पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Jaipur News Rajasthan News Stigma In Child Trafficking Society Change Possible Through Efforts Beniwal

चाइल्ड ट्रैफिकिंग समाज में कलंक, प्रयासों से बदलाव संभव: बेनीवाल

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जयपुर|चाइल्ड ट्रैफिकिंग समाज में कलंक है। कई बच्चे बाल श्रम, तस्करी एवं यौन हिंसा का शिकार हो जाते है। बाल अधिकारों के संरक्षण के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित ग्राम पंचायत एवं ब्लॉक स्तरीय समितियों को सशक्त करने की नितांत आवश्यकता है। ये उद‌गार राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्षा संगीता बेनीवाल ने जेएलएन मार्ग स्थित कलानेरी सभागर में कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रन फाउंडेशन, गायत्री सेवा संस्थान उदयपुर, कलानेरी संस्थान एवं नया सवेरा के संयुक्त तत्वाधान में राज्य स्तरीय जन संवाद कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान साहित्य अकादमी के पूर्व अध्यक्ष साहित्यकार एवं लेखक वेदव्यास ने बाल अधिकारों पर प्रकाश डालते हुए बाल तस्करी एवं बाल अधिकारों के हनन की घटनाओं को चिंताजनक बताया। वेदव्यास ने राजस्थान सरकार से प्रदेश को बाल श्रम मुक्त बनाने का आव्हान किया। विशिष्ठ अथिति पूर्व महापौर ज्योति खण्डेलवाल रही। उन्होंने जन संवाद की सराहना करते हुए आम जन को बल संरक्षण हेतु आगे आने को कहा। विशिष्ठ अतिथि राजस्थान बाल आयोग सदस्य डॉ. शैलेन्द्र पंड्या ने जे.जे. एक्ट, पोक्सो अधिनियम एवं बाल विवाह हो जाने के पश्च्यात इसे निरस्त करने के प्रावधानों की जानकारी देते हुए प्रदेश को बाल मित्र बनाने का आव्हान किया।
खबरें और भी हैं...