• Home
  • Rajasthan News
  • Jaisalmer News
  • विधानसभा में विधायक भाटी ने ओरण भूमि का मुद्दा उठाया
--Advertisement--

विधानसभा में विधायक भाटी ने ओरण भूमि का मुद्दा उठाया

विधायक छोटूसिंह भाटी ने विधानसभा शून्यकाल में जैसलमेर जिले में मौके पर विद्यमान ओरण भूमि को रिकार्ड में दर्ज...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:05 AM IST
विधायक छोटूसिंह भाटी ने विधानसभा शून्यकाल में जैसलमेर जिले में मौके पर विद्यमान ओरण भूमि को रिकार्ड में दर्ज करने का मुद्दा उठाया। जैसलमेर जिला रेगिस्तानी क्षेत्र होने के कारण पेड़ों को बचाने के लिए यहां के स्थानीय निवासियों ने मंदिरों का संरक्षण कर मंदिरों के आसपास की भूमि को ओरण के रूप में विकसित किया है तथा क्षेत्र में किसी भी प्रकार के पेड़ काटने को प्रतिबंधित कर उसे देवी देवाताओं की आस्था से जोड़ दिया जाता है। सरकारी नियमों के अभाव में कई गांवों में हजारों बीघा मौके पर विद्यमान ऐसे ओरण क्षेत्र को रिकार्ड में ओरण दर्ज नहीं किया गया। वर्तमान में औद्योगिकरण के अंधानुकरण व आर्थिक युग के कारण भूमि को वाणिज्यिक उद्देश्यों एवं अन्य कारणों से आवंटित होने से मौके पर मौजूद ओरण भूमि को अन्य उपयोग में लिया जाकर प्रकृति के साथ छेड़छाड़ कर स्थानीय निवासियों की आस्था से खिलवाड़ किया जा रहा है।

जैसलमेर जिले में ग्राम पंचायत मूलाना में स्थिति देगराय मंदिर की ओरण, ग्राम पंचायत पूनमनगर में स्थित जगतजी एवं आलाजी के मंदिर की ओरण, ग्राम कनोई सलखा में स्थित आलाजी के मंदिर की ओरण, देवीकोट में स्थित आशापुरा मंदिर की ओरण, ग्राम पंचायत सांगड़ में स्थित पाबूजी एवं डूंगरेचियाराय की ओरण, ग्राम पंचायत में पाबूजी की ओरण तथा अन्य कई ग्रामों में स्थित अन्य मंदिरों के आसपास के ओरण क्षेत्र को संरक्षित किया जाना आवश्यक है। ऐसे मामलो का निश्चित समय में जिले की हजारों बीघा ओरण भूमि को राजस्व भूमि में दर्ज कर जनता के साथ न्याय करें।