• Hindi News
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Two bookies who were angry with the police for cheating and blackmailing had murdered the young man, now arrested

जयपुर / मुखबिरी कर पकड़वाने व ब्लेकमेलिंग से नाराज दो सटोरियों ने की थी युवक की हत्या, आठ दिन बाद गिरफ्तार

नार्थ जिले की स्पेशल पुलिस टीम की गिरफ्त में कानोता में हत्या के आरोपी नार्थ जिले की स्पेशल पुलिस टीम की गिरफ्त में कानोता में हत्या के आरोपी
X
नार्थ जिले की स्पेशल पुलिस टीम की गिरफ्त में कानोता में हत्या के आरोपीनार्थ जिले की स्पेशल पुलिस टीम की गिरफ्त में कानोता में हत्या के आरोपी

  • कानोता इलाके में बांध के पास 27 नवंबर को हुई ब्लाइंड मर्डर का खुलासा
  • बेटी के ससुराल वालों के सामने पुलिस गिरफ्तार कर ले गई तो रची साजिश

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 08:52 PM IST

जयपुर. शहर के कानोता बांध के पास छह दिन पहले एक युवक के ब्लाइंड मर्डर का खुलासा करते हुए पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों आरोपी सट्‌टा व्यवसाय से जुड़े है। प्रारंभिक पूछताछ में खुलासा हुआ कि मृतक पुलिस के लिए मुखबिरी कर उन्हें गिरफ्तार करवाता था। वहीं, उनके सट्‌टे की सूचना पुलिस को नहीं देने की एवज में ब्लेकमेल कर रुपए वसूलता था। इसी बीच मृतक के मुखबिरी की वजह से पुलिस ने हत्या की वारदात के मास्टरमाइंड को उसकी बेटी के ससुराल पक्ष के सामने गिरफ्तार कर लिया। इससे बदनामी के चलते मुख्य आरोपी ने अपने साथी के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची। लेकिन पुलिस की गिरफ्त से बच नहीं सके।

पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपियों मतदाता नगर, टीपी नगर निवासी अशरफ उर्फ चकरी (34) पुत्र महबूब खान और जामडोली के गोविंद नगर निवासी सुरेश कुमार मित्तल उर्फ सन्नू चाचा (55) पुत्र किरोड़ीलाल है। गत 28 नवंबर को कानोता बांध के समीप एक युवक की लाश मिली थी। जिसका चेहरा व सिर बुरी तरह पत्थर से कुचलकर मारा गया था। बमुश्किल मृतक युवक की पहचान जयपुर परकोटा क्षेत्र में रामगंज के बाबू का टीबा निवासी असरफ उर्फ हिप्पा (21) पुत्र अल्ताफ के रूप में हुई। तब कानोता थाना पुलिस ने सरपंच की रिपोर्ट पर हत्या का केस दर्ज कर पड़ताल शुरु की।

इसी बीच नार्थ जिला पुलिस की स्पेशल टीम में शामिल हैड कांस्टेबल सुरेंद्र पाल सिंह को मुखबिर से सूचना मिली कि मृतक असरफ उर्फ हिप्पा को अंतिम बार 27 नवंबर को शाम करीब 7:30 बजे ट्रांसपोर्ट नगर चौराहे पर आरोपी सुरेश कुमार मित्तल उर्फ सन्नू चाचा और अशरफ उर्फ चकरी के साथ शराब पीते देखा गया था। ये दोनों सट्‌टेबाजी का काम करते है। तब हैडकांस्टेबल सुरेंद्रपाल की सूझबूझ से पुलिस ने घर से लापता चल रहे मृतक असरफ उर्फ हिप्पा के परिजनों से संपर्क किया।

दोनों आरोपियों को ब्लेकमेल कर मोटी रकम वसूलता था मृतक

तब परिजनों ने असरफ के शव की शिनाख्त की। इसके बाद एडिशनल डीसीपी ईस्ट मनोज चौधरी, एसीपी बस्सी मनस्वी चौधरी, कानोता थानाप्रभारी नरेंद्र खींचड़ व नार्थ जिले की स्पेशल टीम में एएसआई हरिओम सिंह, हैडकांस्टेबल सुरेंद्र पाल सिंह, कांस्टेबल विनीत यादव, कांस्टेबल नफे सिंह व कांस्टेबल दिलबाग सिंह की टीम गठित की गई। जिन्होंने दोनों आरोपियों को पकड़कर पूछताछ की तो उन्होंने असरफ की हत्या करना स्वीकार किया।

एडिशनल पुलिस कमिश्नर अशोक कुमार गुप्ता के मुताबिक पूछताछ में आरोपी सुरेश ने खुलासा किया कि वह आरोपी अशरफ उर्फ चकरी के साथ मिलकर सट्टे का काम करता था। जिसकी जानकारी मृतक असरफ उर्फ हिप्पा को थी और असरफ अक्सर दोनों आरोपियों के सट्टे के कारनामों की जानकारी पुलिस को देकर उन्हें गिरफ्तार करवा देता था। वह दोनों को ब्लेकमेल कर हर माह 5 से 7 हजार रूपए भी वसूल करता था। 

मुखबिरी पर बेटी के रिश्तेदारों के सामने पकड़कर ले गई पुलिस

पिछले दिनों 20 नवंबर को आरोपी सुरेश मित्तल को उसकी बेटी की शादी के चार-पांच दिन बाद रिश्तेदारों के सामने ही पुलिस मृतक असरफ की मुखबिरी पर उसे पकड़कर ले गई थी। ऐसे में आरोपी सुरेश मित्तल ने रिश्तेदारों के सामने अपनी बेइज्जती महसूस की। तब उसने अपने साथी आरोपी अशरफ उर्फ चकरी के साथ मिलकर असरफ उर्फ हिप्पा की हत्या की साजिश रची। गत 27 नवंबर की शाम को दोनों आरोपियों ने असरफ को ट्रांसपोर्ट नगर बुलाया। जहां उसे शराब पिलाई।

इसके बाद दोनों आरोपियों ने असरफ उर्फ हिप्पा को एक्टिवा पर बैठाकर सुमेल रोड स्थित कचरा प्लांट पर ले गए। वहां उसे दोबारा शराब पिलाई। इसके बाद ज्यादा नशा होने पर असरफ को कानोता बांध के पास सुनसान क्षेत्र में ले गए। जहां दोनों आरोपियों ने मृतक के सिर, चेहरे और शरीर के अन्य अंगों पर लोहे के सरिए और पत्थर से ताबड़तोड़ वारकर हत्या कर दी। इसके बाद दोनों वहां से एक्टिवा से फरार हो गए।

दोनों आदतन आरोपी, विभिन्न थानों में मुकदमे दर्ज
कानोता थानाप्रभारी नरेंद्र खींचड़ ने बताया कि गिरफ्तार हुए दोनों आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज है। इनमें आरोपी अशरफ उर्फ चकरी के खिलाफ जयपुर के आदर्श नगर, ट्रांसपोर्ट नगर, रामगंज और कोटा के मंडाना थानों में विभिन्न आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं, आरोपी सुरेश मित्तल उर्फ सन्नू चाचा के विरुद्ध ट्रांसपोर्ट नगर थाने में ही छह मामले दर्ज हैं। उनसे पूछताछ की जा रही है। 

खबर व फोटो: कमलेश शर्मा

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना