• Hindi News
  • National
  • Jaipur News Rajasthan News Mughal Period39s Influence On Modern Indian Fashion

मुगल काल का आधुनिक भारतीय फैशन पर प्रभाव

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रोहित बल का गुलदस्ता

कश्मीर में पले-बढ़े डिजाइनर रोहित बल के काम पर मुगलकालीन संस्कृति का प्रभाव दिखाई देता है। इंडियन कुतूर वीक 2018 गुलदस्ता के ड्रामेटिक कलर पैलेट के साथ मुगल पेंटिंग बुकेट्स स्कल्प्टेड ब्लाउज पर दिखाई दी थी। ब्राइडल स्पेक्ट्रम पर भी इसका असर है।

आभूषण में फारसी संस्कृति : हेरिटेज जूलरी ब्रांड सुनीता शेखावत, रानीवाला 1881 और ज्वेल्स ऑफ जयपुर स्थापित नाम हैं। इन्होंने एक दशक से अधिक समय पहले फूलों का व्यापक उपयोग, सूक्ष्म रूप से उत्कीर्ण पैटर्न, पैस्ले और पासस, नथ को तैयार किया है। जड़ाऊ, नवर| जेम्स, मीनाकारी वर्क जो कि पर्शिया में मुख्य रूप से शुरू हुआ था, उसे भारत में मुगल शासकों द्वारा शुरू किया। फारसी डिजाइन का भारतीय आभूषणों पर प्रभाव दिखाई देता है।

फैशन & स्टाइल
अस्मिता अग्रवाल

भारतीय उपमहाद्वीप की स्थानीय संस्कृति और समाज पर मुगल कालीन कला और कलात्मकता का रचनात्मक प्रभाव डिजाइनरों पर भी हुआ है। मध्यकालीन युग के रंगों के कई पैटर्न, मोटिफ्स और कलर कॉम्बिनेशन का असर आज के दौर तक भी चला आ रहा है। वसंत, गर्मी या सर्दी, मौसम कोई भी हो मुगल कालीन युग का असर हमेशा दिखाई देता है। विरासत में मिली कलात्मकता विविधता को भी जन्म देती है और इसका असर जूलरी, कपड़ों पर देखने को मिलता है। फैब्रिक, मिनिएचर पेंटिंग, धागे और ज़रदोजी का काम शुरूआत में सिर्फ दुल्हन के आभूषण और कपड़ों पर दिखाई देता है, लेकिन आधुनिक सिल्हूट में एसेसरीज और फुटवियर तक पर मुगलकाल का प्रभाव है।

सुकेत धीर का ही फॉर शी

इंटरनेशनल वूलमार्क प्राइज से सम्मानित डिजाइनर सुकेत धीर ने मिनिमलिस्टिक अप्रोच के साथ मेन्सवियर को बैलेंस करने का प्रयास किया है। उनके ही फॉर शी नाम के कलेक्शन में प्रिंटेड वुमन्स वियर ब्लेज़र, शर्ट, जंपसूट, ट्राउजर्स, जैकेट को ब्रोकेड और सिल्क फैब्रिक में तैयार किया गया है।

लहंगे-साड़ीे पर मुगल इमारतें

राहुल मिश्रा ने फ्लोई गाउन्स, सिन्च्ड वेस्ट स्कर्ट, अनारकली, प्रिंसेस नेक सिमेट्रिकल ब्लाउज बनाए हैं। स्प्रिंग समर कलेक्शन में नेचर और आर्किटेक्चर का खूबसूरत संयोजन किया है। लहंगे और साड़ी पर मुगल इमारतों के बाहर बने त्रिकोण और बेलबूटों की साड़ी और लहंगों पर एम्ब्रॉयडरी की है।

5 एलीमेंट में मुगल ग्राफिक्स : डिजाइनर राधिका गुप्ता ने अपना लेबल 5 एलीमेंट 2005 में शुरू किया था। उन्होंने क्लच और फुटवियर को वायब्रेंट कैनवास पर पेश किया। जूतियों पर मुगल पेंटिंग्स ग्राफिक्स के रूप में है। लेबल लव टू बेग ने अपना प्रीत कलेक्शन पेश किया। उनके कलेक्शन शैंपेन फिरदौस में पोटली पाउच को कांच के मोतियों से सजाया गया है।

मुगलों ने भारत पर लंबे समय तक शासन किया है। इसलिए भारतीय संस्कृति और कला पर मुगल काल का बहुत गहरा प्रभाव है। भारतीय डिजाइनरों की इस यात्रा में भी मुगल काल के स्थापत्य कला, वास्तुकला और सिल्हूट्स का असर दिखाई देता है। उसकी एक झलक...

मुगलकालीन पेंटिंग से है प्रेरित

मोनिका एंड करिश्मा के लेबल जेड ने अपने स्प्रिंग समर कलेक्शन अवाय में प्रस्तुत किए मुगल लैंडस्केप से लोगों का ध्यान खींचा है। लहंगा चोली कश्मीर की सुंदरता और मुगल पेंटिंग से प्रेरित हैं। गहरे लाल रंग की जाली के साथ रेड, ब्लू, गोल्ड रिफ्लेक्टिंग कलर का दुपट्‌टा है।

खबरें और भी हैं...