जयपुर / चेन स्नेचिंग की 100 वारदातें करने वाले गैंग के छह बदमाश गिरफ्तार, लूटी गई 35 सोने की चेन बरामद

जयपुर पुलिस की गिरफ्त में शातिर चेन स्नेचर गैंग के सदस्य जयपुर पुलिस की गिरफ्त में शातिर चेन स्नेचर गैंग के सदस्य
X
जयपुर पुलिस की गिरफ्त में शातिर चेन स्नेचर गैंग के सदस्यजयपुर पुलिस की गिरफ्त में शातिर चेन स्नेचर गैंग के सदस्य

  • लूटी गई चेनों को खरीदने वाला व्यापारी भी गिरफ्तार, अन्य की तलाश जारी
  • सरेराह व विवाह स्थलों पर महिलाओं को निशाना बनाकर गले से लूटते थे चेन
  • नार्थ जिले में माणकचौक थाना और जिला स्पेशल टीम की कार्रवाई 

दैनिक भास्कर

Feb 05, 2020, 08:41 PM IST

जयपुर. शहर में सरेराह भीड़ भाड़ वाले बाजार व विवाह स्थलों पर महिलाओं के गले से सोने की चेन व मंगलसूत्र लूटने वाले गैंग के छह बदमाशों को पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। यह कार्रवाई नार्थ जिले में माणकचौक थाना पुलिस और जिला विशेष टीम तथा कमिश्नरेट की स्पेशल टीम ने मिलकर की। मामले में पुलिस ने लूटी गई चेन खरीदने वाले एक व्यापारी को भी गिरफ्तार किया है। इस गिरोह के कब्जे से 35 लूटी गई चेन बरामद कर ली है। इस गैंग ने पिछले साल अगस्त, सितम्बर और अक्टूबर माह में माणक चौक, सुभाष चौक, जालूपुरा, कोतवाली, अशोक नगर, विधायकपुरी, झोटवाड़ा, आदर्श नगर व मोती डूंगरी थाना इलाके में 100 से ज्यादा लूट की वारदातों को अंजाम दिया है।

सुबह 6 से 11 बजे के बीच करते है चेन स्नेचिंग की वारदात

अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी इमरान उर्फ जाम निवासी जालुपूरा, फैसल उर्फ फैजल निवासी टोंक, मुकेश कुमार पहाड़िया निवासी टोंक, मोहम्मद इकराम उर्फ सोयल निवासी कोतवाली जिला टोंक, पुरुषोत्तम दास (75) निवासी कोतवाली, जिला टोंक और सादिक उर्फ शोएब खान निवासी उत्तरप्रदेश हाल जालुपुरा जयपुर है। टोंक निवासी बदमाश चेन स्नेचिंग के लिए बस से जयपुर आते है। यहां आने के बाद शाम को 6 से 11 बजे चोरी की बाइक से अलग-अलग इलाके में रैकी करके वारदातों को अंजाम देते है। इसके बाद जयसिंहपुरा खोर निवासी परिचित के घर शरण ले लेते थे। उसके बाद अगले दिन सुबह टैक्सी से टोंक जाकर लूटी गई चेन को बेच देते थे। 

पुलिस से बचने के लिए लूट के केस में टोंक में बंद हो गए बदमाश

एडिशनल कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता के मुताबिक गत नवम्बर माह में सीएसटी टीम के सदस्य एएसआई राजेश शर्मा व एएसआई द्वारका प्रसाद शर्मा को सूचना मिली कि चेन स्नैचिंग करने वाली गैंग के कुछ बदमाश जयसिंहपुरा खोर स्थित एक मकान में ठहरे हुए है। पुलिस टीम ने उस मकान में दबिश दी, लेकिन बदमाश पहले ही वहां से भाग निकले थे। तब बदमाशों को पुलिस द्वारा पीछा करने की भनक लगी तो गैंग ने वारदात रोक दी। फिर भी पुलिस टीम ने करीब 15 दिन तक टोंक में ठहरकर रैकी की और बदमाशों की पहचान कर ली।

वहीं, जयपुर पुलिस की गिरफ्त में आने के डर से दो बदमाशों ने आपस में झगड़ा करके 200 रुपए की लूट का मामला बनाया और टोंक पुलिस से गिरफ्तार होकर जेल चले गए। इस दौरान जयपुर में काम कर रही अन्य टीमों ने सभी घटनास्थलों के आस-पास मिले सीसीटीवी फुटेज का एनालिसिस करके जालूपुरा निवासी इमरान व सादिक को पकड़ लिया। जिनसे पूछताछ के बाद टोंक जेल बंद फैसल व मुकेश को प्रॉडक्शन रिमांड पर लिया। इन चारों से आमने सामने की पूछताछ में लूटी गई चेन बिकवाने वाले दलाल इकराम व खरीददार पुरुषोत्तम को चिन्हित कर पकड़ा। जिनके कब्जे से लूटी गई 35 चेन बरामद कर ली। बाकी चेनों को गलाने की बात सामने आई है। 

इस टीम ने अंडर कवर रहकर तीन माह तक रैकी की, फिर किया गिरोह का खुलासा:

डीसीपी नार्थ डॉ. राजीव पचार ने बताया कि पिछले साल लगातार हुई वारदातों के बाद एडिशनल डीसीपी सुमित गुप्ता, एडिशनल डीसीपी विमल सिंह नेहरा व माणकचौक थानाप्रभारी जितेन्द्र सिंह राठौड़ के नेतृत्व में गठित टीम में एएसआई हरिओम सिंह, हेडकांस्टेबल महिपाल गुर्जर, सुरेन्द्र सिंह, झाबरमल, कांस्टेबल रामनिवास, हनुमान सिंह, विनित, सुरेश, बुधराम, रोहिताश, डूंगर सिंह, अनिल तंवर व सुरेन्द्र पाल को शामिल किया। जिन्होंने घटनास्थलों के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज निकालकर बदमाशों की पहचान की। इसके बाद अंडर कवर रहकर मुखबिरों के जरिए लगातार संपर्क रखकर गिरोह के बदमाशों तक पहुंचे और फिर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

फोटो व रिपोर्ट: उदय चौधरी

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना