• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • News
  • Jaipur - सियासी बंद बाजार-स्कूलों तक, कई खुले रहे कई बंद
--Advertisement--

सियासी बंद बाजार-स्कूलों तक, कई खुले रहे कई बंद

कांग्रेस की ओर से पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दामों में लगातार वृद्धि को लेकर सोमवार को भारत बंद का राजधानी में...

Dainik Bhaskar

Sep 11, 2018, 04:16 AM IST
Jaipur - सियासी बंद बाजार-स्कूलों तक, कई खुले रहे कई बंद
कांग्रेस की ओर से पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के दामों में लगातार वृद्धि को लेकर सोमवार को भारत बंद का राजधानी में मिलाजुला असर देखने को मिला। कांग्रेस के बंद की वजह से शिक्षण संस्थाएं और व्यापारी वर्गों में भी सियासी असर दिखाई दिया। कांग्रेस के बंद के समर्थन में कुछ निजी स्कूलों में रविवार शाम ही छुट्टी का ऐलान कर दिया गया था। वहीं विरोधी विचारधारा वाले ज्यादातर स्कूल खुले रहे।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, जिला अध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास, नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सीपी जोशी, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. चन्द्रभान सहित अनेक नेताओं ने पांच बत्ती से अजमेरी गेट तक पैदल मार्च किया। वहीं, पूर्व सांसद डॉ. महेश जोशी, पूर्व मंत्री बृजकिशोर शर्मा, अमीन कागजी, पुष्पेंद्र भारद्वाज, सुरेश मिश्रा, अर्चना शर्मा, पवन गोयल, लालचंद कटारिया, अशोक शर्मा, घनश्याम सिंह, डॉ. वेदप्रकाश शर्मा, राहुल तंवर, लक्की मोरानी ने समर्थकों के साथ वाहन में बैठकर घूमे और व्यापारियों के बंद के समर्थन का धन्यवाद दिया।

5 दिन में दूसरे बंद के 2 चेहरे

बाजार में सियासत... बंद कराने वाले Vs बंद रोकने वाले







कई जगहों पर तो कांग्रेस नेताओं को लोगों ने सवर्ण समाज के भारत बंद में शामिल नहीं होने पर उलाहना भी दिया।

स्कूलों की नीति... बंद समर्थक Vs बंद विरोधी

ये स्कूल बंद रहे : सेंट एंसलम मानसरोवर, सेंट एंसलम मालवीय नगर, सेंट जेवियर सी स्कीम, सेंट जेवियर नेवटा, सोफिया, माहेश्वरी स्कूल, रेयान इंटरनेशनल, सेंट मेरी।

ये स्कूल खुले रहे : आदर्श विद्या मंदिर, महाराजा भवानी सिंह, एसएमएस स्कूल, महारानी गायत्री देवी, इंडिया इंटरनेशनल, कैंब्रिज कोर्ट, रुक्मणी बिड़ला।

इसलिए बंद के 2 चेहरे... 6 सितंबर Vs 10 सितंबर

पांच दिन में दूसरी बार भारत बंद। दोनों के अलग नजारे। 6 सितंबर को सर्व समाज के बंद के दौरान किसी राजनीतिक दल का दखल नहीं था। 10 सितंबर का बंद पूरी तरह राजनीतिक रहा। इसमें स्कूलों से लेकर बाजारों तक में राजनीतिक विचारधारा के भेद खुलकर सामने आया। तब जो स्कूल बंद थे, अब खुले रहे। ऐसा ही बाजारों में हुआ।



X
Jaipur - सियासी बंद बाजार-स्कूलों तक, कई खुले रहे कई बंद
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..