सनस्क्रीन से नहीं होता कैंसर, हमारी स्किन के लिए एसवीएफ 15 बेहतरीन

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:20 AM IST

Jaipur News - हैल्थ रिपोर्टर जयपुर अगर तेज धूप में निकल रहे हैं तो सन स्क्रीन जरुर लगाएं। यह चमड़ी को झुलसने और काला...

Jaipur News - rajasthan news sunscreen does not contain cancer svf 15 for our skin
हैल्थ रिपोर्टर
अगर तेज धूप में निकल रहे हैं तो सन स्क्रीन जरुर लगाएं। यह चमड़ी को झुलसने और काला नहीं पड़ने देंगे। ये अल्ट्रावॉयलेट ए और बी किरणों से त्वचा की बीमारियों से बचाएंगें। अलग-अलग टाइप के सनस्क्रीन लगाने से साइडइफैक्ट्स भी नहीं होते हैं। इंडियंस की स्किन के लिए एसवीएफ 15 सनस्क्रीन पर्याप्त है। इसे नहीं लगाने पर धूप में हमारी स्किन लाल पड़ जाती है। यह 15 गुना प्रोटेक्शन बढ़ाते हुए 93 परसेंट तक स्किन को सुरक्षा देता है।

किस तरह की स्किन के लिए कौनसा सन स्क्रीन


आेरल सन स्क्रीन से नहीं आएंगी झुर्रियां

विटामिन ए, कैरोटिन, डाइकोपिन, विटामिन सी आदि ये सभी टेबलेट में उपलब्ध हैं। ये एंटी-ऑक्सीडेंट्स की तरह काम करते हैं। इससे यूवी ए और बी चमड़ी में ऑब्जर्व नहीं हो पाती है। जिससे झुर्रिंयां नहीं पड़ती है। इससे एजिंग देेरी सेे शुरू होने के कारण व्यक्ति लंबे समय तक यंग दिखाई देता है। स्किन पर ग्लो बना रहता है।

तक अल्ट्रावायलेट किरणों से बचाव

घमौरियों से बचाव

कॉटन के कपडे़ पहनें। पसीने को रगड़े नहीं। दो से तीन बार नहाएं। इससे रोम छिद्र खुलेंगे। पसीने के जरिए शरीर से पौटेशियम और नमक बाहर निकलता है। इसे रिप्लेस करने के लिए नारियल पानी और नींबू पानी पिएं। टरमरिक पाउड़र लगाना फायदेमंद नहीं है। बल्कि इसे लगाने पर जलन बढ़ती है। पसीने में भिगे हुए प्लास्टिक व लेदर की चेयर पर नहीं बैठे। पसीना आने से सरफेस की हीट बढ़ने से स्किन बर्न होती है। स्किन उतरने पर क्रीम लगाएं।

किन बीमारियों का खतरा

मल्टीपल स्कोलोरोसिस, एक्यूट डर्मेटाइटिट्स, फोटो एलर्जिक रिएक्शन, पिगमेंटेशन, कालापन आना आदि।

कितने तरह के सनस्क्रीन

फिजिकल और ऑर्गेनिक। फिजिकल में कैलेमाइन, जिंक ऑक्साइड, आयरन ऑक्साइड, टाइटेनियम ऑक्साइड। इनसे चमड़ी में यूवी रेज ऑब्जॉर्व नहीं हो पाती हंै।

एसवीएफ क्या होता है

यह सन प्रोटेक्टिव फैक्टर है। जिस सनस्क्रीन में एसवीएफ 15 मौजूद होता है। वो 93% तक प्रोटेक्शन देते हैं। जिनमें एसवीएफ 30 मौजूद होता है। वो 97% तक हमें सुरक्षा देते हैं।

कैंसर कंट्रोवर्सी: कोई साइडइफेक्ट्स नहीं

एफडीए ने हाल ही में यह बयान जारी किया है कि सनक्रीन में मौजूद कैमिकल ऑक्सीबिनजोन और रेटिनॉल कैंसर के रिस्क फैक्टर हैं। जबकि स्टडीज और रिसर्च में यह साबित नहीं हुआ है। एक्ने होना ही एक मात्र इसका साइड इफेक्ट है।

पाउड़र लगाना फायदेमंद नहीं

धूप में त्वचा जलने पर पपड़ी उतरना शुरू हो जाती है। घमौरियां होने पर बच्चों में पानी से भरे हुए दाने होते हैं एडल्ट में पानी से भरे हुए दानों की साइज बढ़ने से यह ये लाल हो जाते हैं। ठंडे सेक और रगड़ने पर दाने फूट सकते हैं। पसीने की ग्रंथियां बंद होने से चुभन महसूस होती है। पसीना िनकलने पर इंफेक्शन, दर्द व पस निकलता है।

-डर्मेटोलाॅजिस्ट एक्सपर्ट पैनल:

डॉ. पुनीत भार्गव, डॉ. मनीषा निझावन, जयपुुर

डॉ. दिलीप कछवाहा, जोधपुर

X
Jaipur News - rajasthan news sunscreen does not contain cancer svf 15 for our skin
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543