इसके लिए यूनिक आइडेन्टीफिकेशन नंबर भी दिया जाएगा। जिससे उसका रजिस्ट्रेशन, नवीनीकरण व प्रोफेशन का भी पता किया जा सकेगा। मौजूदा स्थिति में राजस्थान फार्मेसी काउंसिल में 51 हजार से ज्यादा रजिस्टर्ड है। जबकि देश भर में 12 लाख से ज्यादा पंजीकृत फार्मासिस्ट है। पीआरटीएस विकसित करने के अलावा अनेक निर्णय पीसीआई के सदस्यों की मीटिंग में लिए है।

पीड़िता से औने-पौने दाम में खरीदा प्लाट

यूपीएससी में फार्मेसी विषय शामिल करना लंबित

PRTS

फार्मेसी काउंसिल में ये भी निर्णय










फार्मा यूथ वेलफेयर संस्थान के प्रदेशाध्यक्ष प्रवीण कुमार का कहना है सिविल सर्विसेज परीक्षा में फार्मेसी विषय को शामिल, काउंसिल में निरीक्षक की नियुक्ति व फार्मेसी प्रेक्टिश रेग्यूलेशन -2015लागू करने का मामला काफी समय से लंबित है। केन्द्र को सभी राज्य सरकार को प्रभावी तरीके से लागू करने के लिए पाबंद करना चाहिए। जिससे फार्मेसी में डिप्लोमा व डिग्री वालो को फायदा मिल सके।

राष्ट्रीय स्तर की काउंसिल के सदस्यों की मीटिंग में पीआरटीएस सिस्टम, एनपीए व आयुष्मान मित्र जैसे अनेक प्रोजेक्ट को सख्ती से लागू करने के लिए देश के सभी राज्यों को पत्र लिखा जाएगा।

-डॉ.बी.सुरेश, अध्यक्ष, फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया नई दिल्ली

फार्मासिस्टों की महत्तवपूर्ण जिम्मेदारी को देखते हुए हाल ही में आयोजित मीटिंग में हुए निर्णयों को केन्द्र से अनुमति लेकर लागू किया जाएगा। इसमें राज्यों का सहयोग जरुरी है।

-अर्चना मुदग्ल, रजिस्ट्रार

कम सचिव, पीसीआई नई दिल्ली

केन्द्र के निर्णय के अनुसार ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट के अनुसार दवाओं की लेबलिंग व बार कोडिंग के लिए कंपनियों को भी लिखा जा रहा है। -अजय फाटक, ड्रग कंट्रोलर सैकंड

X
Jaipur - now the prts will get fake registration state council will get a unique number
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..