दर्जनों घुंघरुओं की खनक के बीच एक एक घुंघरू का अस्तित्व जीवंत किया

Jaipur News - सिटी रिपोर्टर

Bhaskar News Network

Aug 20, 2019, 10:00 AM IST
Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
सिटी रिपोर्टर
जवाहर कला केंद्र में चल रहे पांच दिवसीय फेस्टिवल ‘नृत्यम' के चौथे दिन दिल्ली के पं. हरीश गंगानी का कथक नृत्य अाकर्षण का केंद्र रहा। हरीश की प्रस्तुति की खासियत उनका फुटवर्क रहा। उन्हाेंने लय-ताल की अलग अलग इकाइयों की एक-एक मात्रा काे अपने पैराें की सशक्त थाप से जीवंत किया।

इस प्रस्तुति में उनके घुंघरुअाें की खनक भी खास थी। उन्हाेंने दर्जनाें घुंघरुअाें की खनक के बीच एक-एक घुंघरू के अस्तित्व काे जीवंत कर अपने नृत्य काैशल काे दर्शाया।

ताल दीपचंदी में दी प्रस्तुति : कार्यक्रम की शुरूआत गणेश स्तुति से हुई। समूह नृत्य के माध्यम से कलाकारों द्वारा ताल अद्धा एवं राग यमन में ‘गणपति विध्न हरण गजानन‘ रचना पर मनमोहक प्रस्तुति दी गई। इसके बाद हरीश गंगानी द्वारा भाव से परिपूर्ण ‘रंगीला शंभु‘रचना पर एकल नृत्य पेश किया गया। उन्होंने ताल दीपचन्दी एवं राग पीलू में रचित इस गीत के माध्यम से राजा राजेश्वर ने भगवान शिव को परिवार सहित अपने यहां आमंत्रित करने के भाव जगाए। कार्यक्रम के दौरान नृत्य गुरू ने जयपुर कथक घराने की खासियत विलम्बित ताल में गत, ठाठ, उठाने, आमद, परणे, गणेश परण, आदि की भी प्रस्तुति दी।

इन कलाकाराें ने भी दी प्रस्तुति : कार्यक्रम में हरीश गंगानी के अतिरिक्त अक्षिता दाधीच, पारूल दत्त, नंदिनी खण्डेलवाल, नेहा भारद्वाज, नम्रता गौड़, नैनिका गंगानी और आद्या कालिया शामिल थे। प्रकाश व्यवस्था का संचालन जयपुर के दिनेश प्रधान ने किया।

अाज हाेगा समापन पांच दिवसीय ‘नृत्यम‘ समाराेह के अंतिम दिन मंगलवार शाम 7 बजे जयपुर कथक केंद्र द्वारा ‘जल’ नृत्य संरचना की प्रस्तुति दी जाएगी।

Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
X
Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
Jaipur News - rajasthan news lived the existence of a ghungro amid a tangle of dozens of ghungroos
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना