राेबाेटिक इंजीनियरिंग में अब बेहतर प्लेसमेंट

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:16 AM IST

Jaipur News - सिटी रिपोर्टर

Jaipur News - rajasthan news better placement now in rhetatic engineering
सिटी रिपोर्टर
इंजीनियरिंग अाैर एमबीए काेर्स के प्रति स्टूडेंट्स कम हाेते इंटरेस्ट काे बढ़ावा देने के लिए अब नए काेर्स डवलप किए जा रहे हैं। बेहतर प्लेसमेंट की वजह से क्लाउड टेक्नाेलाॅजी एंड इनफाॅर्मेंशन सिक्याेरिटी, डेटा साइंस, राेबाेटिक इंजीनियरिंग के काेर्स काे बढ़ावा दिया जा रहा है। साथ ही ग्राफिक डिजाइन एंड एनिमेशन में एडवांस स्टडी को प्रायोरिटी दी जा रही है तो कॉमर्स में कंपनीज से टाइअप करके स्टूडेंट्स को मार्केट के अनुसार कोर्स ऑफर किए जा रहे हैं। इसमें फाइनेंशियल मार्केट्स इंटिग्रेटेड विद एसएमआई यूके और ग्लोबल मार्केटिंग इंट्रीग्रेटेड विद डीएमआई आयरलैंड जैसे कोर्स देखने को मिल रहे हैं। इन सभी कोर्स की जानकारी शुक्रवार से बिडला ऑडिटोरियम में शुरू हुए तीन दिवसीय दैनिक भास्कर एजुकेशन एंड कॅरियर फेयर-2019 में पहले दिन स्टूडेंट्स ने ली।

एडवांस टेक्नीक : 90 फोंट किए डिजाइन, ग्राफिक का बढ़ता क्रेज

ग्राफिक एंड एनिमेशन यंगस्टर्स की पसंद बनता रहा है, जिसकी वजह एडवांस टेक्नीक और स्टडी है। प्रोफेसर रितुराज ने बताया, नए 90 फोंट बनाए हैं, जिसमें से एक रजिस्टर्ड भी है। लेआउट डिजाइन करना कोर्स में शामिल किया गया है, जिसकी एडवांस स्टडी मार्केट को देखते हुए तैयार की गई है। वहीं वीजीयू से डीन डा. बलदेव कहते हैं, ग्राफिक एंड कम्यूनिकेशन डिजाइन, इंटीरियर एंड प्रोडक्ट डिजाइन व फैशन एंड टैक्सटाइल डिजाइन जैसे कोर्स नए हैं, जिनकी डिमांड बढ़ी है।

कॅरियर अाॅप्शन : गूगल व स्टॉक एक्सचेंज के अनुसार कोर्स डिजाइन

क्लाउड टैक्नोलॉजी एंड इनफॉर्मेशन सिक्योरिटी, डेटा साइंस और रोबोटिक इंजीनियरिंग जैसे कोर्स वर्ल्ड वाइड हैं, जो स्टूडेंट्स के लिए कॅरियर ऑप्शन हैं। कम्प्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग से डा. मनीष शर्मा कहते हैं, गूगल, आईबीएम और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज से टाइअप करके कोर्स डिजाइन किए गए हैं। इसमें कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विद आईबीएम सर्टिफाइड, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग विद गूगल सर्टिफाइड कोर्स शुरू किए हैं। वहीं स्कूल ऑफ हैल्थ केयर में हॉस्पिटल एंड हेल्थ मैनेजमेंट में स्टूडेंट्स का इंटरेस्ट बढ़ा है।

X
Jaipur News - rajasthan news better placement now in rhetatic engineering
COMMENT