काम दिलाने के बहाने लाए लोगों पर किया दवा का परीक्षण, 9 की तबीयत बिगड़ी / काम दिलाने के बहाने लाए लोगों पर किया दवा का परीक्षण, 9 की तबीयत बिगड़ी

ये कैसा क्लीनिकल ट्रायल: वीकेआई स्थित मालपाणी हॉस्पिटल का मामला

Apr 21, 2018, 01:51 AM IST
Test drug used on people pretending to get work in jaipur

जयपुर. काम दिलाने का झांसा देकर लाए गए लोगों पर क्लीनिकल ट्रायल करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। वीकेआई इंस्ट्रीयल एरिया स्थित मालपाणी हॉस्पिटल में दवा का यह ट्रायल चल रहा था। दवा देते ही 9 लोगों की तबीयत बिगड़ गई और मामला भी अस्पताल से बाहर आ गया। झांसा देकर चूरू से 21 और भरतपुर से चार लोग लाए गए थे। इस बीच, ट्रायल करने वाले डॉक्टर का कहना है कि हमें ट्रायल के लिए मंजूरी मिली हुई है और हम ट्रायल करते भी हैं। हालांकि, वे बोले-तबीयत बिगड़ने का आरोप लगा रहे कौन हैं और इन्हें कौन लाया, यह हमें नहीं पता। दूसरी ओर, चूरू और भरतपुर से लाए गए इन लोगों ने कहा कि इनके क्षेत्र के ही लोग इन्हें काम दिलाने के नाम पर यहां लाए और अस्पताल में रुकने के लिए कहा।


नियम क्या: मरीज तैयार हो तो ही कर सकते हैं क्लीनिकल ट्रायल
- क्लीनिकल ट्रायल किसी व्यक्ति पर दवा का असर चैक करने का तरीका है। क्लीनिकल ट्रायल करने के लिए सबसे पहले अस्पताल को क्लीनिकल एथिकल कमेटी से अनुमति लेनी होती है। कमेटी में डॉक्टर, वकील, समाजसेवी सहित नौ लोग होते हैं। साथ ही यदि जिस व्यक्ति पर ट्रायल किया जाना है वह उस बीमारी से संबंधित मरीज होना चाहिए। ट्रायल से पहले डॉक्टर, कंपनी के अधिकारी को मरीज को उस दवा के बारे में सारी जानकारी देनी होती है। यदि मरीज उसके लिए तैयार होता है तो ही उस पर ट्रायल किया जा सकता है।

ट्रायल करने वाले डॉक्टर ने कहा- हमारे अस्पताल को इसकी मंजूरी मिली हुई है, जो तबीयत बिगड़ने का दावा कर रहे हैं, उन्हें कौन लाया, हमें पता नहीं

- अस्पताल के संचालक अंशुल मालपाणी ने बताया कि डॉ. राहुल सैनी ही हमारे क्लीनिकल ट्रायल के इंचार्ज है। इन लोगों पर भी डॉ. सैनी ही क्लीनिकल ट्रायल कर रहे थे। डॉ. सैनी ने कहा- हमारे यहां क्लीनिकल ट्रायल की जाती है, इसीलिए ये लोग यहां आए। इन्हें कौन लाया, यह हमें नहीं पता। अभी ग्लेक्सो कंपनी की दवा का ऑस्टियो आर्थराइटिस का ट्रायल होना था लेकिन वह शुरू नहीं हुआ था। हमनें कोई दवा नहीं दी। ये लोग ऐसा क्यों बोल रहे हैं, मुझे नहीं पता। झूठ ही बोल रहे होंगे। दवा देने से पहले स्क्रीनिंग करते हैं और पता करते हैं कि मरीज को दवा दी जा सकती है या नहीं। इसके बाद ट्रायल करते हैं। तबीयत बिगड़ने की स्थिति नहीं आती।

जो इन्हें लाया वह बोला- आईपीएल मैच दिखाने थे, पर उसे पता ही नहीं मैच कब है
- भरतपुर से लाए गए चार लोगों में से फतेह सिंह और भागीरथ ने बताया कि भरतपुर का ही महावीर उन्हें काम दिलाने के लिए यहां लाया। महावीर ने कहा- एक दिन के एक हजार रुपए तक दिला दूंगा। महावीर से पूछा गया तो वह बोला-इन्हें आईपीएल मैच दिखाने के लिए लाया था। उसका एक दोस्त विष्णु अस्पताल में ही काम करता है, इस कारण इन्हें यहां रोका है। जब उससे पूछा गया कि मैच कब है तो बोला-जब भी होगा, तब देख जाएंगे। इसीलिए यहां आ गए। लेकिन यहां आते ही पता चला कि चूरू से भी कुछ लोगों को यही कहकर लाया गया था और हंगामा चल रहा है। अब हम तो यहां से चले जाएंगे।

एक दिन के 500 रु., खाना-पीना और रहने का बंदोबस्त करने की बात कही थी

- चूरू के डिगारिया गांव से लाए गए 21 लोगों में से 12 अपने गांव लौट गए हैं। भरतपुर से 4 लोग लाए गए थे। जिन लोगों की तबीयत बिगड़ी थी उनमें शामिल डिगारिया गांव निवासी सांवरमल, कालूराम, मूलाराम, लच्छू राम, सोहनलाल, भागू राम, ओमराम, बनवारी और भंवराराम ने बताया कि उनके पास के ही पलास गांव के शेरसिंह ने उनसे संपर्क किया था और कहा था कि अस्पताल में एक कैंप लगाया जाना है। उसके काम के लिए चलना है। एक दिन के 500 रुपए, खाने-पीने और रहने का बंदोबस्त भी होगा। केवल कैंप का काम और अन्य सुविधाओं को देखते हुए गांव के 21 जने यहां आ गए। इन्हें एक वार्ड में रोक दिया गया। 19 अप्रैल को सुबह करीब 10 बजे चाय-नाश्ता दिया गया और करीब 11.30 बजे एक-एक टेबलेट यह कहते हुए दी गई कि इस दवा से थकान दूर होगी और खाना आराम से पच जाएगा। कुछ लोगों ने यह कह दवा लेने से मना कर दिया कि वे ठीक हैं और उन्होंने कभी कोई दवा ही नहीं ली।

जिन्होंने दवा ली उन्हें चक्कर, उल्टी व नींद की शिकायत
- जिन लोगों ने दवा ली, उन्हें चक्कर, उल्टी, नींद, बेहोशी और पेशाब नहीं आने की शिकायत हो गई। डॉक्टर को कहा गया तो उन्होंने कहा कि थोड़ी देर में सब सही हो जाएगा। बाद में अन्य लोगों पर भी दवा लेने के लिए दबाव बनाया गया। लेकिन वे किसी बहाने से अस्पताल से निकल गए।

X
Test drug used on people pretending to get work in jaipur
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना