--Advertisement--

जलदाय विभाग / ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने को आचार संहिता में दे दिया 2.72 करोड़ के पंप सेट खरीद का वर्कऑर्डर



Water works department gives payment order for the purchase of pump set wor
X
Water works department gives payment order for the purchase of pump set wor

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 03:09 PM IST

जयपुर. जलदाय विभाग की मेटेरियल मैनेजमेंट (एमएम) विंग ने ठेकेदारों को फायदा पहुंचाने के लिए विधानसभा चुनाव की आचार संहिता के दौरान ही 2.72 करोड़ के सबमर्सिबल पंपसेट खरीदने का वर्कऑर्डर दे दिया। यह पंपसेट सरकारी ट्यूबवेल में लगाए जाएंगे। विभाग ने प्रदेशभर के लिए 89 कैटेगरी के पंप सेट लघु उद्योगों से खरीद रहा है।

अधिकारी बोले- कुछ गलत नहीं किया

  1. एमएम विंग की मॉनिटरिंग चीफ इंजीनियर (हैडक्वार्टर ) आईडी खान के पास है। सबमर्सिबल पंप की खरीद व क्वालिटी जांच में पहले भी घपला हो चुका है। जिसकी जांच एसीबी कर रही है। विभाग के अधीक्षण अभियंता (एमएम) जय कांत महावर ने बताया कि यह रेट कॉन्ट्रेक्ट पहले ही हो गया था। पंपों की जरूरत पड़ने पर पहले तीन फर्मों को 30 अक्टूबर को वर्क ऑर्डर दिया था। इसके बाद 30 नवंबर को दूसरा वर्क ऑर्डर दिया है। नियमों का उल्लंघन नहीं किया है।

  2. यह है मामला

    जलदाय विभाग में सबमर्सिबल पंप सेट खरीदने के लिए एमएम विंग रेट कॉन्ट्रेक्ट कर रेट की सूची बनाती है। इसके बाद टेंडर में सफल ठेकेदार सीधे ही एक्सईएन को पंपसेट सप्लाई करते है। विभाग ने फरवरी 2018 में 5 स्टार रेटिंग के सबमर्सिबल पंप सेट खरीदने के लिए 20 करोड़ का रेट कॉन्ट्रेक्ट टेंडर लगाया। रेट कॉन्ट्रेक्ट में करीब 932 पंप सेट खरीदने थे। एमएम विंग ने मार्च के अंतिम सप्ताह में टेंडर खोल दिया।

  3. लेकिन टेंडर में भाग लेने वाली फर्मों की इतनी अधिक संख्या में पंप सेट सप्लाई करने की क्षमता नहीं थी। ऐसे में ठेकेदारों को फायदा देने के लिए वर्क ऑर्डर के काम को फाइलों में छह महीने तक उलझाए रखा। इसके बाद अक्टूबर के पहले सप्ताह में आचार संहिता लग गई।

  4. सरकार के चुनाव में व्यस्त होने का फायदा उठाते हुए एमएम विंग के इंजीनियरों ने चीफ इंजीनियर (हैडक्वार्टर) आईडी खान से फाइल मंजूर करवा ली और तीन फर्मों त्रिवेणी पम्पस प्रा. (जयपुर), खोवाल सबमर्सिबल वेल्लोर पंप कंपनी (जयपुर) व प्रेम इंडस्ट्रीज (जयपुर) को 31 अक्टूबर को वर्क ऑर्डर दे दिया।

  5. इन फर्मों को 45 दिन में पंप सेट सप्लाई करने थे, लेकिन अभी तक फैक्ट्रियों का निरीक्षण भी नहीं हुआ है। इस दौरान विभाग की एमएम विंग ने 30 नवंबर को दुबारा दो ठेकेदार कंपनी त्रिवेणी पम्पस प्रा. (जयपुर) व प्रेम इंडस्ट्रीज को फिर वर्क ऑर्डर दे दिया। विभाग ने दोनों बार करीब 2 करोड़ 72 लाख रुपए का वर्क ऑर्डर दिया है।

     

    न्यूज : श्याम राज शर्मा

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..