जयपुर / दाे एडीजी के खिलाफ मामला दर्ज करने वाले एसएचओ ने मांगी सेवानिवृत्ति

Dainik Bhaskar

May 17, 2019, 01:48 AM IST



SHO, who filed case against ADG, sought retirement
X
SHO, who filed case against ADG, sought retirement

  • एसएचओ ने अर्जी काे वाॅट्सएप पर वायरल किया ताे हड़कंप मचा

जयपुर. रींगस में दाे साल पहले छह जनाें द्वारा घर में मारपीट, छेड़छाड़ और जमीन के फर्जी दस्तावेज बनाकर रजिस्ट्री के मामले का अनुसंधान गलत करने के आराेप में दाे एडीजी समेत पांच पुलिसकर्मियाें पर मुकदमा दर्ज करना ज्याेतिनगर एसएचओ काे भारी पड़ गया।

 

एसएचओ साेन चंद वर्मा काे पुलिस मुख्यालय और कमिश्नरेट के अधिकारी तीन दिन से मानसिक रूप से बिना बताए मुकदमा दर्ज करने पर कार्रवाई की धमकी दे रहे थे। प्रताड़ना से परेशान हाेकर साेन चंद वर्मा ने डीजीपी काे अर्जी देकर स्वैच्छिक सेवानिवृति मांग ली। इसके बाद साेन चंद ने अर्जी की प्रति वाॅट्सएप पर वायरल कर दिया। इससे विभाग में हड़कंप मच गया। मुख्यालय से साेन चंद काे कमिश्नरेट कार्यालय बुलाया गया। यहां अधिकारियाें ने साेन चंद को समझाया। साेन चंद शांत हुए ताे डिप्टी एसपी सुबाेध शर्मा उनकाे गाड़ी में बैठाकर ले गए। 

 

यह था पूरा मामला
रींगस की एक महिला ने थाने में 2017 में रिपाेर्ट दी थी कि उसके घर पर महेन्द्र सिंह, सुरेन्द्र और सतवीर समेत छह जने आए और ताेड़फाेड़ व छेड़छाड़ की। पुलिस ने एफआर लगा दी थी। आराेप था कि पुलिस अधिकारियाें ने गलत अनुसंधान किया था। 

 

इंस्पेक्टर मिलने नहीं आया था...मामले को देख रहे हैं
^ जानकारी में आया कि इंस्पेक्टर सेवानिवृति मांगी है। लेकिन वह मेरे पास नहीं आया और ना ही यह सामने आया कि अधिकारियाें ने मुकदमा दर्ज करने के पर उसकाे प्रताड़ित किया है। किसी भी परिवादी का मुकदमा ताे दर्ज करना ही है। फिर भी मामले काे दिखवा रहे हैं। - कपिल गर्ग, डीजीपी


केस दर्ज करने पर अफसरों ने ने परेशान कर दिया था
^मुकदमा दर्ज करने के बाद मुझे अधिकारियाें ने परेशान कर दिया। मुझे अब मीडिया की ही मदद चाहिए। मैने स्वैच्छिक सेवानिवृति के लिए अर्जी दे दी है। (इसके बाद साेन चंद फफक-फफक कर राेने लगे)। - साेन चंद वर्मा, एसएचअाे ज्याेतिनगर, जयपुर पुलिस कमिश्नरेट

COMMENT