जयपुर / कांग्रेस में जालोर-सिरोही से वैभव गहलोत, चूरू से डूडी हो सकते हैं लोकसभा प्रत्याशी



वैभव गहलोत और रामेश्वर डूडी वैभव गहलोत और रामेश्वर डूडी
X
वैभव गहलोत और रामेश्वर डूडीवैभव गहलोत और रामेश्वर डूडी

  • लोकसभा चुनाव के प्रत्याशियों की पैनल तैयारी मीटिंग में कार्यकर्ताओं ने उठाई मांग
  • जोधपुर से भी वैभव को उतारने का प्रस्ताव

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 01:00 AM IST

जयपुर/सिरोही/चूरू. कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव में जालोर-सिरोही संसदीय सीट से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र एवं प्रदेश महासचिव वैभव गहलोत और चूरू सीट से पूर्व नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी को प्रत्याशी बना सकती है। डूडी इस बार नोखा से विधानसभा चुनाव हार गए थे। वैभव गहलोत को जोधपुर सीट से भी लोकसभा चुनाव लड़ाने का प्रस्ताव जिला कांग्रेस कमेटी ने प्रभारी मंत्री को दे दिया है। लोकसभा प्रत्याशियों के पैनल तैयार करने के लिए रविवार को बुलाई गई बैठकों में स्थानीय कार्यकर्ताओं ने यह मांग उठाई है।

 

 

लोकसभा सीट पर पैनल तैयारी मीटिंग के लिए प्रभारी मंत्री भंवर सिंह भाटी पहुंचे थे

  1. प्रभारी मंत्रियों एवं जिलाध्यक्षों की उपस्थिति में प्रदेश की सभी सीटों को लेकर ऐसी बैठकों का रविवार को आयोजन किया गया था। प्रभारी मंत्री यह आवेदन लेकर जयपुर पहुंचे हैं। जालौर-सिरोही लोकसभा सीट पर पैनल तैयारी मीटिंग के लिए प्रभारी मंत्री भंवर सिंह भाटी रविवार को यहां पहुंचे। कांग्रेस के स्थानीय नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने वैभव गहलोत को चुनाव लड़ाने की मांग रखी। तर्क था कि इससे यह सीट कांग्रेस की झोली में आ सकती है। उन्होंने सर्किट हाऊस में इच्छुक प्रत्याशियों से आवेदन भी लिए। बड़ी संख्या में वैभव समर्थक वहां पहुंचे और प्रभारी मंत्री को आवेदन पत्र सौंपा। स्थानीय नेताओं का कहना है कि गहलोत यहां से प्रबल दावेदार हैं। इसके अलावा इन दोनों जिलों में गुटबाजी में बिखरी हुई कांग्रेस एक हो जाएगी। इससे भितरघात नहीं होगा।

  2. जयपुर सीट के लिए आलाकमान पर छोड़ा

    जयपुर लोकसभा सीट से कांग्रेस के राजीव अरोड़ा, पूर्व मेयर ज्योति खंडेलवाल, पूर्व आईएएस अजय सिंह चित्तौड़ा, केके हरितवाल, रूपेश कांत व्यास, मनोज मुदगल सहित 15 और जयपुर ग्रामीण से 21 नेताओं ने दावेदारी की है। अब इसका फैसला आलाकमान पर छोड़ दिया गया है।

  3. गर्ग का आवेदन चर्चा का विषय

    आरएलडी कोटे से चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्य मंत्री बने डॉ. सुभाष गर्ग ने प्रभारी मंत्री के नाते चूरू लोकसभा चुनाव के लिए संभावित प्रत्याशियों से आवेदन लिए। इस दौरान 16 कांग्रेसियों ने लोकसभा सीट के लिए दावेदारी जताते हुए उन्हें अपने बायोडाटा सौंपे। गर्ग कांग्रेस से नहीं हैं, फिर भी उनके द्वारा कांग्रेस पार्टी के संभावित प्रत्याशियों के आवेदन लेना चर्चा का विषय बन गया। कांग्रेस के कई बड़े नेताओं ने तो उनके कार्यक्रम से ही दूरी बनाए रखी।

  4. चित्तौड़गढ़, नागौर में कार्यकर्ताओं का हंगामा

    चित्तौड़गढ़ में प्रभारी मंत्री भजन लाल जाटव की मौजूदगी में हुई बैठक में जिलाध्यक्ष मांगीलाल धाकड़ के खिलाफ नारेबाजी हो गई। लगातार हंगामे से नाराज प्रभारी मंत्री डीसीसी छोड़कर सर्किट हाउस चले गए। नागौर में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से आपसी लड़ाई थमने का नाम नहीं ले रही है। गुटबाजी फिर खुलकर सामने आ गई। कांग्रेसी आपस में उलझ पड़े। बात जैसे ही धक्का-मुक्की तक पहुंची तो कार्यालय में हंगामा देख प्रभारी मंत्री सुखराम विश्नोई, जिलाध्यक्ष जाकिर हुसैन गैसावत, पूर्व केबीनेट मंत्री हरेन्द्र मिर्धा, पूर्व सांसद ज्योति मिर्धा, पूर्व विधायक रिछपाल मिर्धा सहित अन्य बड़े नेताओं को किसी तरह भीड़ से निकालना पड़ा। 

COMMENT