--Advertisement--

गणेशोत्सव का उल्लास तैयारी में जुटे लोग

गणेशजी महाराज का जन्मदिन मनाने के लिए शहरवासियों में दिनोंदिन उत्सुकता बढ़ती जा रही है। दस दिन के लिए घर-घर गजानंद...

Danik Bhaskar | Sep 11, 2018, 04:10 AM IST
गणेशजी महाराज का जन्मदिन मनाने के लिए शहरवासियों में दिनोंदिन उत्सुकता बढ़ती जा रही है। दस दिन के लिए घर-घर गजानंद को विराजमान किया जाएगा। मूर्ति स्थापना के लिए घरों में मंदिरों को सजाया संवारा जा रहा है। उधर, मंदिरों में चल रहे गणेश जन्मोत्सव भी परवान पर हैं। मोती डूंगरी गणेशजी मंदिर में सांस्कृतिक एवं भजन संध्या के तहत शाम 7 बजे से देर रात तक कलाकारों ने गजानंदजी के समक्ष रेखा ठक्कर व उनके शिष्यों ने कत्थक नृत्य की अद्भुत प्रस्तुतियां दीं। मंगलवार को सुगम संगीत का कार्यक्रम होगा। इसमें डॉ. गोपालसिंह व डॉ. पूजा(सारेगामा) और नालंदा कला केंद्र के कलाकार प्रस्तुतियां देंगे। उधर, नहर के गणेशजी का विशेष शृंगार करने के लिए सोमवार को पट मंगल रहे। महंत जय शर्मा ने बताया कि मंगलवार को भी पट नहीं खुलेंगे बुधवार को नए शृंगार के साथ नियमित दर्शन सुबह 5:30 बजे से होंगे।

मंदिर सजे, नहर के गणेशजी के आज भी पट बंद रहेंगे

मोदकों का लगाया भोग

बंगाली बाबा गणेश मंदिर में आज से गणपति महोत्सव

बंगाली बाबा आत्माराम ब्रह्मचारी गणेश मंदिर ट्रस्ट के तत्वावधान पुरानी चुंगी दिल्ली रोड स्थित बंगाली बाबा गणेश मंदिर में 11 से 13 सितंबर तक श्रीगणपति चतुर्थी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। इस दौरान महाध्वज अर्पण, सिंजारा पर्व सहित विभिन्न आयोजन होंगे। ट्रस्ट के अध्यक्ष नारायण अग्रवाल व महामंत्री ओम प्रकाश ईंटोवाला ने बताया कि 13 सितंबर सुबह 7 बजे से गणेश चतुर्थी के कार्यक्रम शुरू होंगे।

सूरजपोल बाजार स्थित सिद्धी विनायक गणेश मंदिर में चल रहे गणेश महोत्सव के तहत सोमवार को मोदकों की झांकी सजाई गई। एकल प्रन्यासी पं.मोहनलाल शर्मा के सान्निध्य में पहले भगवान का दुग्धाभिषेक किया गया। इसके बाद मनमोहक शृंगार कर सैकड़ों मोदकों की झांकी सजाई गई। इससे पहले मंदिर परिसर में यज्ञ का आयोजन किया गया।

33वां गणेश उत्सव में वंचित बच्चे सुनाएंगे भजन

सांगानेर की शिक्षा सागर कॉॅलोनी में 33वां श्रीगणेश महोत्सव गुरुवार को समारोहपूर्वक मनाया जाएगा। गणेशजी की भव्य झांकी के दर्शनों होंगे। वंचित वर्ग के बच्चे धार्मिक भजन व देशभक्ति गीतों पर आधारित नृत्य, नाटक आदि सार्वजनिक रूप से प्रस्तुत करेंगे। प्रतियोगिताएं भी होंगी।