• Home
  • Rajasthan News
  • Jaisalmer News
  • सरकार ने जारी की राशि, स्कूलों तक पहुंची ही नहीं, 25 स्कूलों के करीब Rs.10 लाख हुए गायब
--Advertisement--

सरकार ने जारी की राशि, स्कूलों तक पहुंची ही नहीं, 25 स्कूलों के करीब Rs.10 लाख हुए गायब

सरकार द्वारा हर साल लाखों रुपए विद्यालयों में विकास के रूप में खर्च किए जाते हैं, ताकि विद्यालयों में अध्ययनरत...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 03:30 AM IST
सरकार द्वारा हर साल लाखों रुपए विद्यालयों में विकास के रूप में खर्च किए जाते हैं, ताकि विद्यालयों में अध्ययनरत बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ ही पढ़ने के लिए बेहतर माहौल मिले। लेकिन सरकार की यह मंशा धरातल पर आते आते पूर्णतया विफल हो जाती है। जैसलमेर में शिक्षा का स्तर व ढांचा पूरी तरह से बिगड़ चुका है। जहां प्रारंभिक विद्यालयों में शिक्षकों की जबरदस्त कमी है वहीं कई विद्यालयों में बजट के अभाव में विकास कार्य ही नहीं हो पा रहे है। जिससे इन विद्यालयों में शिक्षा की बेहतर स्थिति सोचना भी गलत है। गौरतलब है कि सरकार द्वारा सर्व शिक्षा अभियान के माध्यम से प्रारंभिक व माध्यमिक विद्यालयों में विकास कार्य व अन्य विभिन्न मदों से लाखों रुपए जारी किए जाते है। इस साल भी सरकार द्वारा लाखों रुपए खर्च किए गए। लेकिन बैंक प्रबंधन की गलती व शिक्षा विभाग के अधिकारियों की उदासीनता के चलते वह पैसे स्कूलों के खातों में पहुंचे ही नहीं।

बैंक द्वारा सरकारी खाते से राशि निकाल कर खाते में डाली, लेकिन रुपए कहां गए, कोई जानकारी नहीं

स्कूलों में ट्रांसपोर्ट वाउचर, बालिका शिक्षा, एसएफजी व एसआइक्यूई के तहत जारी की गई थी राशि

25 से ज्यादा स्कूलों में एक साल में नहीं आया एक भी रुपए : जैसलमेर में प्रधानाध्यापकों द्वारा शिक्षा विभाग के अधिकारियों को यह शिकायत की गई कि उनके विद्यालय के खातों में पैसे नहीं पहुंचे है जबकि अन्य विद्यालयों की खातों में राशि आ चुकी है। जिससे उन विद्यालयों में पूरे साल में विकास कार्य पूरी तरह से ठप रहे।

राउप्रावि भोजका में सर्व शिक्षा अभियान द्वारा सितंबर महीने में एसएफजी व टीएलएम के लिए 14 हजार रुपए जारी किए गए, जो मार्च तक विद्यालय के खाते में नहीं पहुंचे। हालांकि प्रधानाध्यापक नटवर जोशी द्वारा मार्च में शिकायत दी उस आधार पर सर्व शिक्षा अभियान ने दूसरा चैक देकर राशि जारी कर दी।

राउमावि नोख में सर्व शिक्षा अभियान द्वारा एसआईक्यूई कार्यशाला के लिए राशि जारी की गई। सर्व शिक्षा अभियान के खाते से पैसे कट गए, लेकिन राउमावि नोख के बैंक खाते में यह राशि नहीं पहुंची। इसके साथ ही अन्य भी अगर किसी मद से पैसे जारी हुए हैं तो बैंक खाते में पैसे जमा नहीं होने से विद्यालय प्रबंधन को इसकी जानकारी नहीं है।

केस:1

केस:2

इन मदों से जारी की गई राशि, करीब 10 लाख हुए गायब : सर्व शिक्षा अभियान द्वारा जिले की स्कूलों में एसएफजी, टीएलएम, एसआईक्यूई, बालिका शिक्षा व ट्रांसपोर्ट वाउचर के तहत राशि जारी की गई। लेकिन 25 स्कूलों में पूरे साल में एक भी रुपए ट्रांसफर नहीं हुआ। विभिन्न मदों के लिए शिक्षा विभाग द्वारा करीब 10 लाख रुपए जारी किए गए जो इन विद्यालयों में नहीं पहुंचे हैं।

तकनीकी खामी से हुई गड़बड़ी



शिक्षा विभाग ने खातों को भी मिलाया : प्रधानाध्यापकों द्वारा इस प्रकार की शिकायत करने के बाद शिक्षा विभाग ने हरकत में आते हुए विद्यालयों के खाता संख्या का भी मिलान कर लिया है। शिक्षा विभाग द्वारा बैंक प्रबंधन को उसी खातों में राशि हस्तांतरित करने के आदेश दिए गए हैं। सर्व शिक्षा अभियान के खाते से तो पैसे उठ गए, लेकिन विद्यालयों के खातों में राशि नहीं पहुंची।