जयपुर / हिमाचल से लाकर करते थे ड्रग्स की सप्लाई, तस्करी में महिला सहित तीन आरोपी गिरफ्तार

जालुपूरा थाने में गिरफ्तार ड्रग्स स्मगलर और उनसे जब्त कार जालुपूरा थाने में गिरफ्तार ड्रग्स स्मगलर और उनसे जब्त कार
X
जालुपूरा थाने में गिरफ्तार ड्रग्स स्मगलर और उनसे जब्त कारजालुपूरा थाने में गिरफ्तार ड्रग्स स्मगलर और उनसे जब्त कार

  • ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत अब 124 प्रकरण दर्ज कर 144 नशेड़ियों को पकड़ा
  • जयपुर पुलिस कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच टीम की कार्रवाई, ड्रग्स व नकदी बरामद

Dainik Bhaskar

Dec 13, 2019, 08:07 PM IST

जयपुर. हिमाचल से लाकर जयपुर में सप्लाई की जाने वाली मॉडर्न ड्रग्स की तस्करी के मामले में कमिश्नरेट की क्राइम ब्रांच ने गुरुवार रात को एक महिला सहित तीन जनों को पकड़ लिया। पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी टोंक रोड स्थित लखनपुरी निवासी तरूण उर्फ जॉन, पश्चिम बंगाल निवासी शिप्रा दास उर्फ पायल व करौली के टोडाभीम निवासी कार चालक हेतराम के कब्जे से 40 ग्राम मॉडर्न ड्रग्स, 51 हजार रुपए व एक लग्जरी कार बरामद कर ली। जब्त की गई ड्रग्स की कीमत दो से ढाई लाख रुपए बताई जा रही है।

एडिशनल कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता ने बताया कि कमिश्नरेट द्वारा चलाए जा रहे ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत नशे के तस्करों को पकड़ने के लिए एडीसीपी विमल सिंह नेहरा, इंस्पेक्टर लखन सिंह खटाणा, सुरेन्द्र यादव व विरेन्द्र के नेतृत्व टीमें गठित की गई है। उक्त टीमों ने गुरुवार रात को अलग-अलग जगह से महिला तस्कर सहित तीनों को गिरफ्तार कर लिया।

प्राथमिक पूछताछ में सामने आया कि शिप्रा दास में वर्ष 2008 में बार डांस करने लगी। जहां पर वह ड्रग्स लेने की आदि हो गई। उसके बाद जैसे-जैसे तस्करों से संपर्क बढ़ने लगे तो जयपुर, जोधपुर, उदयपुर के अलावा मुम्बई, गोवा, दिल्ली, बैंगलोर सहित कई शहरों में खुद ड्रग्स सप्लाई करने लग गई। इस बीच जयपुर में तरुण से संपर्क हुआ तो बड़े स्तर तस्करी करना शुरु कर दिया।

आरोपी शिप्रादास को पश्चिम बंगाल की युवतियों को बंधक बनाकर देह व्यापार करवाने के मामले में सीबीआई गिरफ्तार कर चुकी है। तब डेढ़ साल तक तिहाड़ जेल में रही थी। इस दौरान पति ने तलाक दे दिया।जेल से छूटने के बाद शिप्रा दास गुडगांव की एक होटल में कमरा लेकर एक युवक के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रहने लगी और वहां से वापस वेश्यावृति शुरु कर दी।

आरोपी तरूण से पूछताछ में सामने आया कि वह भी मूल रूप से पश्चिम बंगाल का रहने वाला है। वह मुम्बई की कई होटलों में बर्तन धोने का काम करता था। इस दौरान ड्रग्स का आदि हो गया। 16 साल पहले जयपुर आकर हुक्का बार में काम किया। उसके बाद ट्यूर एंड ट्रेवल और इवेंट का काम शुरु किया। इस दौरान पार्टी और होटलों में लोगों से जान पहचान होने के बाद तस्करी में उतर गया।

आरोपियों ने बताया कि हिमाचल से लाने वाली मॉडर्न ड्रग्स रेव पार्टी व हाईप्रोफाइल लोगों को सप्लाई करते है। इस मॉडर्न ड्रग्स को तस्करी के दौरान (माधुरी दीक्षित, मम्मी डैडी व ओनली) के नाम से बताते है। आरोपी जॉन सोशल मीडिया पर एक ग्रुप बना रखा है। जिसमें अलग-अलग राज्यों के युवक-युवतियों को जोड़ रखा है। डिमांड के अनुसार सप्लाई करता रहता है। कमिश्नरेट द्वारा चलाएं जा रहे ऑपरेशन क्लीन स्वीप के तहत अब 124 प्रकरण दर्ज करके 144 नशेड़ी व तस्करों को गिरफ्तार कर लिया।

खबर व फोटो: उदय चौधरी

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना