50 की उम्र के बाद प्रोस्टेट का साइज बढ़ने, ओवरएक्टिव ब्लेडर से कंट्रोल नहीं होता यूरीन

Jaipur News - डॉ.एसएस यादव, यूरोलॉजिस्ट, एसएमएस हॉस्पिटल, जयपुर। ट्रीटमेंट: ओएबी और प्रोस्टेट के बढ़े हुए साइज का इलाज...

Feb 15, 2020, 08:50 AM IST
Jaipur News - rajasthan news urin does not control after increasing age of prostate overactive bladder

डॉ.एसएस यादव, यूरोलॉजिस्ट, एसएमएस हॉस्पिटल, जयपुर।

ट्रीटमेंट: ओएबी और प्रोस्टेट के बढ़े हुए साइज का इलाज उपलब्ध है। मेडिसिन व सर्जरी से ट्रीटमेंट किया जाता है। नियमित दवाइयां लेने से पेशेंट को रिलीफ मिलता है। यूरीन की धार बढ़ती है। जिन्हें ओएबी की समस्या है। उन्हें सोने से एक-दो घंटे पहले ही पानी पी लेना चाहिए। ताकि उन्हें यूरीन जाने के लिए अर्जेंसी महसूस नहीं हो पाएं। इससे यूरीन लीक नहीं होगा। यूरीन कम बनेगा। इससे फ्रिक्वेंसी कम होने से यूरीन लीक नहीं हो पाएगा। इन पेशेंट्स को शाम के समय चाय,कॉफी, अल्कोहल ज्यादा नहीं लेना चाहिए। इससे यूरीन कंट्रोल करता है।**

आखिर ठंड में क्यों होती है परेशानी

ठंड में शरीर से पसीना बाहर नहीं निकल पाता है। इसलिए व्यक्ति जितना पानी पीता है। वो यूरीन के जरिए बाहर निकल जाता है। गर्मी के बजाय ठंड में यूरीन ज्यादा रुकता है। यूरीन पास करना अवॉइड नहीं करें। इसे पास नहीं करने से एक साइकिल डवलप होने से व्यक्ति यूरीन पास नहीं कर पाता है।

बार-बार जाना पड़ता है यूरीन

धार कमजोर पड़ने के कारण लोगों को यूरीन पास करने में ज्यादा समय लगता है। ओवर एक्टिव ब्लेडर की वजह से यूरीन पास करने में दिक्कत होती है। इसमें प्रोस्टेट के बड़े साइज की तरह बार-बार यूरीन आने के साथ अर्जेंसी भी हो सकती है। ओवर रिएक्टिव ब्लेडर जैसी परेशानी महिला व पुरुषों दोनों में होती है। यह पेनफुल ब्लेडर सिंड्रोम भी कहलाता है। जबकि प्रोस्टेट की प्रॉब्लम सिर्फ पुरुषों में होती है। ओएबी की वजह से प्रोस्टेट के लक्षण बढ़ जाते हैं। सभी पेशेंट्स में एक जैसे लक्षण नहीं आते हैं। बार-बार यूरीन जाना पड़ता है। जांच के बाद ओवर रिएक्टिव ब्लेडर और प्रोस्टेट दोनों को अलग-अलग को पहचाना जाना सकता है।

गर्मी ही नहीं ठंड में भी यूरीन पास नहीं होना सामान्य परेशानी है। हालांकि, यह परेशानी 50 साल की उम्र के बाद ज्यादा होती है। इस उम्र में व्यक्ति का प्रोस्टेट बढ़ना शुरू हो जाता है। सामान्यतः लोगों में इसके लक्षण नहीं आने के कारण मालूम नहीं चल पाता है। प्रोस्टेट का सामान्य साइज 25 एमएल होता है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ इसका साइज बढ़ने से लक्षण आना शुरू हो जाते हैं। इसका साइज बढ़ने पर लोगों को बार-बार यूरीन जाना पड़ता है। फ्रिक्वेंसी ज्यादा होने के कारण यूरीन रोक पाना मुश्किल होता है। इससे कपड़ों में ही यूरीन लीक होना शुरू हो जाता है।

X
Jaipur News - rajasthan news urin does not control after increasing age of prostate overactive bladder

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना