जयपुर / प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लोन दिलाने का झांसा देकर करोड़ों रुपए हड़पने वाले तीन ठग गिरफ्तार

करधनी थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी करधनी थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी
शातिर ठगों से बरामद दस्तावेज, जो पीड़ितों को झांसा देकर लिए थे शातिर ठगों से बरामद दस्तावेज, जो पीड़ितों को झांसा देकर लिए थे
X
करधनी थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपीकरधनी थाना पुलिस की गिरफ्त में तीनों आरोपी
शातिर ठगों से बरामद दस्तावेज, जो पीड़ितों को झांसा देकर लिए थेशातिर ठगों से बरामद दस्तावेज, जो पीड़ितों को झांसा देकर लिए थे

  • करधनी थाना पुलिस की कार्रवाई, ठग के कब्जे से कार भी बरामद
  • सैंकड़ों की संख्या में ग्राहकों के फार्म, फर्जी चैक व आईडी प्रुफ मिले

दैनिक भास्कर

Feb 03, 2020, 06:38 PM IST

जयपुर. प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लोन दिलवाने का झांसा देकर करोड़ों रुपए हड़पने वाले शातिर तीन ठगों को करधनी थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसके कब्जे से काफी संख्या में फर्जी चैक, सैंकड़ों ग्राहकों के फार्म व आईडी प्रुफ भी बरामद किए है। डीसीपी (पश्चिम) कावेंद्र सिंह सागर ने बताया कि आगरा निवासी गिरफ्तार आरोपी शशिकांत शर्मा (32), आरोपी प्रदीप सिंह (42) और रणजीत सिंह निवासी तहसील भिंड, मध्यप्रदेश हाल रमेश विहार, बैनाड़ रोड जयपुर निवासी इस संबंध में देवेंद्र सिंह (21) निवासी तारानगर, खिरणी फाटक, झोटवाड़ा ने करधनी थाने में 1 फरवरी को मुकदमा दर्ज करवाया था।

आगरा में कंपनी होना बताकर तीन तरह के लोन दिलवाने की बात कही

रिपोर्ट में बताया कि कुछ समय पहले देवेंद्र सिंह का आरोपियों से संपर्क हुआ था। तब उन्होंने आगरा में परफेक्ट माइक्रो मनी यार्ड एंटरप्राइजेज व सेडा नाम से कंपनी खोल रखी है। इसके अलावा उनके पास प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत लघु उद्योग हेतु लोन दिलाने के लिए टेंडर है। जिसमें तीन प्रकार के लोन दिए जाते है। इनमें शिशु लोन में 50 हजार रुपए तक का, किशोर लोन के तहत 50 हजार से 5 लाख रुपए तक का और तरुण लोन के तहत 5 लाख से 10 लाख रुपए तक के लिए लोन दिया जाता है। 

400 से ज्यादा फार्म भरवाकर रुपए वसूले और फर्जी लोन स्वीकृत पत्र कर फर्जी चैक दे दिए

आरोपियों ने यह भी बताया कि यह लोन स्वरोजगार के लिए सूक्ष्म और लघु उद्योग के लिए दिए जाते है तथा लोन प्रक्रिया के बारे में भी बताते हुए आवश्यक दस्तावेज मांगे। साथ ही, एक ग्राहक को 1000 रुपए फार्म के लिए मांगे। लोन स्वीकृत होने के बाद लोन रकम का 10 प्रतिशत कमीशन देना होगा। यह कागजी प्रक्रिया पूरी होने के बाद 120 दिनों में लोन मिलेगा। इस तरह, आरोपियों ने लोन दिलाने के बहाने 400 से ज्यादा फार्म भरवा लिए और फर्जी लोन स्वीकृत पत्र दिखाकर फर्जी चैक भरकर पीड़ितों को दे दिए। इस पर पुलिस ने तीनों आरोपियों को बैनाड़ रोड से गिरफ्तार कर लिया।

फोटो व रिपोर्ट: उदय चौधरी

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना