सिलेबस पर सियासत / दीया का ट्वीट- इतिहास अनभिज्ञों का मोहताज नहीं, डोटासरा का जवाब- राजनीति ठीक नहीं



twitter war between diya kumari and govind singh dotasra on changing syllabus
X
twitter war between diya kumari and govind singh dotasra on changing syllabus

  • सिलेबस में बदलाव काे लेकर शिक्षा मंत्री डाेटासरा से दीयाकुमारी और देवनानी की टक्कर
  • डोटासरा ने लिखा - किसने स्कूली पाठ्यक्रम को आरएसएस की प्रयोगशाला बनाया, जनता जानती है

Dainik Bhaskar

May 16, 2019, 12:19 AM IST

जयपुर. स्कूलों में पढ़ाई जाने वाली किताबों में इतिहास को लेकर पाठ्यक्रम में बदलाव पर भाजपा और कांग्रेस नई सियासी लड़ाई में उलझ गए हैं। इसे लेकर सबसे पहले एक दिन पहले भाजपा की राजसमंद से लोकसभा प्रत्याशी दीयाकुमारी और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के बीच ट्वीटर पर लड़ाई छिड़ी। बुधवार को सियासत और तेज हो गई। दीयाकुमारी और डोटासरा ने एक-दूसरे पर तंज कसे। इसी बीच पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी भी कूद पड़े।

 

स्कूली पाठ्यक्रम की पुस्तक के कवर से जौहर की तस्वीर हटाने को लेकर बुधवार को दीयाकुमारी के ट्वीट पर डोटासरा ने जवाब दिया कि हम छोटी बच्चियों को जौहर करना नहीं सिखा सकते। इस पर दीयाकुमारी ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। जवाब में शिक्षा मंत्री ने भी दीया पर पलटवार किए। पूर्व शिक्षा मंत्री देवनानी ने डोटासरा को घेरा तो उन्होंने उनको स्वयंभू प्रोफेसर बताते हुए चाटुकािरता न करने की सलाह दी।

 

दीया जनता सब जानती है आप जैसों की मोहताज नहीं
जनता सब जानती है। राजस्थान का इतिहास आप जैसे अनिभिज्ञों का मोहताज नहीं है। मैं हमारे मेवाड़ के मान के लिए, राजस्थान के इतिहास की शान के लिए आपके विरुद्ध हमेशा खड़ी रहूंगी।

 

डोटासरा राजकुमारी जी हर चीज पर राजनीति ठीक नहीं
एक्जेक्टली!!! राजकुमारी जी, जनता सब जानती है किसने स्कूली पाठ्यक्रम को आरएसएस की प्रयोगशाला बनाया और कौन अच्छी नीयत और ईमानदारी से काम कर रहे हैं। हर चीज पर राजनीति ठीक नहीं। 

 

दीया दुष्कर्म जैसी शर्मसार करने वाली घटनाएं छुपाते हैं
आप कहते हैं, छोटी बच्चियों को जौहर करना नहीं सिखा सकते, काश आप सती प्रथा व जौहर में अंतर समझ पाते! आप अलवर में सामूहिक बलात्कार जैसी शर्मसार करने वाली घटनाएं छुपाते हैं, वीर-वीरांगनाओं के इतिहास को बदलते हैं।

 

डोटासरा जो हुआ गलत हुआ, इसे बार-बार क्यों कुरेदते हो
जो हुआ बहुत गलत हुआ और दोषियों को सजा भी मिलेगी लेकिन क्या दलित महिला के साथ हुए कुकृत्य पर मरहम लगाने की बजाय उसे बार-बार कुरेदने का प्रयास किया जाना निंदनीय नहीं है ?

 

दीया क्या राहुल का अलवर आना भी कुरेदना है?
जी,आपकी सरकार ने प्रशासन का गलत इस्तेमाल करके चुनावों के चलते इतनी जघन्य घटना को दबा दिया व आप हमें मरहम लगाने की नसीहत दे रहे हैं? फिर आपके अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अलवर आगमन को भी जख्म कुरेदना कहा जाएगा? आंखें खोलिये,जनता को सब साफ दिख रहा है।


डोटासरा आपको किताबें भिजवा रहा हूं खुद देख लें
पाठ्यक्रम में बदलाव राजस्थानी संस्कृति का तो नहीं लेकिन आरएसएस के इरादों पर जरूर पानी फेर देने वाला है। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप के नाम में कोई कांट-छांट नहीं की गई है, बाकी आपके पास किताबें भिजवा रहा हूं। कृपया खुद देख लें।

 

 

 

प्रताप पर भिड़े देवनानी और डाेटासरा

 

देवनानी वीर-वीरांगनाओं के बलिदान का अपमान करके कांग्रेस अपने आलाकमान की चाटुकारिता करने में निम्न स्तर पर उतर गई है। 


डोटासरा  देवनानी जी,आप मुझसे बड़े हैं, (स्वयंभू) प्रोफेसर हैं, आपके मुख से चाटुकारिता जैसे शब्द अच्छे नहीं लगते.. ख़ैर आपने बात छेड़ दी है तो कुछ दिन पुराना अखबार का टुकड़ा मिला, शेयर कर रहा हूं।  (इसमें उन्हाेंने एक खबर पाेस्ट की जिसकी हेडिंग थी...देवनानी ने वाहवाही लूटने के लिए पुस्तक में से नेहरू के अंश हटाए)


देवनानी आपने 7वीं की पुस्तक में लिखा राणा प्रताप ने हल्दीघाटी का युद्ध जीता,10वीं की पुस्तक में यह युद्ध अनिर्णित रहा और 12वीं की पुस्तक में लिखा है राणा प्रताप युद्ध हार गये। कौन सा इतिहास सरकार पढ़ाना चाहती है?

 

डाेटासरा देवनानी जी, अपनी जानकारी थोड़ा दुरुस्त करिए, महाराणा प्रताप के शौर्य के बारे में आपसे अच्छा लिखा है हमने, किताबों में कुछ गलत नहीं है। हर जगह राजनीति अच्छी बात नहीं है। जनता पर भरोसा रखिये वो खुद फैसला कर लेगी कि कौन सिर्फ राजनीति कर रहे थे और कौन वास्तव में अच्छा काम कर रहे हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना