--Advertisement--

थ्रॉम्बेक्टमी से बचाई मरीज की अपंगता

Dainik Bhaskar

Jan 09, 2019, 04:12 AM IST

Jaipur News - जयपुर | प्रदेश में स्ट्रोक के मामले हर दिन बढ़ते जा हे हैं और इस वजह से मरीजों को पूरी जिंदगी बिस्तर पर बितानी पड़ जाती...

Jaipur News - rajasthan news poor disability from thrombacty
जयपुर | प्रदेश में स्ट्रोक के मामले हर दिन बढ़ते जा हे हैं और इस वजह से मरीजों को पूरी जिंदगी बिस्तर पर बितानी पड़ जाती है। लेकिन समय पर अस्पताल और डॉक्टर्स की सूझबूझ से मरीज को बचाया जा सकता है। ऐसे ही एक मामले में फोर्टिस हॉस्पिटल में 56 साल की कमला को बचाने में डॉक्टर्स ने सफलता हासिल की है। अस्पताल के न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. नीतू रामरखियानी ने बताया कि कमला को अस्पताल लाने के दौरान उनकी जुबान लड़ाखड़ा रही थी और उनके शरीर के बाएं हिस्से के अंग में कमजोरी का अहसास हो रहा था। तुरंत थ्रॉम्बेक्टमी करने का फैसला लिया। यह एक एंडोवस्कुलर प्रोसीजर है जिसमें नसों के जरिए वायर को भीतर ले जाकर थक्के की जांच की जाती है और अगर थक्का होता है तो उसे निकालने के लिए स्टेंट का इस्तेमाल किया जाता है। यह बेहद जटिल प्रोसीजर होता है। यह ध्यान रखना आवश्यक था कि मरीज का ब्लड प्रेशर ज्यादा नीचे न जाए। उन्होंने बताया कि स्ट्रोक के लक्षणों को पहचान कर तुरंत मरीज को अस्पताल पहुंचाने के संबंध में जागरूकता की काफी कमी है।

X
Jaipur News - rajasthan news poor disability from thrombacty
Astrology

Recommended

Click to listen..