--Advertisement--

लापरवाही / दीपावली की मेंटेनेंस के नाम पर 200 कॉलोनियों की बिजली गुल, परेशान होते रहे लोग



Power cut in 200 colonies in the name of maintenance
X
Power cut in 200 colonies in the name of maintenance

  • 30 तक चलेगी मेंटिनेंस

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 03:16 PM IST

जयपुर। जयपुर डिस्कॉम के सिटी सर्किल की ओर से दीपावली से पहले सिस्टम मेंटेनेंस करने के नाम पर शुक्रवार को शहर की 200 से ज्यादा कॉलोनियों में बिजली गुल कर दी गई। शहर में ज्यादातर इलाकों में 6 से 9 घंटे तक बिजली गुल रहने का लोगों ने विरोध किया है।

दोनों कंपनियों में तालमेल की कमी

  1. बिजली कंपनी व प्रसारण कंपनी के इंजीनियर्स में तालमेल नहीं होने से शहर के एक ही इलाके के लोगों को दो से तीन बार बिजली कटौती झेलनी पड़ रही है। मेंटेनेंस का काम 30 अक्टूबर तक चलेगा। शहर का ज्यादातर इलाका रिंग सिस्टम व आरएमयू (रिंग मैन यूनिट) से जुड़ा होने के बावजूद बिजली गुल रख कर लोगों को परेशान किया जा रहा है।

  2. ऐसे में करोड़ों रुपए खर्च कर लगाए आरएमयू सिस्टम पर सवाल उठ रहे हैं। जयपुर डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता जेके मिश्रा का कहना है कि 33 केवी व 11 केवी सिस्टम की मेंटेनेंस के कारण बड़े इलाके में बिजली बंद करनी पड़ी है। अब मेंटेनेंस जल्दी ही करवाने की कोशिश कर रहे हैं।

  3. फिर मेंटीनेंस पर हुए खर्च का मतलब क्या?

    मानसून के दौरान लोगों को नियमित बिजली सप्लाई करने के लिए बिजली कंपनी की ओर से शहर के 32 सबडिवीजनों में हर साल अप्रैल में गर्मियों से पहले और सितंबर- अक्टूबर में दीपावली से पहले सिस्टम की मेंटीनेंस की जाती है। मेंटीनेंस के लिए रोजाना औसतन 15 से 30 इलाकों की 50 से ज्यादा कॉलोनियों में बिजली गुल रहती है।
     

  4. वहीं मजदूर, उपकरण व नया सिस्टम के लिए करीब 70 से 80 लाख रुपए ज्यादा खर्च किए जाते है। इसके बावजूद ओवरलोड या हल्की बूंदाबांदी व तेज हवा आते ही लोगों की बिजली गुल हो जाती है।

     

    कॉल सेंटर व शिकायत केंद्रों पर भी लोगों की समस्याओं की सुनवाई नहीं होती है। लोगों का आरोप है कि इंजीनियरों ने फील्ड में काम करने के बजाए कागजों में ही मेंटीनेंस की खानापूर्ति कर दी।

  5. साल में दो बार मेंटेनेंस, फिर भी आए दिन बिजली गुल

    बिजली कंपनियों के इंजीनियरों बेहतर व गुणवत्तापूर्ण बिजली सप्लाई करने के लिए साल में दो बार सिस्टम मेंटेनेंस करती है। इसके अलावा शोभायात्रा व धार्मिक पर्वों के पहले तारों को ऊंचा करने व पेड़ों की छंगाई के लिए भी आए दिन बिजली काटते है। इस मेंटेनेंस के बावजूद लोड व वोल्टेज के कारण बिजली बंद हो जाती है। बिजली गुल के कारण लोगों का चैन से रहना व काम करना भी दूभर है।
     

    कंटेंट : श्याम राज शर्मा

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..