पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Jaipur News Rajasthan News Menopause To Help Prevent Cancer And Infection

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैंसर और इंफेक्शन सेे बचाव के लिए मीनोपॉज करवाएं मैनेज

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
हैल्थ रिपोर्टर जयपुर

मीनाेपॉज आने पर स्त्रीत्व खो जाने के डर से शरमाइए नहीं। खुलकर डॉक्टर से बात करें। आपकी सोच में आया बदलाव ना सिर्फ कई बीमारियों से बचाएगा। बल्कि मीनाेपाॅज के बाद खुशनुमा जिंदगी भी देगा। इसे स्टिगमा नहीं समझे। डॉक्टर्स के मुताबिक, महिलाओं की इस पर चुप्पी साधने से उनमें इंफेक्शन, हडिड्यों का कमजाेर,सैक्सुअल लाइफ का प्रभावित होना और कैंसर का रिस्क बना रहता है। यही चुप्पी और ड़र कई बार उनके लिए जानेलवा साबित हो सकता है। यदि वे लक्षणों को पहचानते हुए जल्दी ट्रीटमेंट लेना शुरू कर दें। वहीं, हाथ-पैर और जोड़ो में दर्द को बुढ़ापे का दर्द मानते हुए सहन नहीं करें। इससे विटामिंस और एस्ट्रोजन हॉर्मोन की कमी से हडिड्यां कमजोर होने से फ्रैक्चर का खतरा बना रहता है। साथ ही क्वालिटी ऑफ लाइफ नहीं जी पाती है। इसलिए इसे नजरअंदाज करने की बजाय डॉक्टर्स से सलाह लेकर इसे मैनेज करवाएं।

हॉट फ्लेशेज अवॉइड नहीं करे, खुलकर डॉक्टर सेे बात करें
30 परसेंट महिलाएं कोर ब्रेन सिंड्रोम से ग्रसित हैं। इनमें डिप्रेशन, अनिद्रा, उदासीनता, हॉट-फ्लेशेज आना बहुत सामान्य हैं। 60 में से 10 परसेंट महिलाएं ही हॉट फ्लेशेज के बारे में बता पाती हैं। दर्द आने पर वे इसे भी नजरअंदाज करती रहती हैं। 30-40 परसेंट महिलाएं इस सिंड्रोम से ग्रसित है। 60 परसेंट महिलाओं में हॉट फ्लेशेज आतेे हैं। इनमें से दस परसेंट महिलाएं ही यह बता पाती हैं कि उन्हें किसी तरह की प्रॉब्लम हैं।

आजकल ऑस्टियोसारपेनिक ओबेसिटी एक सामान्य परेशानी बन चुकी है। इसमें पेट मोटा और हाथ-पैर पतले होने के साथ-साथ मसल्स मास कम हो जाता है। 70 परसेंट महिलाएं इससे ग्रसित होने की वजह से उनमें कार्डियोवस्कुलर डिजीज बढ़ती है।

रिसर्च: ज्यादा बच्चों के जन्म से भी जल्द आता है मीनोपॉज
अन्य देशों की तुलना में इंडिया में मीनोपॉज की घटती उम्र पर रिसर्च शुरू हो चुकी है। आनुवंशिक के साथ-साथ ज्यादा बच्चे होना भी इसका रिस्क फैक्टर है। 70 परसेंट महिलाओं में जल्दी ओवरी निकाल देने से सर्जिकल मीनोपॉज हो रहा है। यह 30-35 साल की उम्र में शुरू हो चुका है। 70 परसेंट महिलाओं में हॉट-फ्लेशेज की प्रॉब्लम रहती हैं। मीनोपॉज के बाद हर दूसरी महिला ऑस्टियोपोरोसिस और हर चौथी महिला में फ्रैक्चर होता है।

यह बीमारी का संकेत
एक महिला को मीनोपॉज के बाद अगले 25 सालों में कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं। मीनोपॉज इसका भी एक संकेत हैं। इसलिए ब्लड टैस्ट करवाएं। ताकि हार्ट अटैक और फ्रैक्चर की संभावना को टाला जा सके।

निश्चित मात्रा में लगाएं एस्ट्रोजन क्रीम
स्त्रीत्व को बनाए रखने के लिए एस्ट्रोजन क्रीम का इस्तेमाल करें। इससे सैक्सुअल लाइफ प्रभावित नहीं होगी। पैपस्मीयर और सभी ब्लड टैस्ट करवाने के बाद ही इसका इस्तेमाल करें। इसका ज्यादा नहीं निश्चित मात्रा में इस्तेमाल करना चाहिए। अन्यथा ब्लीडिंग हो सकती है। वहीं, इसका असर भी नहीं होगा। हर महिला को अलग-अलग डोज दी जाती है। महावारी बंद होने के एक साल बाद सभी चैकअप करवाने के बाद ही इस क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं। सामान्य रिपोर्ट आने पर सप्ताह में एक से दो बार ही इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

एक्सपर्ट पैनल :

डॉ.सुनीला खंडेलवाल, डॉ. ओबी नागर, गाइनीकोलॉजिस्ट, जयपुर

लाइफ एक्सपेक्टेंसी

2011 के सेंसेक्स के मुताबिक,

96 िमिलयन मिहलाएं इंिडया में

2026 मंे कितनी महिलाअों को होगा मीनोपॉज

401
िमिलयन मीनोपॉज

किस कैंसर का कितना खतरा

इंडिया में एवरेज ऐज

47.5
साल

ब्रेस्ट कैसर

12-27

अन्य बीमारियों का खतरा
35-40

ऑस्टियोपीनिया

42

कॉर्डियोवस्कुलर डेथ, हार्ट प्रॉब्लम

क्या करें: लो फैट और प्रोटीनयुक्त डाइट ले, एक्सरसाइज करें।

इलाज: पीरियड रुकने के 12 महीने बाद हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी शुरू करनी चाहिए। इसके अलावा टेबलेट, इंजेक्शन, जैल भी उपलब्ध हैं। विदेशों में हॉर्मोन के पैच भी लगाए जाते हैं।

71 साल

इनकी खासियत यह है कि 35-64 साल की उम्र में कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।

सर्विक्स

13-35

ओवरी

3.5-7.8

इस ग्रुप में चर्बी का ज्यादा होना, ब्लड प्रेशर जयादा होना। मीनोपॉज से पहले ऐसा नहीं होता है।

अन्य देशों में

एवरेज ऐज

50
साल

एंड्रोमेट्रियम

.7-2.2

35-40

ऑस्टियोपोरोसिस

आंकड़े प्रतिशत में

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें