• Home
  • Rajasthan News
  • Jaisalmer News
  • जैसलमेर को महेंद्र सिंह ने दिलाई थी पर्यटन में पहचान
--Advertisement--

जैसलमेर को महेंद्र सिंह ने दिलाई थी पर्यटन में पहचान

जैसलमेर राज घराने सदस्य व जैसलमेर में पर्यटन को गति देने वाले पूर्व महाराज महेंद्रसिंह भाटी के स्वर्गवास पर...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:05 AM IST
जैसलमेर राज घराने सदस्य व जैसलमेर में पर्यटन को गति देने वाले पूर्व महाराज महेंद्रसिंह भाटी के स्वर्गवास पर समूचे जिले में शोक की लहर छा गई। पूर्व महाराज महेंद्रसिंह भाटी के अंतिम दर्शन के लिए जन सैलाब उमड़ा तथा नम आंखों के साथ अंतिम विदाई दी। जैसलमेर के सोनार किले के उनके पैतृक निवास जैसल केसल से उनकी बैकुंठी निकाली गई तथा बड़ाबाग स्थित श्मशान घाट पर भाटी का अंतिम संस्कार किया गया। शनिवार सवेरे से ही सोनार दुर्ग स्थित उनके पैतृक निवास जैसल केसल में अंतिम दर्शनों के लिए आमजन की आवाजाही रही। समूचे सोनार दुर्ग के व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रख अंतिम दर्शनों के लिए सभी रहवासी अपने घरों के बहार खड़े हो गए व शव यात्रा पर पुष्प वर्षा कर पूर्व महाराज को अंतिम विदाई दी। इस अवसर पर जैसलमेर पूर्व महारावल बृजराज सिंह, पूर्व युवराज चैतन्यराज सिंह, दुष्यन्त सिंह, नाचना पूर्व ठाकर विक्रम सिंह, शक्ति सिंह देवराज सिंह, विधायक छोटूसिंह, जाम खेमेन्द्रसिंह, पूर्व विधायक सांगसिंह, प्रधान अमरदीन फकीर, यूआईटी अध्यक्ष जितेन्द्रसिंह, सुजान सिंह हड्डा, दिलीप सिंह, पृथ्वीराज सिंह रंगमहल, मानसिंह देवड़ा, श्यामसिंह देवड़ा, मेघराज परिहार, सोनार दुर्ग पार्षद अरविन्द व्यास, भाजपा नेता कंवराजसिंह, अनोपसिंह पिथला, सुमन बन्ना सहित जिले के कई लोग व जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।

पहली होटल इन्होंने ही शुरू की थी : जैसलमेर के पर्यटन में मील का पत्थर माने जाते थे महेन्द्रसिंह भाटी। उन्होंने ही जैसलमेर सोनार दुर्ग में पहली होटल जैसल केसल की शुरुआत की थी। इतना ही नहीं जैसलमेर का पहला रेस्टोरेंट भी इन्होंने ही शुरू किया था। जैसलमेर पर्यटन में महेन्द्रसिंह का नाम सबसे ऊपर माना जाता है। उन्होंने जैसलमेर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए हमेशा प्रयासरत रहे।

पूर्व महाराज महेंद्रसिंह का स्वर्गवास, अंतिम दर्शन को उमड़े लोग, बड़ाबाग में हुआ अंतिम संस्कार

जैसंलमेर. पूर्व राज परिवार सदस्य की अंतिम यात्रा में शामिल लोग।