--Advertisement--

पुलिस कांस्टेबल भर्ती में अब कोटा में डमी कैंडिडेट से लिखित परीक्षा पास करने वाला युवक गिरफ्तार; इधर, एलडीसी भर्ती परीक्षा में भी फर्जीवाड़ा

अजमेर के बाद पकड़ में आया फर्जी अभ्यर्थी मामला, पुलिस पेपर सॉल्व करने वाली गैंग की तलाश कर रही

Danik Bhaskar | Sep 10, 2018, 06:16 AM IST
पुलिस को योगेश की गिरफ्तारी से बड़े खुलासे होने की उम्मीद है। पुलिस को योगेश की गिरफ्तारी से बड़े खुलासे होने की उम्मीद है।

कोटा. पुलिस कांस्टेबल भर्ती-2018 परीक्षा की कथित फुलफ्रूफ व्यवस्था में आखिरकार नकल गिरोह ने सेंध लगा दी। 5 सितंबर को अजमेर में डमी कैंडिडेट बैठा लिखित परीक्षा पास करने वाले 3 युवक फिजिकल टेक्ट में पकड़े गए थे। अब कोटा में फिजिकल परीक्षा के दौरान फर्जीवाड़ा करने वाला एक अभ्यर्थी पकड़ा गया।

जयपुर के हरमाड़ा स्थित सेंटर पर अभ्यर्थी ने अपनी जगह पेपर सॉल्व करने के लिए दूसरे व्यक्ति को बैठा दिया। फर्जी अभ्यर्थी ने थंब इंप्रेशन का क्लोन बनाकर पेपर भी दे दिया। जांच की प्रक्रिया में भी फर्जीवाड़ा नहीं खुला और वह लिखित परीक्षा में पास हो गया। इसके आधार पर उसे फिजिकल टेस्ट के लिए बुला लिया गया। कोटा में जांच के दौरान फर्जीवाड़ा खुल गया ताे अभ्यर्थी को गिरफ्तार कर लिया गया। अब पुलिस नकल गिरोह के सरगना समेत पेपर सॉल्व करने वाले बदमाश को तलाश रही है। डीएसपी भंवन सिंह ने कहा कि नकल गिरोह के सरगना योगेश मीणा और फर्जी अभ्यर्थी बनने वाले बिहारीलाल की गिरफ्तारी के लिए टीम बनाई है। योगेश की गिरफ्तारी के बड़े खुलासे हो सकते हैं। तभी पता चलेगा कि दोनों ने कितने अभ्यर्थियों को परीक्षा दिलवाई है।‌

फर्जी अभ्यर्थी... राजेश के जीजा योगेश ने बिहारीलाल नामक युवक को उसके सारे दस्तावेज दिए और उसे परीक्षा में बैठाया। बिहारीलाल ने थंब इंप्रेशन का क्लोन बनाकर जयपुर स्थित सीकर रोड हरमाड़ा सेंटर पर परीक्षा में बैठा। पुलिस उसे नहीं पकड़ सकी।

असली अभ्यर्थी... रविवार को राजेश का फिजिकल कोटा में होना था। बिहारीलाल ने राजेश को वो अंगूठे का थंब इंप्रेशन का क्लोन बनाकर दिया, जो उसने जयपुर में प्रयोग लिया था। राजेश कोटा में बिहारी लाल से प्राप्त उसी अंगूठे के थंब इंप्रेशन के क्लोन को अंगूठे पर लगा कर फिजिकल देने पहुंचा, लेकिन बायोमैट्रिक से पकड़ा गया।

एलडीसी भर्ती परीक्षा : जयपुर, भरतपुर और राजसमंद में 3 फर्जी अभ्यर्थी पकड़े गए

राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से रविवार को 19 जिलों में एलडीसी भर्ती के तीसरे चरण में भी फर्जीवाड़ा सामने अाया है। परीक्षा के दौरान जयपुर, भरतपुर और राजसमंद जिलों में तीन फर्जी अभ्यर्थी पकड़े गए। जयपुर में रवि पुरी के स्थान पर प्रकाश और राजसमंद में रमेश के स्थान पर श्रवण कुमार परीक्षा देने पहुंच गया था। जांच में दोनों को ही पकड़ लिया गया। जबकि भरतपुर में राकेश सिंह गुर्जर के स्थान पर परीक्षा देने पहुंचा फर्जी अभ्यर्थी अपना नाम सही नहीं बता रहा था। तीनों ही मामलों की पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
इधर, तीसरे चरण में प्रदेशभर में 63.44% अभ्यर्थी परीक्षा देने पहुंचे। पहली पारी की परीक्षा देने के बाद 1692 अभ्यर्थी दूसरी पारी में परीक्षा देने नहीं पहुंचे। परीक्षा के लिए 19 जिलों में 1069 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। इन केंद्रों पर 3,59,902 अभ्यर्थियों को परीक्षा देनी थी। इनमें से पहली पारी में 2,29,156 और दूसरी पारी में 2,27,4,67 अभ्यर्थी परीक्षा में उपस्थित रहे। इस तीसरे चरण में पहले दो चरणों के मुकाबले अभ्यर्थियों की उपस्थिति लगभग 12 फीसदी बढ़ी है। पहले चरण में 52.90 फीसदी और दूसरे चरण में 51.33 फीसदी उपस्थिति रही थी।

भरतपुर में पकड़ा फर्जी अभ्यर्थी। भरतपुर में पकड़ा फर्जी अभ्यर्थी।
राजसमंद में पकड़ा फर्जी परीक्षार्थी (टी शर्ट में) तथा अभ्यर्थी (शर्ट पहने हुए)। राजसमंद में पकड़ा फर्जी परीक्षार्थी (टी शर्ट में) तथा अभ्यर्थी (शर्ट पहने हुए)।